Breaking News
Home » लाइफ स्टाइल » सावधान! ज्यादा देर तक ऑफिस में रुकने से आपकी मौत हो सकती है, पढ़ें ये खबर

सावधान! ज्यादा देर तक ऑफिस में रुकने से आपकी मौत हो सकती है, पढ़ें ये खबर

अगर आप दिन का ज्यादा समय ऑफिस के काम में बिताते हैं और 9 घंटे से अधिक देर तक बैठे रहते हैं तो, ये आप के लिये खतरे की घंटी है। आप को अंदाजा भी नहीं कि यह आपके लिए कितना घातक हो सकता है, इसकी वजह से आपकी जल्दी मौत का खतरा बढ़ जाता है। यह बात हाल ही में हुये एक रिसर्च में सामने आई है। ये रिसर्च ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में प्रकाशित हुई है। जिससे यह पता चलता है कि साढ़े नौ घंटे से ज़्यादा होने पर हर एक घंटे के साथ जल्दी मौत का ये खतरा भी उसी अनुपात में बढ़ता जाता है।

डॉक्टर्स भी बताते हैं कि अगर हम दिन में कई घंटे बैठे-बैठे बिता देते हैं, तो इसका असर हमारे पूरे शरीर पर पड़ता है। लंबे अर्से तक इस तरह की लाइफस्टाइल से शरीर में कई तरह की दिक्कतें आने लगती है। पीठ दर्द, कमर दर्द जैसी दिक्कतें तो होती ही हैं। ज़्यादा वक्त बैठे-बैठे गुज़ार देने से शरीर का मेटाबॉलिज़्म रेट भी कम हो जाता है, जिसे मेटाबॉलिक सिंड्रोम भी कहते हैं। इसकी वजह से शरीर में डायबिटीज़, ब्लड प्रेशर, अनियंत्रित कोलेस्ट्रॉल और हार्ट डिज़ीज का खतरा बढ़ जाता है। हार्ट अटैक के चांसेज़ भी बढ़ जाते हैं।

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में प्रकाशित रिसर्च के मुताबिक, नींद के समय को छोड़कर दिनभर में साढ़े नौ घंटे या उससे ज़्यादा वक्त तक बैठे रहने से जल्दी मौत का खतरा बढ़ जाता है। ये रिसर्च नॉर्वे के ओस्लो में नॉर्वेजियन स्कूल ऑफ स्पोर्ट्स साइंसेज़ में की गई है। इस रिसर्च के लिये 36,383 प्रतिभागियों पर करीब 6 वर्षों तक नजऱ रखी गई। इन लोगों की औसत उम्र 62.6 साल थी। इस रिसर्च के लिये एक्सेलेरोमीटर का उपयोग किया गया। ये दरअसल एक पहनने योग्य उपकरण है, जो जागने के घंटो के दौरान गतिविधि की मात्रा और उसकी तीव्रता को ट्रैक करता है।

फिटनेस एक्सपर्ट्स बताते हैं कि हम चाहें तो ऐसी कई एक्सरसाइज हैं जिससे कुर्सी पर बैठे-बैठे भी आप खुद को फिट रखने में मदद कर सकते हैं। दिन में कुछ मिनट ही ये स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज़ कर के आप कमर दर्द या पीठ दर्द जैसी समस्याओं में फर्क नोटिस कर सकते हैं। अगर आपके ऑफिस में थोड़ी जगह है तो आप काम से कुछ मिनट निकाल कर कुछ और एक्सरसाइज़ भी कर सकते हैं जिसके लिये आपको किसी मशीन या इक्विपमेंट की ज़रूरत नहीं पड़ेगी।

Check Also

सोशल मीडिया से खराब होता है मानसिक स्वास्थ्य, युवाओं का तनाव करता है कम

‘आम धारणा है कि स्मार्टफोन और सोशल मीडिया लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel