हरियाणा में निवेश की अपार संभावनाएं: मनोहर लाल
हरियाणा में निवेश की अपार संभावनाएं:मनोहर लाल

हरियाणा में निवेश की अपार संभावनाएं:मनोहर लाल

हरियाणा में निवेश की अपार संभावनाएं:मनोहर लाल

मारूति के विस्तार को आज साइन होगा एमओयू
मैन्युफैक्चरिंग हब के रूप में उभरेगा हरियाणा 

चंडीगढ़, 18 मई। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा है कि सरकार प्रदेश में औद्योगिक विकास को तेजी से बढ़ावा दे रही है। सरकार ने सकारात्मक बदलाव कर प्रदेश को औद्योगिक विकास के पथ पर आगे बढाने का रोडमैप तैयार किया है। प्रदेश में उद्योगों के लिए उपयुक्त माहौल तैयार किया जा रहा है तथा उद्यमियों के लिए सभी जरूरी सुविधाएं मुहैया करवाई जा रही हैं। 
इसी का नतीजा है कि देश की बड़ी इंडस्ट्रीज के साथ-साथ विदेशी कंपनियां भी हरियाणा में निवेश की इच्छुक हैं, वहीं कई कंपनियों ने निवेश संबंधी प्रक्रिया शुरू कर दी है। इन कंपनियां के निवेश से राज्य के विकास के पहिए की रफ्तार बढ़ी है।

अब मारुति सुजुकी भी राज्य में अपना तीसरा संयंत्र लगा रही है। 19 मई को मुख्यमंत्री मनोहर लाल की उपस्थिति में मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड (एमएसआईएल)/सुजुकी मोटरसाइकिल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड और हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं आधारभूत संरचना विकास निगम आईएमटी, खरखौदा में 800 एकड़ और 100 एकड़ भूमि के आवंटन के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे। यह कदम इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट में मील का पत्थर साबित होगा। नए इंडस्ट्रियल प्लांट्स के बूते हजारों युवाओं को रोजगार के अवसर सृजित होंगे।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने युवाओं से इन उद्योगों के लिए अपने कौशल को विकसित करने का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा भी युवाओं के कौशल प्रशिक्षण के लिए हर संभव कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मारुति सुजुकी के तीसरे प्लांट के स्थापित होने से राज्य में उद्योगों के नए अध्याय की शुरूआत होगी। उन्होंने कहा कि विनिर्माण क्षेत्र का हरियाणा की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण स्थान है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल्द ही हरियाणा मैन्युफैक्चरिंग हब के रूप में उभरकर देश के साथ-साथ विदेशों में भी अपनी पहचान कायम करेगा।

मुख्यमंत्री की सोच है कि हरियाणा में बड़े-बड़े उद्योग स्थापित कर प्रदेश को विकास में पहले स्थान पर लाया जाए। इसी सोच के अनुरूप प्रदेश में उद्योगों के विकास के लिए हवाई अड्डों, रेल और सडक़ नेटवर्क, कंटेनर डिपो, कंटेनर माल स्टेशनों सहित औद्योगिक क्षेत्रों को मजबूत कनेक्टिविटी प्रदान की गई है।