Home » चंडीगढ़ » 36 आवासीय सम्पतियों की सेल से सीएचबी को मिला 29.41 करोड़           
chb-gets-29-41-crore-from-sale-of-36-residential-properties

36 आवासीय सम्पतियों की सेल से सीएचबी को मिला 29.41 करोड़           

अर्थ प्रकाश/साजन शर्मा
चंडीगढ़। चंडीगढ़ हाउसिंग बोर्ड (सीएचबी) को विभिन्न सेक्टरों में अपनी आवासीय संपत्ति बेचने से 29.41 करोड़ रुपये का राजस्व मिला है। कुल 109 सम्पतियों का आरक्षित मूल्य 26.58 करोड़ रखा गया था। पहले फेज के तहत शहर के चार सेक्टरों में बनी अपनी 109 आवासीय संपत्तियों को बेचने के लिएबोर्ड की और से टेंडर जारी किया गया था, जिसमें से  36 संपत्तियां बिक पाई हैं। बाकी दोबारा बेची जाएंगी।
सीएचबी ने इस बार बेहतर प्रस्तावों और गोपनियता को बरकरार रखने के लिए टेंडरिंग का सहारा लिया था। टेंडर में सेक्टर-63, सेक्टर-51, सेक्टर-38वेस्ट और सेक्टर-49 की संपत्ति को बेचने के लिए रखा गया था। इसमें सेक्टर-63 का तीन बेडरुम फ्लैट सबसे अधिक आरक्षित मूल्य 86 लाख रुपये के मुकाबले 1.05 करोड़ रुपये में बेचने में सफल रहा। इसी तरह दूसरे नंबर पर भी सेक्टर-63 के ही तीन बेडरुम फ्लैट के लिए 1.02 करोड़ रुपये की बोली आई। बोर्ड ने 30 अप्रैल को तकनीकी बोली खोली थी, जिसमें 36 संपत्तियों के लिए 105 बोली आई थी। इनमें से जिनके सभी के दस्तावेज पूरे थे, उनकी सोमवार को वित्तीय बोली खोली गई। इस संबंध में बोर्ड के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले साल के मुकाबले इस बार उन्हें ई-टेंडरिंग में अच्छी प्रतिक्रिया मिली है, क्योंकि पिछली बार एक भी व्यक्ति ने रूची नहीं दिखाई थी।
सीएचबी की सभी संपत्तियों के लिए औसतन 10 प्रतिशत से अधिक बोली लगी है, क्योंकि बोर्ड ने 10 प्रतिशत तक ही संपत्तियों का आरक्षित मूल्य भी कम किया था। बोर्ड सबसे अधिक सेक्टर-51 में 17 फ्लैट्स बेचने में सफल रहा। इसके अलावा सेक्टर-63 में 16, सेक्टर-49 में 2 और सेक्टर-38वेस्ट में 1 फ्लैट बेचने में सफल रहा है। इस दौरान 12 संपत्तियों के लिए एक-एक बोली आई। 8 संपत्तियों के लिए दो-दो बोली, दो संपत्तियों के लिए आठ-आठ बोली और एक संपत्ती के लिए 12 लोगों ने बोली लगाई थी।
सबसे अधिक बोली लगाने वाले बिडर को 24 घंटे के बजाए 5 दिन में बोली राशि का 25 प्रतिशत जमा करवाने की अनुमति दी गई है। हालांकि बोर्ड ने अब उसके लिए 10 मई तक की तारीख निर्धारित कर दी है। अगर बोलीदाता द्वारा तय समय के अंदर राशि का भुगतान नहीं करता है तो बोर्ड की तरफ से ईएमडी जब्त कर ली जाएगी और बोलादाता को सीएचबी की किसी भी संपत्ती के लिए बोली लगाने से ब्लैक लिस्ट कर दिया जाएगा।

Check Also

गृह मंत्री ने DGP सौंपी लॉकडाउन 20 मई तक बढ़ाने का फर्जी मैसेज की जांच

चंडीगढ़। हरियाणा में कोरोना से चल रही जंग के बीच कुछ असामाजिक तत्व अफवाहें फैलाकर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel