Cancer: रोजाना 45 मिनट की एक्सरसाइज कम कर देगी कैंसर का रिस्क
Daily Exercise Reduces The Risk Of Cancer

Cancer: रोजाना 45 मिनट की एक्सरसाइज कम कर देगी कैंसर का रिस्क

Cancer: रोजाना 45 मिनट की एक्सरसाइज कम कर देगी कैंसर का रिस्क

दिल्ली। Cancer: कैंसर के मरीजों की संख्या में रोजाना इजाफा हो रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की मानें तो हर साल 10 मिलियन कैंसर के नए मामले आते हैं। भारत में दस में एक व्यक्ति के कैंसर से होने की संभावना रहती है। जानकारों की मानें तो कैंसर बीमारी विटामिन बी17 की कमी के चलते होती है। इसके अलावा, कैंसर बीमारी होने के कई अन्य कारण भी हैं। यह बीमारी शरीर में अकस्मात और असमान्य रूप से कोशिका सेल्स बढ़ने लगती हैं। सामान्यतः कैंसर 13 प्रकार के होते हैं। इनमें  ब्रेस्ट कैंसर, ओवेरियन कैंसर, स्किन कैंसर, लंग कैंसर, कोलोन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और लिंफोमा प्रमुख हैं। कैंसर का इलाज संभव है। प्राथमिक स्तर पर इसका इलाज किया जा सकता है। कैंसर के लक्षण दिखने पर तत्काल डॉक्टर से संपर्क कर उपचार कराना उचित होता है। लापरवाही बरतने से यह बीमारी जानलेवा हो सकती है। वहीं, कैंसर के खतरे को एक्सरसाइज के जरिए कम किया जा सकता है।  इसके लिए रोजाना इन एक्सरसाइज को जरूर करें। आइए जानते हैं-

--हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो कैंसर के खतरे को कम करने के लिए रोजाना 1 घंटे एक्सरसाइज करें। अगर रोजाना 1 घंटे एक्सरसाइज संभव नहीं है, तो 30 मिनट एक्सरसाइज करें। इससे कैंसर का खतरा कम होता है।

-अगर आप शारीरिक रूप से सक्षम नहीं है, तो डॉक्टर से संपर्क कर शरीर के अनुरूप एक्सरसाइज कर सकते हैं। 

कौन सी एक्सरसाइज करें ?

कैंसर के खतरे को कम करने के लिए आप ब्रिस्क वाकिंग, स्विमिंग, स्लो साइकिलिंग और योग कर सकते हैं। इसके अलावा, आप फुटबॉल, स्क्वैश, नेटबॉल, बास्केटबॉल आदि गेम भी खेल सकते हैं।

ब्रिस्क वॉकिंग

दौड़ने और पैदल चलने के बीच की मुद्रा को ब्रिस्क वॉकिंग कहा जाता है। इसमें व्यक्ति को न तो धीरे चलना होता है और न ही दौड़ना होता है। आप ब्रिस्क वॉक पार्क या मैदान में कर सकते हैं। इसमें तेजी से चलना होता है, जिससे शरीर के सभी अंगों में खिंचाव पैदा होता है। साथ ही साइकिलिंग करने से भी कैंसर का खतरा कम हो जाता है।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।