Ram Rahim Parole- राम रहीम को बार-बार पैरोल देने पर हाईकोर्ट का सख्त रुख; हरियाणा सरकार से कहा- अब आगे से बिना इजाजत ये काम न हो
BREAKING
चंडीगढ़ लोकसभा के लिए मनीष तिवारी के टिकट की घोषणा के बाद चंडीगढ़ युवा कांग्रेस से इन पद धारकों के इस्तीफे के बारे में कुछ अटकलें उत्तराखंड के पूर्व डीजीपी अशोक अग्रवाल की बेटी कुहू गर्ग को यू पी एस सी परीक्षा में मिली 176वी रैंक छत्तीसगढ़ में 18 नक्सलियों का एनकाउंटर; सुरक्षाकर्मियों ने जंगल में मार गिराया, भारी मात्रा में हथियार बरामद, 3 जवान भी घायल हिसार से रणजीत सिंह के सामने होंगी जजपा की नैना चौटाला, जजपा ने हरियाणा की पांच लोकसभा सीटों पर उतारे प्रत्याशी चंडीगढ़ में मर्डर कर यूपी में बाबा बना शख्स; 35 साल तलाशती रही पुलिस, खुद का भी भेष बदला, अब अपनाई ये ट्रिक तो आ गया जाल में

राम रहीम को बार-बार पैरोल देने पर हाईकोर्ट का सख्त रुख; हरियाणा सरकार से कहा- अब आगे से बिना इजाजत ये काम न हो, जवाब मांगा

Dera Sacha Sauda Chief Ram Rahim Parole Punjab Haryana High Court

Dera Sacha Sauda Chief Ram Rahim Parole Punjab Haryana High Court

High Court On Ram Rahim Parole: डेरा सच्‍चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को बार-बार पैरोल देकर जेल से बाहर निकलने पर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने सख्त रुख दिखाया है। हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार से साफ कह दिया है कि, अब आगे से कोर्ट से बिना पूछे और इजाजत मिले बिना राम रहीम को पैरोल न दी जाए। राम रहीम को पैरोल देने को लेकर हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार से जवाब मांगा है। वहीं बताया जा रहा है कि हाईकोर्ट ने राम रहीम को 10 मार्च को सरेंडर करने को कहा है साथ ही इस मामले की अगली सुनवाई 13 मार्च को होगी।

दरअसल, राम रहीम को बार-बार पैरोल मिलने पर हरियाणा सरकार पर सवाल उठने लगे हैं। कई लोगों ने राम रहीम को पैरोल देने पर विरोध जताया है। लोगों का कहना है कि, हरियाणा सरकार की कृपा से ही यौन शोषण और मर्डर जैसे मामलों के दोषी गुरमीत राम रहीम सिंह को बार-बार पैरोल मिल रही है। लोगों ने कहा कि, क़ायदे से अब इसका नाम 'राम रहीम पैरोल' कर देना चाहिए।

जनवरी में दी गई 50 दिन की पैरोल

इसी साल 19 जनवरी को राम रहीम को 50 दिन की पैरोल दी गई थी। जेल से बाहर आने के बाद राम रहीम सीधा उत्तर प्रदेश के बागपत जिले के बरनावा आश्रम के लिए रवाना हो गया था। दरअसल, जेल प्रशासन ने राम रहीम को शर्तों के साथ पैरोल दी थी। इसमें राम रहीम के लिए नियम तय किए गए थे। पैरोल के 50 दिन राम रहीम को बरनावा आश्रम में ही रहने को कहा गया था।

2017 से अब तक 9 बार पैरोल

राम रहीम को 2017 में सजा सुनाई गई थी और तब से अब तक उसे 9 बार पैरोल और फरलो मिल चुकी है। यानि पिछले चार साल में राम रहीम 9वीं बार जेल से बाहर आ चुका है। वहीं पिछले 24 महीनों में गुरमीत राम रहीम सात बार जेल से बाहर आया है। मालूम रहे कि, राम रहीम रोहतक जिले की सुनारिया जेल में सजा काट रहा है।

साध्वियों से यौन शोषण, दो मर्डर

बतादें कि, राम रहीम को एक नहीं तीन-तीन मामलों में में सजा मिली हुई है। सबसे पहले 2017 में राम रहीम को साध्वियों से यौन शोषण मामले में राम रहीम को 20 साल की सजा सुनाई गई। इसके बाद पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में राम रहीम को उम्रकैद की सजा सुनाई गई और इसके बाद रणजीत सिंह हत्याकांड में फैसला आया। इसमें भी राम रहीम को उम्रकैद की सजा सुनाई गई। तीनों ही मामलोँ में पंचकूला में सीबीआई की विशेष अदालत ने फैसला सुनाया।