भारत में रोहिंग्या और बांग्लादेशियों की तस्करी पर NIA का खुलासा, आठ लोगों के खिलाफ दायर किया आरोप पत्र
BREAKING
जोशी ने गांव बड़ी करौर में रेत माफिया के हमले में घायल लोगों का कुशल-क्षेम जाना एमटीवी स्प्लिट्सविला एक्स 5 - एक्सयूज़ मी प्लीज़ के प्रतियोगी लक्ष्य, उन्नति और दिग्विजय राठी चंडीगढ़ में अपने फैन्स से मिले!* चंडीगढ़ प्रशासन द्वारा गांव रायपुर खुर्द में चलाई जा रही अवैध निर्माण पर कार्रवाई का स्थानीय लोगों द्वारा जबरदस्त विरोध केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद का यूपी में एक्सीडेंट; अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे पर निकले थे, तेज रफ्तार गाड़ी ने पीछे से मारी कार में टक्कर गुजरात के स्कूल में खौफनाक हादसा; क्लासरूम में लंच कर रहे थे बच्चे, अचानक गिर पड़ी दीवार, वीडियो में कैद पूरा मंजर देखिए

भारत में रोहिंग्या और बांग्लादेशियों की तस्करी पर NIA का खुलासा, आठ लोगों के खिलाफ दायर किया आरोप पत्र

Chargesheet filed against eight people

Chargesheet filed against eight people

नई दिल्ली। Chargesheet filed against eight people: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने सोमवार को फर्जी दस्तावेजों का उपयोग करके भारत में रोहिंग्या और बांग्लादेशियों की तस्करी करने वाले आठ लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है।

एजेंसी ने गुवाहाटी में एक विशेष अदालत में जलील मिया, हनान मिया, भगोड़े काजल सरकार, अधीर दास और अनवर हुसैन उर्फ मामा के खिलाफ पूरक आरोप पत्र दाखिल किया है। ये सभी पूर्वोत्तर राज्य त्रिपुरा से काम कर रहे थे।

आरोपपत्र में शामिल अन्य लोगों की पहचान भगोड़े कमल दास के रूप में की गई है, जो आरोपित अमोल चंद्र दास का भाई है, जो बंगाल स्थित लिटन चक्रवर्ती के अलावा सिलचर से काम कर रहा था। आठवां आरोपित बांग्लादेशी नागरिक रबील हसन उर्फ रबीउल हसन है।

एनआइए की जांच के अनुसार, लिटन चक्रवर्ती गुप्त तरीकों से फर्जी या जाली दस्तावेजों और प्रमाणपत्रों पर बांग्लादेशी नागरिकों के लिए भारतीय आइडी दस्तावेज तैयार करने में लगा हुआ था। इसमें कहा गया है कि रबीउल हसन का असम, बंगाल, त्रिपुरा, तमिलनाडु और कर्नाटक में गिरफ्तार आरोपितों के साथ अच्छा संबंध पाया गया।