हिमाचल विधानसभा के गेट पर लगे खालिस्तान के झंडे, मचा हड़कंप
हिमाचल विधानसभा के गेट पर लगे खालिस्तान के झंडे

हिमाचल विधानसभा के गेट पर लगे खालिस्तान के झंडे, मचा हड़कंप

हिमाचल विधानसभा के गेट पर लगे खालिस्तान के झंडे, मचा हड़कंप

योल। धर्मशाला के तपोवन स्थित हिमाचल प्रदेश विधानसभा भवन के बाहर शनिवार रात को किसी ने खालिस्तान के झंडे लगाए। सुबह होते ही जब लोगों को इस बारे में पता चला तो पुलिस को सूचित किया गया। 

इसके पीछे किसकी शरारत है व किसने यह सब किया है पुलिस इसकी तलाश कर रही है। पुलिस अन्य स्थानों पर स्थापित सीसीटीवी कैमरों की रिकार्डिंग भी खंगालेगी।

मिलती रही हैं धमकियां

खालिस्तान की तरफ से लगातार बीते दिनों में धमकियों का सिलसिला भी बढ़ा है। यहां तक की मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर सहित भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा को संबोधित करते हुए संदेश जनता को फोन के माध्यम से दिए जा रहे थे। उसके बाद खालिस्तान के झंडे लगाकर पंजाब से आने वाले कुछ युवक अपने मोटरसाइकिलों व अन्य वाहनों में यह झंडे लगाकर आ रहे थे। जिन्हें पुलिस ने उतरवाया भी था और उसके बाद शिमला में भी इस तरह के झंडे लगाने संबंधित धमकियां दी जा रही थी। अब ऐसे में हिमाचल प्रदेश के विधानसभा भवन में खालिस्तान के झंडे लग गए हैं। हालांकि पुलिस ने सुबह ही इन्हें हटा दिया है।

हिमाचल विधानसभा के गेट पर लगे खालिस्तान के झंडे, मचा हड़कंप

बताया जा रहा है कि विधानसभा परिसर में चार एक की गार्ड मौजूद है। जबकि विधानसभा के बाहर गार्ड नहीं होता है और न ही अभी तक यहां पर सीसीटीवी कैमरे स्थापित है। सुरक्षा के लिहाज से सीसीटीवी कैमरे स्थापित करने का प्रस्ताव है पर अभी तक स्थापित नहीं हैं।

पुलिस चौकी योल के प्रभारी नारायण सिंह यह बोले

तपोवन स्थित हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मुख्य प्रवेश‌ द्वार पर खालिस्तान के झंडे लगे थे जिन पर खालिस्तान लिखा था उन्हें आज सुबह योल पुलिस ने मौके पर जा कर उतार दिया । उन्होंने बताया कि यहां के स्थानीय लोगों ने सुबह विधानसभा के मेन गेट पर काले झंडे लगने की सूचना दी । पुलिस गहनता से जांच में जुटी है । सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी देखी जाएगी।

हिमाचल विधानसभा के गेट पर लगे खालिस्तान के झंडे, मचा हड़कंप

यह बोले पुलिस अधीक्षक कांगड़ा डा. खुशहाल शर्मा

पुलिस अधीक्षक डा. खुशहाल शर्मा ने कहा कि पड़ताल की जा रही है कि यह किसने किया है। अन्य जगह लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज भी जांची जाएगी। विधानसभा के भीर एक चार की गार्ड है। विधानसभा में सीसीटीवी कैमरे लगाने का प्रस्ताव था, लेकिन अभी तक यहां सीसीटीवी कैमरे लगे नहीं है। यह किसी की शरारत है। ऐसा पड़ताल में पता लगा है कि कोई मोटरसाइकिल व गाड़ी गुजरी है जिन्होंने यह किया है।

शिमला में भी ऐसी कोशिश हो चुकी है। अब यहां पर झंडे लगा दिए हैं। इन झंडों को हटा दिया गया है। हालांकि पंजाब में तो यह खुलेआम ही लग रहे हैं और ओपन है। पर यह देखना जरूरी है कि यहां पर यह सब किसने किया।