पंजाब में पहली बार ‘जनता का बजट जनता के लिए’ पेश करेंगे : हरपाल सिंह चीमा
पंजाब में पहली बार जनता का बजट जनता के लिए पेश करेंगे : हरपाल सिंह चीमा

पंजाब में पहली बार ‘जनता का बजट जनता के लिए’ पेश करेंगे : हरपाल सिंह चीमा

पंजाब में पहली बार ‘जनता का बजट जनता के लिए’ पेश करेंगे : हरपाल सिंह चीमा

कहा, ‘जनता बजट’ पर 20,000 से अधिक सुझाव प्राप्त हुए

उद्योगपतियों की तरफ से 500 से अधिक मैमोरंडम दिए गए

तकरीबन दो तिहाई सुझाव नौजवानों से और पाँच में से एक सुझाव महिलाओं से हुआ प्राप्त

चंडीगढ़, 12 मई:
    पंजाब के वित्त और योजना मंत्री हरपाल सिंह चीमा ने आज कहा कि राज्य के इतिहास में पहली बार पंजाब विधान सभा में पेश किया जाने वाला पंजाब का बजट लोगों के सुझावों और मश्वरों के आधार पर तैयार किया जायेगा जो सभी पंजाबियों की भावनाओं और विचारों का सही प्रगटावा होगा।

    यहाँ पंजाब भवन में पत्रकारों को संबोधन करते हुये स. चीमा ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के निर्देशों पर बजट तैयार करने के लिए जनता की सलाह लेने का फ़ैसला किया गया था, जिसको जनता का काफी समर्थन मिला है। उन्होंने कहा कि लोगों ने बहुत खुल कर सुझाव दिए हैं। वित्त मंत्री ने कहा कि पंजाब का बजट पेश करते समय प्रत्येक लोगों, उद्योगपतियों, व्यापारिक संगठनों, नौजवानों, महिलाओं और बाकी हर क्षेत्र के नुमायंदों की तरफ से पेश किये सुझाव और मश्वरों पर गौर किया जायेगा।

    वित्त मंत्री ने कहा कि पोर्टल और ई-मेलें पर मिले 20,000 से अधिक सुझावों में से दो तिहाई सुझाव नौजवानों से मिले हैं, जिन्होंने अत्याधुनिक अकादमिक सहूलतों के साथ बेहतर शिक्षा, रोजग़ार के और ज्यादा मौके, ई -गवर्नेंस पहलकदमियों की माँग उठाई है। जनता बजट की प्रक्रिया में से सामने आए मुख्य मुद्दों में रोजग़ार के नये मौके पैदा करना, शिक्षा और सेहत के बुनियादी ढांचे पर अधिक ख़र्च करना, राज्य के सर्वपक्षीय विकास के लिए बिजली और उद्योग के बुनियादी ढांचे में सुधार करना शामिल है।

    वित्त मंत्री ने कहा कि उद्योगपतियों से 500 से अधिक लिखित मैमोरंडम भी प्राप्त हुए हैं, जिन्होंने व्यापार समर्थकीय माहौल, अत्याधुनिक बुनियादी ढांचा, इंस्पेक्टर राज के ख़ात्मे, नियमों के सरलीकरण के साथ कारोबार करने में आसानी और ग़ैर कानूनी अभ्यासों को रोकने के लिए बेहतर लागूकरण की माँग की है। वित्त मंत्री ने आगे कहा कि हर पाँच में से एक सुझाव महिलाओं की तरफ से प्राप्त हुआ है। उन्होंने लड़कियों के लिए समान मौके और बेहतर स्वास्थ्य और शिक्षा सहूलतों की माँग की है।

    सुझावों संबंधी स्पष्ट रूप में बताते हुये वित्त मंत्री ने बताया कि कुल 20,384 सुझावों में से जनता पोर्टल पर 14,859 सुझाव आए हैं जबकि ई-मेलों पर 5025 और 500 पत्र और मैमोरंडम दस्ती प्राप्त हुए हैं। 
    जनसंख्या के आंकड़ों का खुलासा करते हुये उन्होंने कहा कि 72.70 फ़ीसद सुझाव पुरूष वर्ग से प्राप्त हुए हैं जिनमें सबसे अधिक 31 से 40 उम्र वर्ग से (45.42 फ़ीसद) प्राप्त हुए हैं। इसी तरह महिलाओं की तरफ से 19.89 फ़ीसद सुझाव दिए गए हैं जिनमें से सबसे अधिक 31 से 40 उम्र समूह की तरफ से 48.75 फ़ीसद सुझाव प्राप्त हुए हैं।

    स. चीमा ने कहा कि जनता बजट पोर्टल पर प्राप्त हुए सुझावों, जिन पर भविष्य में विचार किया जा सकता है, में पुरानी पैनशन स्कीम को बहाल करना, मौजूदा 3 सालों से परख काल समय को घटाना, समान काम -समान तनख़्वाह, बिजली और परिवहन सब्सिडियाँ, शिक्षा में परिवार की अकेली लडक़ी के लिए लाभ, उच्च शिक्षा के लिए बजट में विस्तार, सूचना प्रौद्यौगिकी से सम्बन्धित उद्योगों को उत्साहित करना, सरहदी शहरों में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए इन क्षेत्रों के नज़दीक टैक्स मुक्त ज़ोन या विशेष आर्थिक ज़ोन बनाने, शराब निगम की स्थापना और रेत और माइनिंग कारपोरेशन का गठन और पंजाब के निवासियों के लिए सभी नौकरियों में आरक्षण/प्राथमिकता देना शामिल है।

    वित्त मंत्री ने जिलों में फील्ड मीटिंगों के विवरण देते हुये बताया कि उन्होंने अपने हफ़्ते भर के दौरे के दौरान सभी 23 जिलों को कवर किया है और सबसे अधिक सुझाव लुधियाना (10.61 फ़ीसद), पटियाला (10.12 फ़ीसद), फाजिल्का (8.14 फ़ीसद), बठिंडा (6.03 फ़ीसद) और अमृतसर   (5.81 फ़ीसद) से प्राप्त हुए हैं। उन्होंने आगे कहा कि हमें दुनिया भर ख़ास तौर पर पड़ोसी राज्यों हरियाणा, दिल्ली और राजस्थान में बसते पंजाबियों से भी बड़ी संख्या में सुझाव मिले हैं।