धर्म / संस्कृति Archives - Arth Parkash
Thursday, June 21, 2018
Breaking News
Home » धर्म / संस्कृति

महावीर वन में गए सो बन गए : स्वस्ति भूषण माताजी

पूज्य गुरु मां ने अपने प्रवचन में कहा, आज व्यक्ति ने पक्षी की तरह आकाश में उडऩा सीख लिया आज आदमी ने मछली की तरह पानी में तैरना सीख लिया पर आदमी ने धरती पर इंसान की तरह चलना नहीं सीखा द्य वह दूसरों के द्वारा की क्रिया की नकल बड़ी अच्छी तरह करता है, किंतु स्वयं के असली रूप ... Read More »

सत्य केवल निराकार ईश्वर है : निरंकारी बाबा

चंडीगढ़: वाकई ही जो इस प्रभु, ईश्वर, परमात्मा-निराकार का बोध हासिल कर लेता है उसके जीवन में उजाला आ जाता है। उसके मन में रोशनी आ जाती है, उसके भ्रमों की दीवार गिर जाती है। जो भ्रम पाल कर वह सारी उम्र बिताता चला जाता हैए जिसके कारण ये दूरियां बनी रहती हैं उनका नाश हो जाता है। जैसे दीपक ... Read More »

पानी व पेड़ पौधों को बचाएं, कहीं देर न हो जाए: मुनिश्री आलोक

चंडीगढ़: जिस तरह से पानी व पेड़ पौधों के कारण उत्पन्न हुए पर्यावरण संकट ने पंजाब, हरियाणा, हिमाचल, राजस्थान समेत पूरे उत्तर भारत को अपनी लपेट में लिये हुए है हर जगह गर्मी व धूल भरे कणों ने आम जनजीवन को अस्त व्यस्त बना दिया। जिस कारण बाहर निकलना तो दूर की बात सांस लेने में भी परेशानी हो रही ... Read More »

जैसी संगत वैसी रंगत: श्री 105 स्वस्ति भूषण माताजी

चंडीगढ़: पूज्य माता जी ने आज अपने प्रवचनों में कहा कि इंसान को जैसा बनना है उसके लिए उसे कुछ करने की जरूरत नहीं, वह वैसी संगत में बैठना उठना प्रारंभ कर दें, उनकी हर क्रिया में रूचि देना प्रारंभ कर दें, उनका प्रभाव आपके मस्तिष्क पर पड़ेगा और आपका मन वैसा ही हो जाएगा। कितना भी बुरा व्यक्ति हो ... Read More »

आइये जानते है क्या महत्व है पूजा में पंचामृत का

चंडीगढ़: पंचामृत पूजा में बनाया जाता है। पंचामृत का अर्थ है कि, पांच तरह के अमृत का मिश्रण। यह मिश्रण दुग्ध, दही, घृत (घी), चीनी और मधु मिलाकर बनाया गया जाता है, जो हव्य-पूजा की सामग्री बनता है, और जिसका प्रसाद के रूप में विशिष्ट स्थान है। भगवान को पंचामृत से स्नान कराया जाता है। इसे बहुत ही शुभ माना ... Read More »

जीवन वही है जो प्यार से जिया जाता है : निरंकारी बाबा जी

चंडीगढ़: इन्सान की अज्ञानता ने इसको कहां कहां गिराया है, इसको कहां-कहां पटका है लेकिन हूड़मति इन्सान उससे भी बाज नहीं आता है, उसी रास्ते पर चलता चला जाता है, वही संकीर्ण सोच रखकर चलता जाता है। फिर वो जिधर से गुजरता है विनाश और मातम फैलाता चला जाता है। इस प्रकर से धरती पर जीने वाले इन्सान नजर आते ... Read More »

खुदा की इबादत करने से होती है ईद मुबारक : मुनिश्री आलोक

चंडीगढ। भारत वर्ष में बहुत सी कौमें व जातियां अपने अपने पर्व के साथ आगे बढी है, जिस तरह से ङ्क्षहदुओ में दिपावली, ईसाईयों में क्रिसमस का है, वही स्थान मुसलमानो में ईद का है। रमजान के पाक महीने मे इबादत की जाती है और अल्लाह से सारे गुनाहो की माफी मांगी जाती है, रमजान के अािखरी रोजे की रात ... Read More »

जो व्यक्ति प्रभु भक्ति की दौलत को जोड़ता है उसे संसार अच्छा नहीं समझता : ऋतेश्वरी भारती

राजपुरा: दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान की ओर से गाँव ढकांसु कला नजदीक राजपुरा में चार दिवसीय श्री हरि कथा का भव्य आयोजन हुआ |  जिसके दूसरे दिन साध्वी ऋतेश्वरी भारती ने नरसी प्रसंग के माध्यम से बताया कि गुजरात के एक बहुत बड़े श्री कृष्ण भक्त हुए हैं नरसी। जिनके भजन केवल गुजरात में ही नहीं बल्कि सारे भारत में ... Read More »

श्री खाटू श्याम प्रचार मंडल ट्रस्ट चण्डीगढ़ का 20वां वार्षिक महोत्सव आज

चण्डीगढ़। श्री खाटू श्याम प्रचार मंडल ट्रस्ट, चण्डीगढ़ की ओर से 20वां वार्षिक महोत्सव आज शनिवार को मनाया जा रहा है। श्रीमती कमला देवी (मौसी जी कोलकाता वाले) व महाराज श्री श्याम सिंह चौहान (श्री खाटू श्याम धाम, राजस्थान वाले) के सानिध्य में होगा। ट्रस्ट के अध्यक्ष जगदीश अग्रवाल ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि इस वर्ष पहली बार ... Read More »

चिंता को भगायें व चिंतन को अपनाएं: मुनिश्री आलोक

चंडीगढ़: जो कल के लिए चिंतित रहते हैं उनकी निर्णय क्षमता भी आशंकाओं से प्रभावित होती है। इस तरह के लोग भविष्य की आशंकाओं से भयभीत होकर कोई भी निर्णय अच्छे से नहीं ले पाते हैं। वे डरे और सहमे रहते हैं और उनके डर का असर उनके निर्णयों पर भी साफ दिखाई देता है। जो अपनी छोटी-छोटी चिंताओं पर ... Read More »

Share