Chandigarh MMS Case : मुख्यमंत्री भगवंत मान के निर्देशों पर चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी मामले की तेज़ी से जांच करने के लिए तीन सदस्यीय आल वुमैन एस. आई. टी. का गठन
Chandigarh MMS Case

Instructions of Chief Minister Bhagwant Mann

मुख्यमंत्री भगवंत मान के निर्देशों पर चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी मामले की तेज़ी से जांच करने के लिए तीन सदस्यीय आल वुमैन एस. आई. टी. का गठन

एडीजीपी महिला मामले गुरप्रीत कौर दिओ की पूर्ण निगरानी में गठित की गई एस. आई. टी.

मामले की पूरी गहरायी तक जांच करेगी विशेष जांच टीम, किसी भी दोषी को बख़्शा नहीं जायेगा : डीजीपी गौरव यादव

डीजीपी पंजाब की तरफ से विद्यार्थियों, माता-पिता और भाईचारे को अमन और शान्ति बनाई रखने की अपील

चंडीगढ़, 19 सितम्बरः

Instructions of Chief Minister Bhagwant Mann : पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के दिशा-निर्देशों पर डीजीपी पंजाब गौरव यादव ने सोमवार को ए. डी. जी. पी. कम्युनिटी अफेअरज़ डिवीज़न और महिला मामले गुरप्रीत कौर दिओ की निगरानी अधीन तीन सदस्यीय आल वूमैन स्पैशल इन्वेस्टिगेशन टीम ( एस. आई. टी.) का गठन किया है जिससे चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी मामले की प्रभावी और तत्काल जांच को यकीनी बनाया जा सके।

इस विशेष जांच टीम में एस. पी. काउंटर इंटेलिजेंस लुधियाना रुपिन्दर कौर भट्टी बतौर इंचार्ज और दो सदस्यों डी. एस. पी. खरड़-1 रुपिन्दर कौर और डी. एस. पी. ए. जी. टी. एफ. दीपिका सिंह सदस्यों के तौर पर शामिल हैं। यह एस. आई. टी. डीआईजी रूपनगर रेंज गुरप्रीत सिंह भुल्लर और एस. एस. पी. एस. ए. एस. नगर विवेक शील सोनी की निगरानी अधीन काम करेगी, और काम की ज़रूरत अनुसार किसी और मैंबर का चयन कर सकती है।

यह कार्यवाही मुख्यमंत्री भगवंत मान की तरफ से मामले की उच्च स्तरीय जांच के हुक्म दिए जाने से एक दिन बाद सामने आई है।चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी में घटी घटना को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुये डी. जी. पी. गौरव यादव ने बताया कि इस मामले की जांच पूरी सक्रियता से चल रही है और पुलिस ने रविवार देर शाम उस विद्यार्थी और हिमाचल प्रदेश के दो अन्य व्यक्तियों समेत कुल तीन गिरफ्तारियां की हैं और दोषियों के पास से कुछ इलेक्ट्रानिक यंत्र भी ज़ब्त किये हैं। उन्होंने पंजाब पुलिस को हर तरह का सहयोग देने के लिए डीजीपी हिमाचल प्रदेश और हिमाचल प्रदेश पुलिस का भी धन्यवाद किया।

उन्होंने भरोसा देते हुये कहा कि एस. आई. टी. इस मामले की तह तक जांच करेगी और जो भी दोषी पाया गया उसे बख़्शा नहीं जायेगा। विद्यार्थियों, माता-पिता और समूह भाईचारे को अमन-शान्ति बनाये रखने की अपील करते हुए, डीजीपी ने उनको सभी सम्बन्धित विद्यार्थियों की गोपनीयता और सम्मान की रक्षा करने का भरोसा दिया। उन्होंने लोगों को यह भी अपील की कि वह जानकारी के लिए सिर्फ़ प्रामाणिक चैनलों पर भरोसा करें और अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर फैलाई जा रही अफ़वाहों, जोकि कई बार अप्रमाणित होती हैं, से गुरेज़ किया जाये।

पूरी खबर पढ़ें -  मुख्यमंत्री भगवंत मान के निर्देशों पर चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी मामले की तेज़ी से जांच करने के लिए तीन सदस्यीय आल वुमैन एस. आई. टी. का गठन