Ghazipur News: मुख्तार अंसारी के करीबी प्रॉपर्टी डीलर पर शिकंजा, कोर्ट ने भेजा जेल
BREAKING
जोशी ने गांव बड़ी करौर में रेत माफिया के हमले में घायल लोगों का कुशल-क्षेम जाना एमटीवी स्प्लिट्सविला एक्स 5 - एक्सयूज़ मी प्लीज़ के प्रतियोगी लक्ष्य, उन्नति और दिग्विजय राठी चंडीगढ़ में अपने फैन्स से मिले!* चंडीगढ़ प्रशासन द्वारा गांव रायपुर खुर्द में चलाई जा रही अवैध निर्माण पर कार्रवाई का स्थानीय लोगों द्वारा जबरदस्त विरोध केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद का यूपी में एक्सीडेंट; अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे पर निकले थे, तेज रफ्तार गाड़ी ने पीछे से मारी कार में टक्कर गुजरात के स्कूल में खौफनाक हादसा; क्लासरूम में लंच कर रहे थे बच्चे, अचानक गिर पड़ी दीवार, वीडियो में कैद पूरा मंजर देखिए

Ghazipur News: मुख्तार अंसारी के करीबी प्रॉपर्टी डीलर पर शिकंजा, कोर्ट ने भेजा जेल

MUKHTAR ANSARI CLOSE AIDE ARRESTED

MUKHTAR ANSARI CLOSE AIDE ARRESTED

MUKHTAR ANSARI CLOSE AIDE ARRESTED: माफिया डॉन और पूर्व मऊ विधायक मुख्तार अंसारी और उसके सहयोगियों की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं. शनिवार को गाजीपुर पुलिस ने मुख्तार अंसारी के सहयोगी और शहर के बड़े प्रॉपर्टी डीलर विक्रम बाबू अग्रहरी उर्फ विक्की अग्रहरी और संजय अग्रहरी को गिरफ्तार कर लिया है. जिसे गाजीपुर कोर्ट ने सुनवाई के बाद जेल भेज दिया गया.

एसएचओ सदर ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए बताया है कि यह मामला बीते साल 2017 का है. उन्होंने बताया है कि गाजीपुर कोतवाली क्षेत्र के मनोज कुमार ने शिकायत दर्ज कराई थी कि माफिया डॉन मुख्तार अंसारी का साला शरजील रजा उर्फ आतिफ के साथ मिलकर विक्रम बाबू अग्रहरि, संजय अग्रहरी और शंकु अग्रहरि ने मनोज कुमार की दो जमीन जबरदस्ती रजिस्ट्री करा ली.

'धमकी देकर पीड़ित के खाते से पैसा निकलवा लिया'

इसके बदले जो रुपयों का लेनदेन किया था उसे भी जबरदस्ती धमकी देकर पीड़ित के खाते का ब्लैंक चेक लेकर पैसा निकलवा लिया था. पुलिस ने आज दिनांक 23-3-2024 को दर्ज एफआईआर में पूरे घटनाक्रम का विवरण लगाते हुए आईपीसी की धारा 447, 406, 342, 386, 506 के तहत आज विक्रम बाबू अग्रहरि और संजय कुमार अग्रहरी को गिरफ्तार कर लिया है.

'एक आरोपी शंकु अग्रहरि अभी है फरार'

एसएचओ सदर ने आगे बताया कि जबकि एक आरोपी शंकु अग्रहरि अभी फरार है. बता दें कि मुख्तार अंसारी का साला शरजील रजा पहले से ही आपराधिक मामलों में जेल में बंद है. मुख्तार अंसारी के काफी करीबी और सहयोगी विक्रम बाबू अग्रहरि को माना जाता है. इसके यहां पूर्व में इनकम टैक्स और ईडी की कार्रवाई भी हो चुकी है.