नन्द लाल शर्मा अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक एसजेवीएन ने दृष्टि कॉन्क्लेव 2022का उद्घाटन किया

Punjab CM
Punjab CM

नन्द लाल शर्मा अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक एसजेवीएन ने दृष्टि कॉन्क्लेव 2022का उद्घाटन किया

Drishti Conclave 2022

Drishti Conclave 2022

शिमला। Drishti Conclave 2022: एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री नन्दलाल शर्मा ने रॉयल ट्यूलिप, कुफरी, शिमला में एसजेवीएन के अधिकारियों के लिए 'दृष्टि कॉन्क्लेव 2022' का उद्घाटन किया।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि, श्री नन्द लाल शर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि दृष्टि कार्यक्रम की संकल्पना सभी कर्मचारियों के बीच साझा विज़न और इस विज़न को साकार करने के लिए उनके प्रयासों को समन्वित करने के लिए की गई है। कार्यक्रम का उद्देश्य कंपनी को सफलता की नई ऊंचाइयों पर ले जाते हुए भविष्य की चुनौतियों और अवसरों के लिए जनशक्ति को तैयार करना भी है।
श्रीनन्द लाल शर्मा ने कहा कि"दृष्टि कॉन्क्लेव,1012 कर्मचारियों के लिए आयोजित इन-हाउस 29 ऐसे प्रशिक्षण कार्यक्रमों की परिणति है। इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों ने कर्मचारियों को सामूहिक रूप से विचार-मंथन करने और नई चुनौतियों और अवसरों की पहचान करने के लिए मंच प्रदान किया, जिनका सामना साझा विज़न के चुनौतीपूर्ण मार्ग में हो सकता है। इससे कर्मचारियों की क्षमता, टीम भावना और समूह सामंजस्य के स्तर को बढ़ाने में मदद मिली है।“

एसजेवीनाइट्स के कड़े प्रयासों

श्री नन्दलाल शर्मा ने कहा कि एसजेवीनाइट्स के कड़े प्रयासों और प्रतिबद्धता से सशक्त होकर एसजेवीएनआगे बढ़ रहा है। वर्तमान में एसजेवीएन के पास लगभग 42000 मेगावाट का विविधीकृत पोर्टफोलियो है और यह भारत और विदेशों में 70 परियोजनाओं का विकास कर रहा है।

मुख्य आकर्षण प्रतिष्ठित लेखक

कॉन्क्लेव का मुख्य आकर्षण प्रतिष्ठित लेखक और प्रेरक वक्ता श्री चेतन भगत का प्रेरणापूर्ण सत्र रहा। तेरह ब्लॉकबस्टर किताबों के लेखक, श्री चेतन भगत दुनिया भर में लाखों लोगों के लिए प्रेरणास्त्रोत हैं। न्यूयॉर्क टाइम्स ने उन्हें 'भारत के इतिहास में अंग्रेजी भाषा का सबसे ज्यादा बिकने वाला उपन्यासकार' कहा है और टाइम पत्रिका ने उन्हें 'दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों' में अभिनामित किया है।
कॉन्क्लेव के दौरान एसजेवीएन के विभिन्न कार्यालयों के कर्मचारियों की छ: टीमों ने एसजेवीएन 2040 और उससे आगे, विद्युत क्षेत्र में इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ऊर्जा के गैर-पारंपरिक स्रोत का भविष्य, एसजेवीएन की कॉर्पोरेटकार्यनीति , हरित हाइड्रोजन नीति और पावर सेक्टर में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंसजैसे विभिन्न विषयों परप्रेजेंटेशन दी।
इस अवसर पर निदेशक (कार्मिक) श्रीमती गीता कपूर, निदेशक (वित्त) श्री ए.के. सिंह, दृष्टि प्रशिक्षण कार्यक्रमों के फैकल्टी श्री शेखर गुप्ता (सेवानिवृत्त आईएएस), श्री रोमेश कपूर (पूर्व ईडी एसजेवीएन), श्री अनिल गुप्ता (पूर्व सीजीएम एसजेवीएन) और श्री क्रांति गुप्ता (पूर्व जीएम एसजेवीएन) और एसजेवीएन के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहे।

यह पढ़ें:

यह पढ़ें: