Warrant Issued Against IAS: आईएएस संजीव वर्मा के खिलाफ वारंट जारी
Warrant Issued Against IAS

Warrant Issued Against IAS: आईएएस संजीव वर्मा के खिलाफ वारंट जारी

Warrant Issued Against IAS: आईएएस संजीव वर्मा के खिलाफ वारंट जारी

छात्रवृत्ति घोटाले में बयान नहीं दर्ज करवाया

चंडीगढ़। Warrant Issued Against IAS: हरियाणा में पिछले कई माह से सुर्खियों में चल रहे आईएएस संजीव वर्मा(IAS Sanjeev Verma) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। चंडीगढ़ की अदालत ने मंगलवार को करीब 3.50 करोड़ के पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति घोटाले में संजीव वर्मा के खिलाफ अदालत ने जमानती वारंट जारी किए हैं। चंडीगढ़ की अदालत द्वारा इस मामले में बयान दर्ज कराने के लिए अफसर के खिलाफ नोटिस जारी किया गया था, लेकिन वह पेश नहीं हुए।
हरियाणा के चर्चित आईएएस अशोक खेमका के साथ संजीव वर्मा का विवाद चल रहा है। दोनों अधिकारी पंचकूला पुलिस में 26 अप्रैल को एक-दूसरे के खिलाफ मामला दर्ज करा चुके हैं। इस मामले में मामले में सरकार ने वर्मा को झटका देते हुए खेमका को राहत दी है।
ऑफिस ने पुलिस को खेमका के खिलाफ मामला दर्ज करने से पहले की तारीख में केस दर्ज करने की इजाजत देने से मना कर दिया है। भ्रष्टाचार के मामले में किसी भी आईएएस के खिलाफ केस दर्ज करने से पहले सरकार की मंजूरी लेनी होती है, जबकि खेमका के मामले में ऐसा नहीं किया गया। अब संजीव वर्मा की मुश्किलें चंडीगढ़ अदालत ने और बढ़ा दी हैं।
संजीव वर्मा ने मार्च 2019 में हरियाणा के अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग विभाग के निदेशक रहते हुए इस घोटाले का खुलासा किया था। इस मामले में चंडीगढ़ में मुकदमा भी दर्ज किया गया। प्राथमिक जांच के बाद विभाग के कुछ अधिकारियों को निलंबित भी कर दिया गया था। इसके अलावा रोहतक में भी सतर्कता विभाग ने इसी मामले में मुकदमा दर्ज किया था। अब इस मामले में संजीव वर्मा के खिलाफ वारंट जारी हो गया है।
चंडीगढ़ पुलिस इस मामले को रद्द करना चाहती है। इसलिए पुलिस की ओर से कोर्ट में घोटाले में दर्ज प्राथमिकी में अदालत के समक्ष रद्दीकरण की रिपोर्ट दायर की गई। पुलिस का कहना है कि चूंकि हरियाणा सतर्कता विभाग ने मुकदमा दर्ज कर लिया है, इसलिए प्राथमिकी रद्द की जा सकती है।