चंडीगढ़ के नजदीक गोलीबारी: जीरकपुर में सरेआम बाउंसर पर चलीं गोलियां, कार में आये थे हमलावर
Fired at Bouncer in Zirakpur near Chandigarh

Fired at Bouncer in Zirakpur near Chandigarh

चंडीगढ़ के नजदीक गोलीबारी: जीरकपुर में सरेआम बाउंसर पर चलीं गोलियां, कार में आये थे हमलावर

Fired at Bouncer in Zirakpur near Chandigarh : चंडीगढ़ से सटे पंजाब के मोहाली जिले के जीरकपुर में उस वक्त दशहत का माहौल पैदा हो गया जब यहां भबात क्षेत्र में पड़ते शिवा एनक्लेव में दिनदिहाड़े एक बाउंसर पर गोलियां चलीं| खैर, गनीमत रही कि बाउंसर को इस गोलीबारी में कोई नुकसान नहीं पंहुचा| समय रहते उसकी जान बच गई|

बताया जाता है कि, करीब पांच युवक एक होंडा एमेज गाड़ी में आए थे और उनके द्वारा इस घटना को अंजाम दिया गया| फिलहाल, आपको बतादें कि,होंडा एमेज सवार ये पांचों युवक मौके से भागने में कामयाब रहे हैं| इधर, घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस अपनी जांच-पड़ताल के साथ आगे की कार्रवाई कर रही है| मौके पर आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली जा रही है।

पुलिस पर आरोप .....

गोलीबारी की घटना में बाल-बाल बचे बाउंसर की पहचान 27 वर्षीय अभिषेक खैरवाल के रूप में हुई है| मामले की जानकारी देते 27 वर्षीय अभिषेक खैरवाल ने बताया कि हमलावरों के फरार होने के बाद उसने तुरंत पुलिस कंट्रोल रूम पर वारदात की जानकारी दी थी लेकिन पुलिस मौका-ए-वारदात पर एक घंटे बाद पहुंची। अभिषेक खैरवाल का पुलिस पर यह गंभीर आरोप है|

अभिषेक खैरवाल ने बताया कि वह शिवा एनक्लेव में अपने परिवार के साथ रहता है। पेशे से वह बाउंसर है लेकिन पिछले दो तीन महीने से वह काम छोड़ चुका है। मंगलवार शाम 4 बजे वह अपने घर के सामने सोनी कंस्ट्रक्शन एंड बिल्डर प्रोपर्टी डीलर के दफ्तर के साथ बनी सीढिय़ों पर बैठा था। प्रोपर्टी डीलर का मालिक सुशील कुमार दफ्तर में बैठा था। उसी दौरान ग्रे रंग की होंडा एमेज गाड़ी में पांच युवक आए। जिनमें से दो युवक उसके आसपास आकर बैठ गए।

जहां एक युवक ने अभिषेक से 27 सौ रुपये मांगे। अभिषेक ने उसे कहा कि मैंने उसके कोई पैसे नहीं देने। दूसरा युवक बोला सन्नी ने तेरा घर दिखाया है कि पैसे अभिषेक देगा। जब अभिषेक ने कहा कि वह किसी सन्नी को नहीं जानता, तो हमलावर उसे जबरन गाड़ी में बिठाने लगे। अभिषेक ने हाथापाई कर खुद को हमलावरों की पकड़ से छुडाया और भागकर प्रापर्टी डीलर के दफ्तर में घुस गया। तभी हमलावरों ने उस पर दो गोलियां चलाई, जो उसे ना लगकर प्रापर्टी डीलर के दफ्तर के फ्रंट डोर पर लगी, जिस कारण कांच टूट गया।

गाड़ी पर लगी थी दो अलग-अलग नंबर प्लेट

अभिषेक ने कहा कि हमलावर फायरिंग करने उपरांत गांव नाभा की तरफ फरार हो गए। दिनदिहाड़े गोली चलने से सोसायटी के लोगों में सहम का माहौल है। वहीं, लोगों का कहना है कि जिस होंडा एमेज पर हमलावर भागे है, उस पर आगे -पीछे अलग-अलग नंबर की प्लेट लगी थी। एक नंबर प्लेट पीबी 11 व दूसरी पीबी-15 थी। पांचों हमलावर सिर से मौने थे , जिनमें से एक युवक अबोहर साइड की भाषा बोल रहा था, जबकि दूसरा हरियाणवी। अभिषेक ने बताया कि दो साल पहले भी उसे  2 लाख रूपये रंगदारी की काल आई थी, जिन्हें वह नहीं जानता।

रिपोर्ट - मनिंदर मनौली