Home » ब्रेकिंग न्यूज़ » जाने वाले साल की आखिरी रात को ये चीजें खाएं, आने वाले साल में सब GOOD…GOOD होगा
जाने वाले साल की आखिरी रात को ये चीजें खाएं, आने वाले साल में सब GOOD...GOOD होगा
जाने वाले साल की आखिरी रात को ये चीजें खाएं, आने वाले साल में सब GOOD...GOOD होगा

जाने वाले साल की आखिरी रात को ये चीजें खाएं, आने वाले साल में सब GOOD…GOOD होगा

नई दिल्ली: अब साल 2019 को अलविदा कहने का समय आ गया है और एक कदम आगे बढ़ते हुए साल 2020 में प्रवेश करने की तैयारी है|ऐसी में सबके मन में एक ही बात खटकती रहती है कि कैसा होगा आने वाला साल|क्या यह नया साल उन्हें खुशियां दे पायेगा|फिलहाल, हम आपके लिए जो खबर लेकर आये हैं वो आपके नए साल को खास बना देगी|आपका नया साल आपके खाने से जुड़ा है|आप साल की आखिरी रात को क्या खा रहे हैं वही आपके नए साल के लिए महत्वपूर्ण है|

कहा जाता है कि, कुछ ऐसी चीजें हैं जिन्हे 31 दिसंबर की रात खाने से आने वाला नया साल GOOD…GOOD ही होता है|आइए जानते हैं, किन चीजों को खाने से आएगा गुडलक………

दाल……

साल की आखिरी रात पर हरी सब्जियां और दालें खाने से गुडलक आता है| दाल को आर्थिक संपन्नता से जोड़कर देखा जाता है क्योंकि ये सिक्कों की तरह गोल होती है और पानी में भिगोए जाने पर फूल जाती हैं|

अंगूर……

ऐसी मान्यता है कि साल की आखिरी रात पर गुडलक के लिए 12 अंगूर खाने चाहिए|ताकि साल के 12 महीनों में भाग्य का साथ मिलता रहे|

नूडल्स………

नूडल्स लंबी आयु का प्रतीक बताई गई है|चीन और जापान में साल की आखिरी रात पर नूडल्स खाने की परंपरा है|इस परंपरा में नूडल्स को बिना तोड़कर खाया जाता है|

संतरा…….

पीले-नारंगी फलों को आर्थिक संपन्नता का प्रतीक माना जाता है|साल की आखिरी रात पर संतरे जैसे फल खाने चाहिए|

अनार…..

साल की आखिरी रात पर आप अनार भी खा सकते हैं|मान्यता के मुताबिक, फल में जितने ज्यादा बीज होंगे, उतना ज्यादा शुभ होगा|

सेब……..

साल की आखिरी रात पर सेब भी खाते हैं क्योंकि इसे प्रेम और फर्टिलिटी का प्रतीक माना जाता है|

दही……..

कोई भी नई शुरुआत करने से पहले दही खाना शुभ माना जाता है|दही को शुभता का प्रतीक माना जाता है, इसलिए नए साल के पहले दिन सुबह उठकर दही जरुरु खाएं|सौभाग्य बढ़ेगा|

Check Also

CBSE के विद्यार्थियों को बड़ी राहत, कोरोना के चलते घटा पाठ्यक्रम

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के चलते लागू हुए लॉकडाउन और बन्द हुए स्कूल के कारण …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel