ब्रेकिंग न्यूज़
Home » Tri-city » बबला ने मेयर पद के लिए नामांकन दाखिल किया, कांग्रेस की संघर्ष की लड़ाई : पवन बंसल
बबला ने मेयर पद के लिए नामांकन दाखिल किया, कांग्रेस की संघर्ष की लड़ाई : पवन बंसल

बबला ने मेयर पद के लिए नामांकन दाखिल किया, कांग्रेस की संघर्ष की लड़ाई : पवन बंसल

चंडीगढ़। नगर निगम चंडीगढ़ के मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर एवं डिप्टी मेयर के आगामी नौ जनवरी को होने वाले चुनावमें कांग्रेस की तरफ से आज देविन्दर सिंह बबला ने मेयर पद के लिए अपना नामांकन दाखिल किया। निगम के एडिशनल कमिश्नर डा. सौरभ मिश्रा के समक्ष उन्होंने अपना नामांकन दाखिल किया।चंडीगढ़। नगर निगम चंडीगढ़ के मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर एवं डिप्टी मेयर के आगामी नौ जनवरी को होने वाले चुनावमें कांग्रेस की तरफ से आज देविन्दर सिंह बबला ने मेयर पद के लिए अपना नामांकन दाखिल किया। निगम के एडिशनल कमिश्नर डा. सौरभ मिश्रा के समक्ष उन्होंने अपना नामांकन दाखिल किया। सीनियर डिप्टी मेयर पद के लिए शीलाफूल सिंह ने, जबकि डिप्टी मेयर पद के लिए रविन्दर कौर गुजराल ने नामांकन दाखिल किया। उक्त तीनों प्रत्याशियों ने आज दोपहर बाद पूरे दल-बल के साथ निगम कार्यालय पहुंच कर अपना शक्ति प्रदर्शन भी किया।  कांग्रेस के काफिले में पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल, टेरिटोरियल कांग्रेस अध्यक्ष प्रदीप छाबड़ा, पूर्व मेयर एवं वरिष्ठ नेता सुभाष चावला, कांग्रेस के पूर्व युवा प्रधान हरमेल केसरी,  पूर्व मेयर पूनम शर्मा, कांग्रेस उपाध्यक्ष एचएस लक्की, पूर्व मेयर हरफूल चंद कल्याण, वरिष्ठ नेता पवन शर्मा, वरिष्ठ नेता रामपाल शर्मा, पार्षद श्रीमती गुरबक्श रावत, चंडीगढ़ कांग्रेस के युवा प्रधान सहित, मीनाक्षी चौधरी,  पूर्व मेयर श्रीमती कमलेश बनारसी दास, अजय जोशी के अलावा संगठन के दर्जनों लोग शामिल थे। पवन बंसल ने कहा कि उनकी पार्टी सदन में अल्पमत में है। किन्तु वह इन पदों को निर्विरोध नहीं जाने देंगे। उन्होंने आगे कहा कि यह लड़ाई सिर्फ वोटों की लड़ाई नहीं है बल्कि कांग्रेस के संघर्ष की लड़ाई है। अपने दम की लड़ाई कांग्रेस पूरे जोश होश के साथ लड़ेगी।  मेयर प्रत्याशी देविन्दर सिंह बबला ने कहा कि सत्तारूढ़ पार्टी  भाजपा के भीतर अंदरूनी कलह का लाभ उन्हें मिलेगा। उन्होंने कहा कि भाजपा के भीतर फूट के दम पर वह मेयर का चुनाव भी जीत सकते हैं, ऐसी संभावना दिखायी दे हरी है। बबला ने बताया कि आने वाली नौ तारीख को पता चल जाएगा कि कांग्रेस केवल बयानबाजियों में ही विश्वास नहीं करती बल्कि जनसामान्य के साथ किए वायदे पर खरा उतरने का प्रयास भी करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Share