Home » धर्म/संस्कृति

धर्म/संस्कृति

सपने में माता रानी का आना, जाने इसका अर्थ

goddess in dream, know its meaning

by – Spiky Pooja मनोविज्ञानिकों की माने तो सपने वह होते हैं जो हमारे दिन रात या कोई बात जब दिमाग में रह जाती है तो वह बात सपनों के जरिए आती है। हमारे मन में चल रही बातों का एक परिणाम होता है यह सपने। लेकिन कहा जाता है कि सपने यूहीं नहीं आते है। सपनों में दिखने वाली …

Read More »

गुड़ी पड़वा का त्योहार : श्रीराम की विजय का प्रतीक है गुड़ी पर्व

हिंदु धर्म में विभिन्न तिथियों में सनातन संस्कृति के पर्वों को मनाया जाता है। इन सभी पर्वों का शास्त्रोक्त महत्व होता है और इनकी कथा किसी देवी-देवता से संबंधित होती है। इसलिए इन तिथियों पर संबंधित देवताओं की पूजा कर उनको उनके प्रिय व्यंजनों का भोग लगाया जाता है। ऐसा ही एक शास्त्रोक्त पर्व गुड़ी पड़वा है, जो महाराष्ट्र, गोवा …

Read More »

भक्त हमेशा दातार की कृपा को ही मानते हैं : निरंकारी बाबा

निरलेप जीवन में अहंकार बड़ी बाधा पैदा करता है। क्योंकि अक्सर इन्सान को भ्रम हो जाता है कि शायद मैं खुद ही अपना तथा अपने परिवार का पालन-पोषण कर रहा हूं। अक्सर कह भी दिया जाता है कि ‘दाने दाने पर लिखा है खाने वाले का नामÓ, लेकिन दास तो ऐसा मानता है कि ‘दाने दाने पर लिखा है देने …

Read More »

श्रीकृष्ण की अनन्य भक्त मां कर्मादेवी की जयंती आज: अपने हाथों से खिलाई थी बालकृष्ण को खिचड़ी

आज 20 मार्च को मां कर्मादेवी जयंती मनाई जा रही है। मां कर्मादेवी भगवान की महान भक्त थीं, इसलिए श्रीकृष्ण ने उन्हें साक्षात दर्शन दिए थे। तब माता ने अपने सामने बैठकर भगवान श्रीकृष्ण को खिचड़ी खिलाई थी। अत: इस दिन मां कर्मादेवी का पूजन-अर्चन अनिवार्य रूप से करने तथा खिचड़ी का भोग लगाकर प्रसाद बांटने की मान्यता है। इस …

Read More »

शांति प्रदोष व्रत कल : भगवान शिव को करे खुश, नि:संतान दंपत्ति की मनोकामना होगी पूर्ण

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, प्रदोष व्रत हर मास की त्रयोदशी तिथि को होता है। इस दिन प्रदोष काल में भगवान शिव की विधिपूर्वक आराधना की जाती है। जिस दिन को प्रदोष व्रत होता है, उस दिन को जोड़कर उसका नाम रखा जाता है। इस बार चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि 21 मार्च दिन शनिवार को है, इसलिए …

Read More »

महानता तभी है जब इंसान अपने कर्तव्यों का पालन शांति से करे : निरंकारी बाबा

इन्सान का यह भ्रम है कि मैं यदि जंगलों वीरानों में जाकर डेरे लगा लूं, परिवार से नाता तोड़ लूं, तो सबसे छुटकारा प्राप्त करके, मैं शान्त हो जाऊंगा। यहां तो मुझे क्रोध भी आता है, यहां तो लालच भी आ जाता है, चहां तो और कई विकार भी हावी हो जाती हैं, तो वहां सभी से छुटकारा मिल जाएगा। …

Read More »

संगम तट पर श्रीराम व हनुमान मिल जाते तो रामायण कुछ और होती

प्रयाग के दक्षिणी तट पर झूंसी नामक स्थान है जिसका प्राचीन नाम पुरुरवा था। कालांतर में इसका नाम उलटा प्रदेश पड़ गया। फिर बिगड़ते बिगड़ते झूंसी हो गया। उल्टा प्रदेश पडऩे का कारण यह है कि यहां शाप के चलते सब कुछ उल्टा पुल्टा था। यहां के महल की छत नीचे बनी है जो आज भी है। इसकी खिड़कियां ऊपर …

Read More »

‘मैं’ ‘मेरी’ की भावना छोड़ देते हैं वे सदा सुखी रहते हैं : निरंकारी बाबा

संत संसार में रहते हुए निर्लेप जीवन जीते हैं। जैसे मुर्गाबी जल में रहती है, लेकिन अपने पंखों को गीला नहीं होने देती। इसी प्रकार महापुरुष भी अपने जीवन की तार सदैव इस निरंकार दातार से जोड़े रखते हैं। संसार की किसी चीज को, यहां तक कि अपने शरीर तक को भी अपना नहीं मानते, इसलिए यहा के सुख दुख …

Read More »

आपस में संवाद न करें बंद : मनीषीश्री संतमुनि विनय कुमार जी

ऐसे में दो बातें समझना बहुत जरूरी है। जिनसे हमें आत्मीयता है, वह हमारे हितों के साथ हमेशा खड़े हों यह जरूरी नहीं। क्योंकि हमारे दृष्टिकोण में अंतर हो सकता है। इसलिए यह भी संभव है कि जिससे आपकी आत्मीयता है, वह आपका हित कुछ अलग तरीके से देख रहे हों। वैसे नहीं जैसे आप देख पा रहे हैं.लेकिन इसका …

Read More »

कोरोना से राहत 21 अप्रैल से, पूरा छुटकारा 1 जुलाई के बाद

ज्योतिर्विद् मदन गुप्ता सपाटू का दावा चंडीगढ़। सांसारिक ज्योतिष अर्थात मंडेन एस्ट््रोलॉजी में कोरोना जैसी महामारी का उल्लेख प्राय: होता रहा है परंतु ज्योतिष को कई बार गंभीरता से नहीं लिया गया। जब भी किसी शताब्दी के अंत में शून्य, जीरो आया है, उसी कालखंड में कोई न कोई महामारी आई है जिसने पूरे विश्व में जनता को अपना ग्रास …

Read More »
Share
See our YouTube Channel