Home » संपादकीय

संपादकीय

विदेश और रक्षा मोर्चे पर भारत चाक चौबंद

यह सच है कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद भारत के समक्ष विदेश नीति की चुनौतियां गंभीर हुई हैं, अब दुनिया के देश इसकी पहचान कर रहे हैं कि वे भारत के साथ खड़े होंगे या फिर भारत से दूर। आजादी के बाद से भारत की विदेश नीति इतनी आक्रामक कभी नहीं रही, हालांकि माना यह जाता …

Read More »

अब पछताए होत क्या जब……

निर्भया सामूहिक दुष्कर्म कांड के दोषी जीवन के लिए जो छटपटाहट दिखा रहे हैं, अगर जिंदगी और सम्मान के लिए लड़ती उस युवती की ऐसी ही छटपटाहट समझी होती तो आज यह नौबत आती ही क्यों। चारों दोषियों ने तमाम उपाय अपना लिए हैं। अब लगता है जिंदगी उनसे बहुत दूर होने को है। बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने डेथ …

Read More »

आतंकवाद सरीखे संवेदनशील मुद्दों पर सियासत निंदनीय

जम्मू-कश्मीर बेशक अनुच्छेद 370 की बेडिय़ों से आजाद हो चुका है, लेकिन घाटी में आतंकी गतिविधियों से इसे निजात फिर भी नहीं मिल सकी है। अब तो आलम यह है कि डीएसपी स्तर के पुलिस अधिकारी आतंकियों के साथ मिलीभगत करके देश के साथ गद्दारी करते दिख रहे हैं। एक वीरता पुरस्कार प्राप्त डीएसपी देविंदर सिंह पर जो आरोप हैं, …

Read More »

देश हित के आड़े हैं तुच्छ सियासी स्वार्थ

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देशभर में विपक्ष का हल्लाबोल जारी है। इस मुद्दे पर सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच कड़वाहट का निरंतर बढऩा लोकतांत्रिक व्यवस्था में शुभ संकेत नहीं। कांग्रेस इस कानून का विरोध करते हुए भले ही रुग्णावस्था से कुछ उबरी हो लेकिन कुछ दलों को राजनीतिक महत्वाकांक्षा के कारण कांग्रेस की मजबूती सुहाती नहीं। अंतरिम अध्यक्ष सोनिया …

Read More »

घाटी में प्रतिबधों पर अदालती रुख के निहितार्थ

जब अमेरिका समेत 16 देशों के राजनयिक अपने परिवारों के साथ जम्मू-कश्मीर के दौरे पर हैं, तब सुप्रीम कोर्ट की ओर से राज्य में धारा 144 समेत अन्य पाबंदियों पर फैसला देते हुए इसकी समीक्षा के आदेश देना निश्चित रूप से केंद्र सरकार के लिए असहज स्थिति पैदा करता है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के खात्मे के बाद यहां लगाई …

Read More »

लगातार आठ साल दुष्कर्म का शिकार होती रही महाराष्ट्र से अपहरण कर हरियाणा लाई गई युवती

अपराधी की कोई जात नहीं होती। कोई धर्म नहीं होता। अपराधी कितने असंवेदनशील होते हैं, इसका अंदाज महाराष्ट्र से अपहृत कर हरियाणा लाई गई उस नाबालिग लड़की की कहानी से लगाया जा सकता है, जो शादी के नाम पर बार-बार बिकती रही और दुष्कर्म का शिकार होती रही। इतना ही नहीं, अपराधी पैसे के लिए किस तरह किसी भी महिला …

Read More »

मौत पर सियासी तांडव आखिर कब तक

क्या बीमारी यह देखती है कि सरकार किस पार्टी की है? या फिर मौत ही किसी शक्तिशाली पार्टी, मुख्यमंत्री, मंत्री या अधिकारी से डर कर उसके इलाके में पैर नहीं रखती। और यह भी कि क्या कोई बीमारी किसी ताक़तवर शासक के अधिकार क्षेत्र में जाने से ख़ौफ़ खाती है। बीमारी पर किसी का वश नहीं और न ही मृत्यु …

Read More »

खट्टर सरकार : गठबंधन धर्म और भावी चुनौतियां

नया साल नयी उम्मीदों और नये लक्ष्यों का संकल्प लेने का अवसर होता है। हरियाणा में भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार अपना कामकाज संभाल चुकी है। नये वर्ष के लक्ष्यों और उनकी प्रतिपूर्ति के लिए तय की जाने वाली रणनीति पर प्रदेश की जनता की निगाहें हैं। खट्टर सरकार का पहला कार्यकाल तमाम चुनौतियों से घिरा रहा है। डेरा बाबाओं की वजह …

Read More »

रुकना ही चाहिए विधानसभाओं में होने वाला बेवजह का शोरगुल

खास मुलाकात हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता से सुमित्रा की बातचीत हरियाणा की 90 सदस्यीय विधानसभा में इस बार करीब आधे विधायक पहली बार चुन कर सदन में पहुंचे हैं। इन नवनिर्वाचित विधायकों को विधायी कार्यों व विधानसभा के नियम-कायदों और परंपराओं के बारे में प्रशिक्षित किया जाना जरूरी माना जा रहा है, ताकि वे विधानसभा में और ज्यादा …

Read More »

सीडीएस : चाक चौबंद सुरक्षा सुनिश्चित

भाजपा ने वर्ष 2019 का आम चुनाव राष्ट्रवाद और देश की सुरक्षा को और चाकचौबंध करने के वादे के साथ लड़ा था। पार्टी ने सरकार बनने के बाद इस वादे पर काम भी किया है। तीनों सेनाओं की एकीकृत कमान यानी चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) की नियुक्ति इसी दिशा में एक प्रयास कहा जा सकता है। भारतीय सेना के …

Read More »
Share
See our YouTube Channel