अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय स्तर की हरियाणवीं प्रतिभाएं होंगी सुषमा स्वराज पुरस्कार की हकदार
अंतरराष्ट्रीय

अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय स्तर की हरियाणवीं प्रतिभाएं होंगी सुषमा स्वराज पुरस्कार की हकदार

अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय स्तर की हरियाणवीं प्रतिभाएं होंगी सुषमा स्वराज पुरस्कार की हकदार

: महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों के माध्यम से भी स्वीकार होंगे आवेदन
: हर वर्ष अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर दिया जाएगा पुरस्कार

चंडीगढ। महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय फलक पर जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान देने वाली हरियाणवीं प्रतिभाएं सुषमा स्वराज पुरस्कार पाने की हकदार होंगी। आगामी अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस से शुरू हो रहे इस पुरस्कार के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों के माध्यम से भी आवेदन किया जा सकेगा।

आज यहां जानकारी देते हुए महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर विधानसभा में वित्तमंत्री के नाते बजट पेश किया गया था। बजट में उन्होंने बेहतरीन शख्सियत एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय राजनीति में अहम योगदान देने वाली हरियाणा की बेटी सुषमा स्वराज के नाम से पुरस्कार शुरू करने की घोषणा की थी। इस पुरस्कार की विजेता को पांच लाख रूपए की राशि, शॉल एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाएगा। राज्यमंत्री कमलेश ढांडा ने बताया कि सुषमा स्वराज पुरस्कार में अंतरराष्ट्रीय, राष्ट्रीय स्तर पर जीवन के विभिन्न क्षेत्र में अतुलनीय योगदान देने वाली हरियाणा की महिलाएं इसके लिए आवेदन कर सकेंगी। 

उन्होंने बताया कि आवेदन कर्ता का जन्म हरियाणा में हो तथा उन्होंने मुख्यधारा में रहते हुए महिलाओं के उत्थान के क्षेत्र में योगदान दिया हो। आवेदनकर्ता को अपना आवेदन जिला परियोजना अधिकारी कार्यालय में जमा कराना होगा, जो उपायुक्त की अध्यक्षता वाली जिला स्तरीय अनुशंसा समिति की चयन प्रक्रिया से होते हुए राज्य स्तरीय स्क्रीनिंग कमेठी के सामने प्रस्तुत किए जाएंगे। इसके बाद महिला एवं बाल विकास मंत्री की अध्यक्षता वाली 7 सदस्यीय समिति आवेदनों पर विचार करते हुए योग्य उम्मीदवार का चयन करेगी। महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने बताया कि सुषमा स्वराज पुरस्कार के लिए विभागीय प्रक्रिया के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों के माध्यम से भी आवेदन स्वीकार किए जाएंगे।