'Forbes Asia Best Under A Billion' में भारत का चौथा स्थान, 24 फर्मों के साथ चीन से एक कदम आगे
Forbes Asia Best Under A Billion

'Forbes Asia Best Under A Billion' में भारत का चौथा स्थान, 24 फर्मों के साथ चीन से एक कदम आगे

'Forbes Asia Best Under A Billion' में भारत का चौथा स्थान, 24 फर्मों के साथ चीन से एक कदम आगे

नई दिल्ली। Forbes Asia Best Under A Billion: भारत में किस तरह से नए स्टार्ट अप तेजी से आगे बढ़ रहे हैं उसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि एशिया में एक बिलियन वाली कंपनियां सर्वाधिक भारत में हैं। भारत में 24 कंपनियां ऐसी हैं जिनकी कैपिटल एक बिलियन है। पिछले हफ्ते फोर्ब्स एशिया ने अपने 2022 के एडिशन में एशिया-पैसिफिक रीजन(Asia-Pacific Region) की 200 मिड साइज कंपनियों की लिस्ट जारी की थी। ये वो कंपनियां हैं जो मार्केट में लिस्टेड हैं और जिनकी कैपिटल कम से कम एक बिलियन डॉलर है। हालांकि पिछले साल 2021 में इन कंपनियों(companies) की संख्या 26 थी जोकि इस साल 24 हो गई है।

भारत ने चीन को पीछे छोड़ दिया

एशिया में सर्वाधिक एक बिलियन कैपिटल वाली कंपनियों के मामले में भारत ने चीन को पीछे छोड़ दिया है। चीन इस लिस्ट में पांचवे पायदान पर है, चीन में 22 कंपनियां ऐसी हैं जिनकी कम से कम कैपिटल 1 बिलियन डॉलर है। ताइवान में सर्वाधिक 30 कंपनियां हैं, जबकि जापान में 29 और साउथ कोरिया में 27 कंपनियां हैं। इस लिस्ट को 2 हजार कंपनियों के आधार पर चयनित किया गया है, जिनकी वार्षिक बिक्री 10 मिलियन डॉलर से अधिक है लेकिन 1 बिलियन डॉलर से अधिक है।

लंबे समय तक बेहतर प्रदर्शन

फोर्ब्स एशिया का कहना है कि इस लिस्ट का उद्देश्य उन कंपनियों की पहचान करना है जो लंबे समय तक बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं। कंपनियों का चयन पिछले तीन सालों में उनके कर्ज, बिक्री, प्रति शेयर पर कमाई के आधार पर किया गया है। फोर्ब्स ने पूरे साल के नतीजों के आधार पर 11 जुलाई 2022 के आंकड़ों के आधार पर लिस्ट को तैयार किया है। इस लिस्ट में मुख्य रूप से फार्मा सेक्टर की कंपनियों ने अपनी जगह बनाई है। कोरोना काल की वजह से इन कंपनियों ने काफी बेहतर प्रदर्शन किया। कोरोना काल के बाद रेस्टोरेंट, कंज्यूम इलेक्ट्रॉनिक(consume electronics), मनोरंजन, लग्जरी रिटेल ब्रांड से जुड़ी कंपनियों ने भी इस लिस्ट में जगह बनाई।

डॉलर इंडस्ट्रीज भी शामिल

फोर्ब्स की लिस्ट में कपड़ा बनाने वाली कंपनी डॉलर इंडस्ट्रीज भी शामिल है। कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष में 30 फीसदी का मुनाफा कमाया है। कंपनी का राजस्व 181 मिलियन डॉलर है, जबकि नेट इंकम 20 मिलियन डॉलर है, मार्केट कैपिटल की बात करें तो यह 389 मिलियन डॉलर है। इसके अलावा आरती इंडस्ट्री लिमिटेड, जोकि केमिकल प्रोडक्ट बनाती है। उसका नाम शामिल है। साथ ही द आवर ग्लास का नाम भी लिस्ट में शामिल है। कंपनी के मुनाफे में 40 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है। यह कंपनी रोलेक्स, पैटेक फिलिप जैसे ब्रांड के प्रोडक्ट बेचती है।