Home » संपादकीय (page 3)

संपादकीय

सीमा पर पाक की सक्रियता

भारत में जारी राजनीतिक घमासान के बीच यह खबर अहम है कि पाकिस्तान ने पीओके में सेना की तादाद को बढ़ा दिया है। वैसे तो सीमा पर दोनों देशों के बीच निरंतर संघर्ष जारी रहता है, लेकिन पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म करने और उसे दो हिस्सों में बांटने के बाद से बौखलाया हुआ है, अब भारत में …

Read More »

जजपा में असंतोष के स्वर

हरियाणा में जननायक जनता पार्टी (जजपा) के अंदर बगावत के सुर इस सर्द मौसम के बीच राजनीतिक गलियारों में गर्माहट लाने वाले हैं। महज साल भर पुरानी पार्टी ने जिस तेजी के साथ तरक्की की है, लगता है उसे नजर लग गई। इनेलो से अलग होकर पूर्व उप्रधानमंत्री ताऊ देवी लाल के आदर्शों पर पार्टी का गठन किया गया था, …

Read More »

अब जनसंख्या गणना पर बवाल

देश में सीएए यानी नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ जब गुस्सा कम नहीं हो रहा है, तब केंद्र सरकार ने एनपीआर यानी राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर अपडेट करने को मंजूरी देकर क्या नई सिरदर्दी मोल नहीं ले ली है। वास्तव में केंद्र सरकार के प्रयास सही दिशा में हो सकते हैं, लेकिन जिस तरह के हालात देश में बन गए हैं, …

Read More »

झारखंड के नतीजों के निहितार्थ

झारखंड में समय का पहिया घूम चुका है, भाजपा के हाथ से राज्य की सत्ता चली गई। देश की सत्ता भाजपा और संपूर्ण विपक्ष के रूप में बंट चुकी है, ऐसे में पंचायत का चुनाव भी अगर भाजपा हारती है तो वह विपक्ष की बड़ी जीत के रूप में दर्शाया जा रहा है। हालांकि सत्ताविरोधी लहर अपना काम करती ही …

Read More »

ठंड दिखाएगी और तल्खी

यह साल अलविदा कहने को अब कुछ दिन ही बाकी रह गए हैं, दिसंबर का अंत इस बार कड़कती ठंड से होने जा रहा है। पिछले वर्षों की तुलना में इस बार ठंड काफी ज्यादा है तो इसकी वजह पहाड़ों पर जमकर हुई बर्फबारी है। हालात ऐसे हैं कि मैदानी इलाकों में जमाने वाली ठंड पड़ रही है। पूरे उत्तर …

Read More »

5 साल चलें ऐसे ही तीखे तेवर

हरियाणा में भाजपा-जजपा सरकार के गठन के बाद मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री समेत सभी मंत्रियों के तीखे तेवर व्यवस्था में परिवर्तन के संकेत हैं। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने करनाल में तहसील कार्यालय में पहुंच कर जिस प्रकार तहसीदार समेत अन्य अधिकारी व कर्मचारी पर निलंबन की कार्रवाई की है, वह नौकरशाही में फैले भ्रष्टाचार पर चोट है, लेकिन हमें यह नहीं …

Read More »

शहीदों पर ओच्छी राजनीति

देश के अंदर सरकार और विपक्ष के बीच राजनीतिक दंगल अब अस्तित्व की लड़ाई में बदल चुका है। अब लड़ाई वैचारिक नहीं रही अपितु एक-दूसरे को खत्म करने की हो गई है। जिन शहीदों और सपूतों के बूते देश ने अंग्रेजों से आजादी पाई, वे अब मोहरे हो गए हैं। आखिर विचारधारा को कायम रखने से कौन मना कर रहा …

Read More »

जब गरीब आदमी मरता है…

साल का अंत इतना दुखद होगा, किसी ने नहीं सोचा होगा। उत्तरी दिल्ली की अनाज मंडी के रिहायशी इलाके में रानी झांसी रोड पर अवैध 4 मंजिल की फैक्टरी आग का घर बन गई और अपने अंदर 43 लोगों को लील लिया। कितना दुखद और तड़प भरा है यह समाचार। यहां 200 गज के कारखाने में 100 से अधिक श्रमिक …

Read More »

न्याय प्रणाली ही नहीं संस्कार भी सुधरें

देश में पिछले कुछ दिनों के अंदर अपराध को लेकर जैसा माहौल बना है, उसके बाद न्यायप्रणाली को लेकर जारी मंथन का दौर किसी नतीजे पर पहुंचना जरूरी है। अब वह वक्त आ गया है, जब सिर्फ बातों से काम नहीं चलेगा, अपितु ठोस कदम उठाने होंगे। हैदराबाद में दुष्कर्म के आरोपियों के एनकाउंटर से छिड़ी बहस निरंतर व्यापक होती …

Read More »

अब नागरिकता संशोधन विधेयक

एनआरसी यानी नेशनल रजिस्टर फॉर सिटीजनशिप का मसला कायम है, वहीं अब सीएबी मतलब सिटीजन एमेंडमेंट बिल अर्थात नागरिक संशोधन विधेयक ने देश में बेचैनी पैदा कर दी है। एनआरसी को केंद्र सरकार पूरे देश में लागू करने की घोषणा कर चुकी है, वहीं अब सीएबी यानी नागरिक संशोधन विधेयक को कैबिनेट की मंजूरी मिल चुकी है। केंद्र सरकार आसाम …

Read More »
Share
See our YouTube Channel