वनडे क्रिकेट खेलना कब छोड़ देंगे हार्दिक पांड्या, रवि शास्त्री ने की भविष्यवाणी
वनडे क्रिकेट खेलना कब छोड़ देंगे हार्दिक पांड्या

वनडे क्रिकेट खेलना कब छोड़ देंगे हार्दिक पांड्या, रवि शास्त्री ने की भविष्यवाणी

वनडे क्रिकेट खेलना कब छोड़ देंगे हार्दिक पांड्या, रवि शास्त्री ने की भविष्यवाणी

नई दिल्ली: टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और कोच रवि शास्त्री ने हार्दिक पांड्या के वनडे करियर को लेकर बड़ी भविष्यवाणी की है। हार्दिक पांड्या चोट से उबरने के बाद मैदान पर लगातार धमाल मचा रहे हैं। पहले गुजरात टाइटन्स को शानदार ऑलराउंड प्रदर्शन के बल पर अपनी कप्तानी में पहला आईपीएल खिताब दिलाया। इसके बाद टीम इंडिया में धमाकेदार वापसी करते हुए इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में मैन ऑफ द सीरीज चुने गए थे। 

2023 विश्व कप के बाद वनडे को अलविदा कह सकते हैं पांड्या
ऐसे में टीम इंडिया के पूर्व कोच रवि शास्त्री का मानना है कि हार्दिक पांड्या साल 2023 में भारत में होने वाले विश्व कप के बाद वनडे क्रिकेट को अलविदा कह सकते हैं। शास्त्री का मानना है कि अब खिलाड़ी सीमित ओवर के दो फॉर्मेट में से एक को वरीयता देना शुरू कर सकते हैं। 

खिलाड़ियों के लिए तीनों फॉर्मेट में खेलना हो गया है मुश्किल

हाल ही में इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान बेन स्टोक्स ने वनडे क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया। साल 2019 में इंग्लैंड की खिताबी जीत में अहम भूमिका निभाने वाले स्टोक्स ने बेहद व्यस्त अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम की वजह से संन्यास का फैसला किया। अधिकांश अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों का मानना है कि लगातार हो रही द्विपक्षीय वनडे सीरीज से उनका उद्देश्य पूरा नहीं हो रहा है। लगातार तीन फॉर्मेट में खेलना खिलाड़ियों के लिए थकाऊ काम है। ऐसे में खिलाड़ी अब एक फॉर्मेट के करियर को बचाने के लिए दूसरे को अलविदा कहना शुरू कर देंगे।

टी20 पर पूरा अपना ध्यान लगा सकते हैं पांड्या
शास्त्री ने अपनी राय जाहिर करते हुए कहा, हार्दिक पांड्या अपना फोकस टी20 क्रिकेट की ओर शिफ्ट कर सकते हैं। शास्त्री का मानना है कि केवल हार्दिक ही नहीं अधिकांश खिलाड़ी इस राह पर चलने लगेंगे और एक फॉर्मेट को वरीयता देंगे जिसे वो पसंद करते हैं। 

खिलाड़ी वनडे-टी20 में से करेंगे चुनाव
शास्त्री ने इंडिया टुडे से चर्चा करते हुए कहा, टेस्ट क्रिकेट हमेशा बना रहेगी क्योंकि यह खेल की अहमियत को बढ़ाता है। आपके सामने ऐसे खिलाड़ी हैं जो पहले ही एक फॉर्मेट का चुनाव कर चुके हैं। आप हार्दिक पांड्या को ही ले लीजिए, लो टी20 क्रिकेट खेलना चाहता है। उसके दिमाग में ये बात साफ है कि वो टी20 के अलावा और कोई फॉर्मेट नहीं खेलना चाहते। वो वनडे क्रिकेट खेलते रहेंगे क्योंकि अगले साल भारत में विश्व कप होना है। उसके बाद वो इस फॉर्मेट को अलविदा कह देंगे। आप देखेंगे कि ऐसा ही अन्य खिलाड़ियों के साथ भी होगा। वो फॉर्मेट का चुनाव करना शुरू कर देंगे और ऐसा करने का उनके पास पूरा अधिकार है।

फ्रेंचाइजी क्रिकेट करेगा दुनिया पर राज
शास्त्री ने आगे कहा, आने वाले वक्त में फ्रेंचाइजी क्रिकेट पूरा दुनिया पर राज करेगा और ये होगा। ऐसे में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कैसे होगा? आपको मैचों की संख्या में कटौती करनी होगी, आपको द्विपक्षीय क्रिकेट में कमी करनी होगी। आप खिलाड़ियों को विभिन्न टीमों के लिए क्रिकेट खेलने से नहीं रोक सकते।