अपराध रोकने के लिए साथ-साथ काम करेगी ट्राईसिटी की पुलिस - Arth Parkash
ब्रेकिंग न्यूज़
Home » चंडीगढ़ » अपराध रोकने के लिए साथ-साथ काम करेगी ट्राईसिटी की पुलिस
अपराध रोकने के लिए साथ-साथ काम करेगी ट्राईसिटी की पुलिस

अपराध रोकने के लिए साथ-साथ काम करेगी ट्राईसिटी की पुलिस

  प्रशासक ने बुलाई अधिकारियों की बैठक, खाका तैयार

चंडीगढ़।(दिग्विजय मिश्रा)- ट्राई सिटी में बढ़ते अपराध को देखते हुए प्रशासक ने अधिकारियों की बैठक कर अपराध रोकने के लिए खाका तैयार करने को कहा है। यह पहली बार हुआ है जब अपराध रोकने के लिए इस प्रकार से ट्राईसिटी के अधिकारी एक साथ आएं हों।  इस मीटिंग के दौरान पंजाब हरियाणा के डीजीपी सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहेे। शुक्रवार को ट्राई सिटी में अधिकारियों की मीटिंग हुई। जिसमें अपराध पर नकेल कसने के लिए ट्राई सिटी के सभी अधिकारी एक साथ काम करने पर सहमत हुए। चंडीगढ़ डीजीपी तेजेन्द्र सिंह लूथरा व डीआईजी ओपी मिश्रा ने मीडिया कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि पिछले 15 दिनों से एक साथ मिलकर काम करने से अपराध को रोकने में काफी हद तक सहयोग मिला है। यह पुलिस के लिए बड़ा अच्छा कदम साबित हो रहा है। जिसे आगे तक ले जाया जाएगा।

चेन स्नैचर पर नजर-

जो चेन स्नैचर पकड़े जा चुके हैं और वह कोर्ट से बेल पर बाहर हैं, उन पर पैनी नजर रख कर उनकी दिनचर्या पर भी नजर रखी जा रही है। वह सही कामों में है या फिर पुरानी हरकतों में आकर वारदात को अंजाम दे रहे हैं। इसी क्रम में जो स्नेचर कोर्ट की हर पेशी पर हाजिर नहीं हो रहा है उस व्यक्ति की पहचान कर उससे मिल कर जानने की कोशिश की जा रही है कि वह कोर्ट में क्यों पेश नहीं हुआ। उस पर खास नजर रखी जा रही है। जिसके कारण बीते  15 दिनों से चेन स्नैचिंग पर पूरी तरह रोक लग गई है।

बॉर्डरों पर लगाएंगे सीसीटीवी कैमरा-

डीआईजी ओपी मिश्रा ने बताया कि जितनी भी वारदात को अंजाम दिया जाता है ज्यादातर वारदात चंडीगढ़, पंचकूला व मोहाली के बार्डरों पर ही की जाती हैं जिन्हें रोकने के लिए ट्राईसिटी के बार्डरों पर सीसीटीवी कैमरे लगाएं जाएंगे। जिससे आरोपी पुलिस की नजर से नहीं बच पाएगे। अगर वारदात को अंजाम देते हैं तो कैमरे में कैद होने के कारण पुलिस आरोपियों तक बहुत जल्द पहुंच जाएगी।

पीसीआर व चीता को लगाया गया चेकिंग में-

डीजीपी तजेन्द्र सिंह लूथरा ने बताया कि चीता के साथ-साथ अब पीसीआर भी दो पहिया गाडिय़ों की चेकिंग करेंगी। यह जांच वाहन साफ्टवेयर के माध्यम से की जाएगी। जिससे फर्जी नंबर प्लेट लगाकर घूमने वाले आरोपी की पहचान करने में आसानी होगी और पुलिस से बच पाना और भी कठिन हो जाएगा।

थ्रीव्हीलर को भी किया जा रहा चेक-

कांफ्रेंस के दौरान जानकारी देते हुए अधिकारियों ने बताया कि इस काम में थ्री व्हीलर को भी चेक किया जा रहा है क्योंकि बीते कुछ दिनों से ऑटो ड्राइवर भी अपराध में पकड़े जा चुके हैं। इस महीने में अभी तक ३८२२ आटो का चालान किया जा चुका है, वहीं ५६ ऑटो को बांड किया गया है। यब कैंपेन लगातार जारी रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Share