ट्रांसपोर्टरों की देशव्यापी हड़ताल शुरू, चंडीगढ़ में भी असर
Wednesday, December 19, 2018
Breaking News
Home » चंडीगढ़ » ट्रांसपोर्टरों की देशव्यापी हड़ताल शुरू, चंडीगढ़ में भी असर
ट्रांसपोर्टरों की देशव्यापी हड़ताल शुरू, चंडीगढ़ में भी असर

ट्रांसपोर्टरों की देशव्यापी हड़ताल शुरू, चंडीगढ़ में भी असर

चंडीगढ़(रीतिका पठानियां)। देशभर में पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ रही कीमतों के विरोध में ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांंग्रेस के आह्वान पर पूरे देश के ट्रांसपोर्टर यानि ट्रक-टेंपो ऑपरेटर शुक्रवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। ट्रांसपोर्टरों का कहना है कि सरकार पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार इजाफा कर रही है, जिसका खामियाजा ट्रांसपोर्टरों को भुगतना पड़ रहा है।

चंडीगढ़ ट्रांसपोर्ट कांग्रेस भी इस हड़ताल का समर्थन कर रही है, जिसका असर पहले दिन ही सेक्टर-26 ग्रेन मार्केट में भी देखने को मिला।
हालांकि कहने को तो हड़ताल के दौरान फल, सब्जियों व दूध की सप्लाई करने वाले ट्रंसपोर्टरों को छूट दी गई थी, लेकिन फिर भी ग्रेन मार्केट सेक्टर-26 में हड़ताल के पहले ही दिन फल और सब्जियों की कम सप्लाई हुई। जानकारों की मानें तो आने वाले दिनों में रोजमर्रा की वस्तुओं जैसे दूध-ब्रेड आदि की सप्लाई भी देशव्यापी हड़ताल के चलते प्रभावित हो सकती है जिससे आम आदमी के लिए कई तरह की मुश्किलें खड़ी हो जाएंगी।

बता दें शुक्रवार सुबह 6 बजे से ही रोजाना की तरह ट्रकों की आवाजाही से होने वाला शोर-शराबा एक दम से शांत पड़ गया। हड़ताल पर बैठे ट्रक ऑपरेटरों का कहना है कि जब तक उनकी सभी मांगें पूरी नहीं की होती, उनकी हड़ताल जारी रहेगी।

देशभर में थमे 92 लाख ट्रकों के पहिये..

ट्रांसपोर्टरों की देशव्यापी हड़ताल के कारण देशभर में 92 लाख छोटे और बड़े ट्रकों के पहिये थम गए हैं। माना जा रहा है कि हड़ताल के कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। हालांकि, ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष कुलतारण सिंह की मानें तो वीरवार को परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से उनकी मांगों को लेकर बातचीत हुई थी, लेकिन वो भी बेअसर रही।

इसके बाद देर रात केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल से भी ट्रांसपोटरों ने बात की। इसमें एक कमेटी बनाने का आश्वासन दिया गया, जिसे मानने से ट्रांसपोर्टरों ने मना कर दिया। उनका कहना है कि कई बार कमेटियां बनी हैं, लेकिन कुछ हल नहीं निकला जिसके कारण अब ट्रांसपोर्टर हड़ताल करेंगे। हालांकि, देश में पहले दिन हड़ताल का ज्यादा असर देखने को नहीं मिला। ट्रांसपोर्टरों का मानना है कि इसका असर शानिवार से नजर आएगा।

ये हैं ट्रांसपोर्टरों की मांगें….

– पेट्रोल और डीजल की कीमतें हर रोज नहीं, बल्कि 3 महीने में संशोधन होकर तय हों। रोज दाम बदलने के कारण ट्रांसपोर्टरों को व्यापार करने में मुश्किल होती है।
– ट्रांसपोर्टर के लिए टोल बैरियर मुक्त हो।
– इसके साथ ही थर्ड पार्टी इंश्योरेंस में पारदर्शिता लाई जाए। साथ ही इस पर जीएसटी में छूट दी जाए।
– ट्रांसपोर्ट व्यापारी पर लगे लावा पैट टीडीएस खत्म किया जाए।
– बसों और पर्यटन वाहनों को नेशनल परमिट दिया जाए।

‘इस संबंध में केंद्रीय परिवहन मंत्री पीयूष गोयल के साथ वीरवार को बैठक हुई थी, लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकला और हमें मजबूरन हड़ताल का रास्ता अख्तियार करना पड़ा।
-बीएल शर्मा, जनरल सेक्रेटरी,इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस कमेटी, चंडीगढ़

‘आज चंडीगढ़ में फल और सब्जियों की 20 से 25 प्रतिशत तक कम सप्लाई हुई, जिसमें सबसे कम सप्लाई आम की हुई। अगर ट्रंासपोटरों की हड़ताल ऐसे ही जारी रही तो सब्जियों व फलों के दामों पर असर पडऩा तय है। चंडीगढ़ में आने वाली दाल, चावल, फलों की सप्लाई के साथ इंडस्ट्री के लिए रॉ मैटीरियल की सप्लाई भी बाधित हो सकती है।
-दिग्विजय कपूर, प्रेसिडेंट, फ्रूट एंड वेजिटेबल मार्केट

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share