Sidhu Moose Wala Brother- सिद्धू मूसेवाला के पिता का आरोप; बलकौर सिंह ने कहा- दुखी हूं, बच्चे को लीगल साबित करने के लिए सवाल हो रहे
BREAKING
जम्मू-कश्मीर में सेना ने आतंकियों का बड़ा हमला रोका; फटाफट एक्शन में आए जवान, ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं, एनकाउंटर जारी सुप्रीम कोर्ट से योगी सरकार को बड़ा झटका; दुकानों पर 'नेम प्लेट' लगाने वाले आदेश पर रोक लगाई, UP समेत 3 राज्यों को नोटिस जारी RSS की गतिविधियों में अब शामिल हो सकेंगे सरकारी कर्मचारी; केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, 58 साल पुराना प्रतिबंध हटाया, कांग्रेस हमलावर "ढाई घंटे तक देश के प्रधानमंत्री का गला घोंटा गया''; संसद के बजट सत्र पर PM मोदी का बयान, पहले ही दिन विपक्ष पर जमकर बरसे चमत्कारिक है भगवान शिव का यह नाम जप; प्रेमानंद महाराज ने बताया- कैसे दिखाता है प्रभाव, महादेव के इस मंत्र को न जपने की दी चेतावनी

सिद्धू मूसेवाला के पिता का बड़ा आरोप; बलकौर सिंह ने कहा- दुखी हूं, बच्चे को लीगल साबित करने के लिए सवाल हो रहे, प्रशासन परेशान कर रहा

Singer Sidhu Moose Wala Newborn Brother Balkaur Singh Charan Kaur

Punjabi Singer Sidhu Moose Wala Newborn Brother Balkaur Singh Charan Kaur

Sidhu Moose Wala Brother: दिवंगत पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला के घर बच्चे की किलकारी गूंज चुकी है। 17 मार्च को बठिंडा के एक अस्पताल में सिद्धू की मां चरण कौर ने IVF तकनीक के जरिए बेटे को जन्म दिया। जिसके बाद सिद्धू के पिता बलकौर सिंह ने सोशल मीडिया पर बेटे के आने की खुशी जाहिर की थी। बलकौर सिंह ने अपने नवजात बेटे की तस्वीर भी सोशल मीडिया पर शेयर की थी। लेकिन अब बलकौर सिंह ने सोशल मीडिया पर एक नया वीडियो जारी किया है। जिसमें बलकौर सिंह अपना दुख व्यक्त कर रहे हैं।

दरअसल, सिद्धू के पिता बलकौर सिंह ने पंजाब सरकार और प्रशासन पर बड़ा आरोप लगाया है। बलकौर सिंह का कहना है कि, उनके घर बच्चे के जन्म के बाद उन्हें सरकार और प्रशासन द्वारा परेशान किया जा रहा है। बलकौर सिंह ने कहा कि प्रशासन उन्हें नवजात बच्चे के लीगल डॉक्यूमेंट' दिखाने के लिए मजबूर कर रहा है। उनसे बच्चे को लीगल साबित करने के लिए तरह-तरह के सवाल किए जा रहे हैं।

बता दें कि, सिद्धू के पिता बलकौर सिंह ने अपने इंस्टाग्राम अकांउट पर इस आरोप के साथ वीडियो जारी किया है। बलकौर सिंह ने कहा- वाहेगुरु की कृपा और आप लोगों की दुआओं से हमारा शुभदीप (सिद्धू मूसेवाला) वापस आ गया है। लेकिन मैं आज सुबह से बहुत परेशान हूं। सोचा आपको भी इस बारे में पता होना चाहिए। प्रशासन मुझे परेशान कर रहा है। अपने बच्चे के लीगल डॉक्यूमेंट लाने को कह रहा है। मुझसे बच्चे को लीगल साबित करने के लिए तरह-तरह के सवाल पूछे जा रहे हैं।

बलकौर सिंह की सीएम भगवंत मान से अपील

सिद्धू के पिता बलकौर सिंह ने पंजाब के सीएम भगवंत मान से उन पर तरस खाने की अपील की है। बलकौर सिंह ने कहा- मैं पंजाब सरकार से, ख़ासकर CM साहब से विनती करना चाहता हूं कि आप थोड़ा तरस खाओ। कम से कम ट्रीटमेंट तो पूरा होने दो। मैं यहीं रहता हूं। यहीं रहूंगा। आप जहां बुलाओगे मैं वहां पहुंच जाऊंगा। मगर कृपा करके ट्रीटमेंट पूरा होने दीजिए।

मैंने हमेशा कानून का पालन किया- बलकौर सिंह

बलकौर सिंह ने एक ओर जहां सीएम भगवंत मान से अपील की तो वहीं इस मामले को लेकर कड़ी नारजगी भी जताई। बलकौर सिंह ने कहा कि सरकार उनपर सोच-समझकर ही हाथ डाले। बलकौर सिंह ने कहा कि, मेरे बेटे सिद्धू मूसेवाला ने भी अपनी 28 साल की उम्र तक कानून के दायरे में रहकर ही काम किया और मैंने हर जगह क़ानून का पालन किया है और अभी भी मैंने कहीं भी कानून का उलंघन नहीं किया है। अगर आपको फिर भी यकीन नहीं, तो आप मुझपर FIR दर्ज कराएं। मुझे जेल भेज दें और जांच करें। मैं विश्वास दिलाता हूं कि मैं सारे लीगल दस्तावेज दिखाकर बरी होकर निकलूंगा।

 

कांग्रेस नेता प्रताप सिंह बाजवा ने मान सरकार को घेरा

बलकौर सिंह के इस आरोप के बाद पंजाब विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष प्रताप सिंह बाजवा ने भगवंत सरकार को घेरा है। बाजवा ने बलकौर सिंह के वीडियो को शेयर करते हुए लिखा- ये बेशर्मी की हद है... पंजाब और दुनिया भर में रहने वाले लोग बच्चे के जन्म का जश्न मना रहे हैं, लेकिन आपकी सरकार इस खुशी को सहन नहीं कर पा रही। आपको नवजात बच्चे से डर कैसा, जो बलकौर सिंह जी और उनके परिवार को इतनी तकलीफ़ हो रहा है?

भारत सरकार ने पंजाब सरकार से रिपोर्ट मांगी

इधर जानकारी मिल रही है कि, इस मामले में भारत सरकार ने भी संज्ञान लिया है और चरण कौर IVF तकनीक ट्रीटमेंट के संबंध में रिपोर्ट मांगी है। भारत सरकार का कहना है कि, न्यूज़ आर्टिकल से पता चला है कि सिद्धू की मां चरण कौर ने 58 साल की उम्र में IVF तकनीक का सहारा लिया। जबकि इसके लिए निर्धारित आयु 21 साल से 50 साल तक है। इसलिए पंजाब सरकार इस मामले को देखे और आवश्यक कार्रवाई के साथ एक रिपोर्ट भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय को सौंपे।