मारीपोल के मलबे में दबी पड़ी हैं लाशें, सड़ने से फैल रही दुर्गंध
मारीपोल के मलबे में दबी पड़ी हैं लाशें

मारीपोल के मलबे में दबी पड़ी हैं लाशें, सड़ने से फैल रही दुर्गंध

मारीपोल के मलबे में दबी पड़ी हैं लाशें, सड़ने से फैल रही दुर्गंध

कीव। वैसे तो समूचे यूक्रेन में रूस के हमले की पीड़ा देखने को मिली लेकिन सबसे अधिक भयावहता यहां के शहर मारीपोल (Mariupol) ने झेला है। यहां मलबे में तब्दील एक अपार्टमेंट के भीतर से 200 शवों को बरामद किया गया। यूक्रेन के अधिकारियों ने बताया कि जब वर्करों ने यहां के एक अपार्टमेंट के मलबे की खुदाई की तो बेसमेंट में 200 शव मिले। ये शव बदहाल स्थिति में थे और इनसे दुर्गंध आने लगी थी । तीन माह पुराने जंग में मिले जख्म मारीपोल में हरे हैं। मारपोल के मेयर के सलाहकार पेट्रो आंद्रयुशचेन्को ने बताया कि मलबे में दबी लाशें सड़ रहीं हैं।

एपी के अनुसार करीब 600 लोगों की थियेटर हमले में मौत हो गई। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की (Volodymyr Zelenskyy) ने आरोप लगाया कि जंग के पीछे रूस की मंशा रही है कि अधिक से अधिक लोगों की मौत हो और देश में विनाशकारी हालात हो जाए। जेलेंस्की ने कहा , 'यूरोप में पिछले 77 सालों में इस तरह का युद्ध नहीं हुआ था।'

रूस के सैनिकों ने औद्योगिक शहर को कब्जे में ले लिया। थर्मल पावर स्टेशन वाले इस शहर के साथ रूस सिवियरदोनेत्सक व अन्य शहरों पर भी कब्जा करने के प्रयास में जुट गया। डोनबास के दोनेत्सक में रूसी बमबारी में 12 लोगों की मौत हो गई। लुहांसक के गवर्नर ने बताया कि जब से अलगाववादियों ने जंग छेड़ी है तब से पहली बार इतनी कठिनाइयों का दौर सामने आया है। मेयर ने टेलीग्राम पर लिखा, 'एक साथ रूस ने देश में चौतरफा हमला बोला है। अपने साथ ये कई लड़ाकों व हथियारों को लेकर आए हैं। लुहांस्क में अब मारीपोल जैसे हालात बन रहे हैं।'