कब्रिस्तान की दीवार तोड़ने गई नगर कौंसिल जीरकपुर की टीम पर मुस्लिम भाईचारे के लोगों ने किया हमला
BREAKING
जोशी ने गांव बड़ी करौर में रेत माफिया के हमले में घायल लोगों का कुशल-क्षेम जाना एमटीवी स्प्लिट्सविला एक्स 5 - एक्सयूज़ मी प्लीज़ के प्रतियोगी लक्ष्य, उन्नति और दिग्विजय राठी चंडीगढ़ में अपने फैन्स से मिले!* चंडीगढ़ प्रशासन द्वारा गांव रायपुर खुर्द में चलाई जा रही अवैध निर्माण पर कार्रवाई का स्थानीय लोगों द्वारा जबरदस्त विरोध केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद का यूपी में एक्सीडेंट; अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे पर निकले थे, तेज रफ्तार गाड़ी ने पीछे से मारी कार में टक्कर गुजरात के स्कूल में खौफनाक हादसा; क्लासरूम में लंच कर रहे थे बच्चे, अचानक गिर पड़ी दीवार, वीडियो में कैद पूरा मंजर देखिए

कब्रिस्तान की दीवार तोड़ने गई नगर कौंसिल जीरकपुर की टीम पर मुस्लिम भाईचारे के लोगों ने किया हमला

Muslim brotherhood attacked

Muslim brotherhood attacked

- मारपीट करने तथा जेसीबी मशीन की तोड़फोड़ करने संबंधी नगर कौंसिल अधिकारियों ने दर्ज करवाई पुलिस को शिकायत

राजेश गर्ग 
जीरकपुर । Muslim brotherhood attacked: 
छत गांव में कब्रिस्तान की दीवार बनाने का मामला काफी दिनों से विवादों में चल रहा हैं, जिसके चलते शनिवार को कब्रिस्तान की दीवार तोड़ने गई नगर परिषद की टीम के साथ मुस्लिम भाईचारे के लोगों द्वारा मारपीट की गई और जेसीबी मशीन के शीशे तोड़ दिए। जिसकी शिकायत नगर परिषद के कर्मचारियों द्वारा पुलिस को दी गई। जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर झगड़े को शांत किया और मामले की जांच शुरू कर दी। चार दीवारी तोड़ने गई नगर परिषद टीम ने आरोप लगाया कि मुस्लिम भाईचारे के लोगों ने उनपर हमला कर दिया और उनको भगा भगा का मारा व उनकी जेसीबी मशीन के शीशे भी तोड़ दिए। जबकि मौके पर मौजूद लोगों ने आरोप लगाया कि शनिवार की छुटी होने के बावजूद जानबूझकर उनके कब्रिस्तान की दीवार तोड़ी गई है जिसका कोई नोटिस उन्हें नही दिया गया। वहां मौजूद मुस्लिम भाईचारे के लोगों ने बताया कि उनके पास पहले से कब्रिस्तान के लिए दो बीघा जमीन है लेकिन वह पूरी भर चुकी है जिसके चलते उन्होंने एसडीएम डेरा बस्सी, नगर परिषद जीरकपुर व वक्फबोर्ड से ओर जमीन की मांग की थी। जिसके बाद वक्फबोर्ड द्वारा उनको ओर जमीन देने की सिफारिश की गई थी जिसका लेटर भी उनके पास है। जो नगर परिषद अधिकारियों को भी भेजा गया है। इसके इलावा उन्होंने अदलात में भी केस डाला है और जिसकी जानकारी नगर परिषद को भी है। बता दें कि मुस्लिम भाईचारे द्वारा एक महीना पहले कब्रिस्तान की दीवार बनाने का काम शुरू किया था जिसे नगर परिषद के कहने पर पुलिस ने बंद करवा दिया था। बीते बुधवार को जब मुस्लिम भाईचारे ने काम दुबारा शुरू किया तो आचार संहिता के चलते काम दोबारा बंद करवा दिया गया था। जिसके बाद पुलिस द्वारा मुस्लिम भाईचारे को काम यहीं रोकने के आदेश दिए थे। लेकिन शनिवार को नगर परिषद की टीम जब दीवार तोड़ने पहुंची तो भीड़ ने उनपर हमला कर दिया। जिसके बाद मुस्लिम भाईचारे ने विरोध किया और दीवार तोड़ने नही दी। जिसके बाद पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही है। 

हमारे गांव में करीब 350 परिवार मुस्लिम भाईचारे के हैं। उनके पास जितनी जमीन थी वह भर चुकी है। जिसे लेकर ओर जमीन की मांग की गई थी। जिसकी मांग एसडीएम डेरा बस्सी, नगर परिषद व वक्फबोर्ड को दी गई थी। वक्फ बोर्ड ने तो लिखत सिफारिश भी की है। जिसके बाद ही वह यहां छह बीघे जमीन पर चार दीवारी कर रहे थे। जिसका सारा खर्च हमारे भाईचारे के लोगों द्वारा पैसे इकठे करके करवाया जा रहा है। आज छुटी वाले दिन बिना नोटिस के नगर परिषद के कुछ कर्मचारी दीवार तोड़ने के लिए आए थे जिन्हे शांति पूर्वक रोका गया। लेकिन हमारे लोगों द्वारा किसी के साथ मारपीट नही की गई है। 

रमजान मुहंमद, प्रधान,  मुस्लिम वेलफेयर सोसायटी, छत। 

हम अपने उच्च अधिकारियों के आदेशों पर कब्रिस्तान की दीवार तोड़ने के लिए गए थे। लेकिन छत गांव के मुस्लिम भाईचारे के लोगों ने आते ही बिना बात किए जेसीबी ऑपरेटर पर हमला कर दिया उसके बाद मेरे व मेरे साथी के साथ मारपीट की। भीड़ को देख़ कर हम निकल गए थे तो लोगों ने हमें घेर कर घसीट कर फिर मौके पर लाए और फिर मारपीट की। हम तो अपनी डियूटी कर रहे थे। हमारे साथ की गई मारपीट गलत है, इसमें हमारा क्या कसूर है। 

मुहंमद असलम, इंचार्ज इंकरोचमेंट टीम जीरकपुर। 

छत गांव के मुस्लिम भाईचारे के लोगों द्वारा कब्रिस्तान की मांग की गई थी। जिसके लिए हमने दो बीघे जमीन देने का विचार बनाया था लेकिन उनके द्वारा 6 बीघे जमीन पर कब्जा किया जा रहा था। जिसे रोकने के लिए हमारी टीम आज दीवार तोड़ने के लिए गई थी। यहां नगर परिषद द्वारा एमआरएफ शैड बनाया जाना था,  जिसके लिए ठेकेदार की लेबर भेजी गई थी। जिनके साथ व हमारे स्टॉफ के साथ मारपीट की गई है। जिसकी शिकायत हमने पुलिस को दे दी है। फिलहाल हमारे पास इस जमीन को लेकर कोई भी अदालती नोटिस नही आया है। 

अशोक पथरिया, कार्यकारी अधिकारी, नगर कौंसिल,  जीरकपुर।