Home » चंडीगढ़ » कहीं ढोल में पोल वाली कहावत का उदाहरण न बन जाये चंडीगढ़, ये कैसी हालत हो रखी है

कहीं ढोल में पोल वाली कहावत का उदाहरण न बन जाये चंडीगढ़, ये कैसी हालत हो रखी है

चंडीगढ़: शहर में सबकुछ ठीकठाक है अधिकारी अक्सर ऐसा ढोल पीटते हुए देखे जाते हैं लेकिन वास्तव में यह ढोल में पोल है।ये सिर्फ कुछ चुनिंदा स्थानों को चमकाकर यह कहते फिरते हैं कि शहर में सबकुछ चकाचक है।वहीं जब इस चकाचक के पीछे की चरमराई हुई हालत की तस्वीरें उभरकर सामने आती हैं तो फिर ये मुँह फेरते हुए घूमते हैं क्योंकि इनके चकाचक शब्द पर बदहाल हालत अपना ताला जो लगा देती है।फिलहाल, अगर ऐसा ही चलता रहा तो डर इस बात का है कि बाहरी लोग जो चंडीगढ़ कभी आये नहीं हैं और आने की इच्छा रखते हैं क्योंकि वह इसके बारे में बेहद अच्छा अच्छा सुनते हैं जिससे वह इस शहर को बड़ा मेंटेन शहर मानते हैं बड़ा खूबसूरत मानते हैं और बड़ा साफसुथरा मानते हैं लेकिन अगर उन्होंने यहां आकर शहर का जायजा ले लिया और वह शहर की ऐसी बदहाल हालतों से रूबरू हो गए तो वह ये कहावत अवश्य कहेंगे कि सब ढोल में पोल है सुना कुछ निकला कुछ।इसलिए ऐसे हालात उत्पन्न न हो इसके लिए शहर को मेंटेन रखना बेहद आवश्यक है।

अगर शहर की सड़कों की बात करें जिनसे कोई भी सबसे पहले रूबरू होता है उनकी हालत इस समय यहां बेहद बेहद बेकार है।हालांकि कुछ सड़कें दुरुस्त है लेकिन अधिकतर सड़कें मरम्मत मांग रही हैं।पिछले दिनों भी हमने सड़कों की मरम्मत को लेकर मुद्दा उठाया था इसमे साईकल ट्रैक और अंदुरुनी सड़कें भी शामिल थीं।वहीं अब फिर कुछ ऐसी तस्वीरें सामने आई है जिनमे सड़कें मरम्मत मांगती हुई दिख रही हैं लेकिन मजाल है कि उन्हें मरम्मत मिल जाये।लापरवाही की हद है।

देखें तस्वीरें और वीडियो….

37A स्लिप रोड का हाल…और उसके नीचे देखिये साईकल ट्रैक जिनपर चलने के लिए ट्रैफिक पुलिस साईकल वालों, रिक्शे वालों को भेज रही है…

Posted by Shiva Tiwari

Check Also

लाल किले से 15 अगस्त को PM Modi देश की जनता के लिए कर सकते हैं ये बड़ा एलान, जरूर पढ़ें

पुनीत सैनी l भारत में देसी वैक्सीन के आने की अटकलें तो जुलाई से चल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel