पहले पर्दे के पीछे अब कैमरे के आगे, रणबीर कपूर से लेकर विक्की कौशल तक ये सितारे कर चुके हैं बिहाइंड द कैमरा काम

बॉलीवुड इंडस्ट्री में पॉपुलर होने से पहले कई स्टार्स ने असिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में काम करके फिल्म मेकिंग की बारीकियों को सीखा है। बता दें कि रणबीर कपूर से लेकर विक्की कौशल और वरुण धवन तक कई ऐसे एक्टर्स रहे जिन्होंने फिल्मों में आने से पहले जाने माने डायरेक्टर्स के साथ काम करके इंडस्ट्री में अपनी जर्नी को कैमरे के पीछे से शुरू किया है।

बॉलीवुड के सबसे पॉपुलर और वर्सेटाइल एक्टर्स में से एक रणबीर कपूर ने अपने करियर की शुरुआत जाने माने फिल्म मेकर संजय लीला भंसाली की क्रिटिकल एक्लेम्ड फिल्म "ब्लैक" (2005) में असिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में की थी।

बॉलीवुड में अपना डेब्यू करने से पहले वरुण धवन ने बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर करण जौहर की फिल्म माय नेम इज खान(2010) में काम किया था। जौहर के मेंटोरशिप में काम करना वरुण धवन के लिए सीखने का एक बड़ा मौका था, जहां उन्होंने स्टोरी टेलिंग और डायरेक्शन की बारीकियां सीखीं।

सिद्धार्थ मल्होत्रा भी पर्दे पीछे काम कर चुके हैं। 'स्टूडेंट ऑफ द इयर' में डेब्यू करने से पहले सिद्धार्थ मल्होत्रा ने धर्मा प्रोडक्शन के साथ काम किया। ठीक वरुण धवन के साथ ही वो 'माय नेम इज खान' में काम करते नजर आए। इस फिल्म के जरिए वो डायरेक्शन को करीब से समझन में लगे थे।

विक्की कौशल ने अपने करियर की शुरुआत अनुराग कश्यप के असिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में क्लासिक फिल्म "गैंग्स ऑफ वासेपुर" (2012) से की थी। इस गंभीर, जटिल फिल्म पर काम करने से विक्की कौशल को कैरेक्टर डेवलपमेंट और कहानी कहने की गहरी समझ मिली।

कश्यप की अलग तरह की फिल्म मेकिंग स्टाइल के जरिए विक्की कौशल को मिले अनुभव ने एक्टिंग की तरफ उनके नजरिए पर असर डाला है, जिससे वे बॉलीवुड में सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले एक्टर्स में से एक बन गए हैं।

पॉलिटिक्स में मौजूद अपने भाइयों से अलग ऐश्वर्य ठाकरे ने अपने लिए एक्टिंग और एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का रास्ता चुना है।