Navjot Sidhu in Hospital: सिद्धू की हालत ठीक नहीं... पटियाला जेल से चंडीगढ़ PGI लाया गया, देखें खबर
Navjot Singh Sidhu in Chandigarh PGI

Navjot Sidhu in Hospital

Navjot Sidhu in Hospital: सिद्धू की हालत ठीक नहीं... पटियाला जेल से चंडीगढ़ PGI लाया गया, देखें खबर

Navjot Sidhu in Hospital : पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू इन दिनों एक रोडरेज मामले में पटियाला जेल में बंद हैं| वहीं, अहम बात यह है कि जेल में बंद सिद्धू की हालत ठीक नहीं चल रही है| सेहती तौर पर सिद्धू सामान्य नहीं हैं| जहां इसी के चलते सिद्धू को सोमवार को पटियाला जेल से चंडीगढ़ PGI लाया गया| जहां उनका पूरा मेडिकल टेस्ट किया गया| बताते हैं कि, सिद्धू को अपनी सेहत को लेकर परेशानी हो रही थी, जिसके बाद उन्हें सीधा चंडीगढ़ PGI लाया गया| सिद्धू को सुबह चंडीगढ़ पीजीआई लाया गया था| हालांकि, अब उन्हें वापिस पटियाला जेल ले जाया गया है|

हाल ही में गए थे अस्पताल, डॉक्टरों ने जारी की थी यह सलाह ...

बताते हैं कि, सिद्धू पहले से ही कुछ बीमारियों से पीड़ित चल रहे हैं| उनकी दवाई चल रही है| उन्हें कुछ चीजों से परहेज बताया गया है| उनसे विशेष डाइट लेने को कहा गया है| ध्यान रहे कि, कुछ दिन पहले ही सिद्धू को कड़ी सुरक्षा के बीच पटियाला जेल से राजिंदरा हॉस्पिटल ले जाया गया था| जहां उनका मेडिकल चेकअप (Navjot Singh Sidhu Medical Checkup) हुआ था| मेडिकल चेकअप के बाद सिद्धू को डॉक्टरों की ओर से खास सलाह (Doctors adviced to Navjot Singh Sidhu) जारी की गई थी| डॉक्टरों ने सिद्धू को सलाह जारी करते हुए कहा था कि वह उबली हुई सब्जियां, सलाद, बाजरे की रोटी ही खाएं| इसके अलावा जूस का सेवन करें| वहीं, डॉक्टरों ने सिद्धू से वजन घटाने की बात भी कही थी|

बतादें कि, नवजोत सिंह सिद्धू 20 मई से पटियाला जेल में बंद हैं| सिद्धू ने करीब 34 साल पुराने एक रोडरेज केस में सुप्रीम कोर्ट से एक साल की सजा मिलने के बाद खुद को पटियाला कोर्ट में सरेंडर कर दिया था| जिसके बाद उन्हें पटियाला जेल में लाकर बंद कर दिया गया| मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सिद्धू को पटियाला जेल में बैरक नंबर 10 में रखा गया है| सिद्धू को जेल में क्लर्क का काम दिया गया है|

1988 का है रोडरेज मामला ....

बतादें कि, रोडरेज का यह पूरा मामला दिसंबर 1988 का है। जब पटियाला में सिद्धू की सड़क पर एक बुजुर्ग से झड़प हो गई थी| बताया जाता है कि इस झड़प में मारपीट हुई और जिसके बाद उस बुजुर्ग शख्स की मौत हो गई| जहां, इस मामले में फिर पटियाला पुलिस ने सिद्धू के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया था। इस मामले में पहले निचली अदालत में सुनवाई चली| जहां से सिद्धू बरी हो गए|

लेकिन जब मामला हाई कोर्ट पहुंचा तो पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट ने 2006 में सिद्धू को इस मामले में तीन साल की सजा सुनाई थी। सिद्धू तब भाजपा के अमृतसर से सांसद थे। सजा के बाद सिद्धू को इस्तीफा देना पड़ा था| साथ ही सिद्धू ने सुप्रीम कोर्ट में हाईकोर्ट के फैसले का चुनौती दी थी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने सिद्धू को बरी को कर दिया था लेकिन बाद में पीड़ित पक्ष ने पुनर्विचार याचिका दाखिल कर सिद्धू की मुश्किलें फिर बढ़ा दीं और अब नतीजा यह रहा कि पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सिद्धू को एक साल की सजा सुना दी|

रोडरेज किसे कहते हैं?

वैसे तो आप रोडरेज का मतलब जानते होंगे लेकिन अगर नहीं जानते तो हम आपको बता दे रहे हैं| दरअसल, सड़क पर आए दिन घटने वाली रोष घटनाओं को रोड रेज़ कहते है। लोग सड़क पर जब लड़ाई-झगड़े पर उतर आते हैं, मार-पीट करने लगते हैं| तब इसे रोड रेज़ कहते हैं।