Home » संपादकीय

संपादकीय

महाराष्ट्र को भाषण नहीं, परफार्मेंस भी चाहिए

बीते एक वर्ष में महाराष्ट्र ने बहुत उतार-चढ़ाव देख लिए हैं। एक गठबंधन जिसने मिलकर चुनाव लड़ा था, में शामिल एक पार्टी ने इसलिए साथ देने से मना कर दिया क्योंकि उसे मुख्यमंत्री का पद चाहिए था। भाजपा और शिवसेना के बीच इस तकरार का अंत यह हुआ था कि वर्षों से साथ चली आ रही शिवसेना ने अलग राह …

Read More »

बिहार का यक्ष प्रश्न, काम क्या हुआ?

राजनीति आखिर क्या बला है, यह आम आदमी की पूरी जिंदगी बीत जाती है लेकिन फिर भी वह इसे समझ नहीं पाता। भारत आजाद होकर भी तमाम ऐसी समस्याओं, मुश्किलों, परेशानियों से जूझता रहा है और अभी भी जूझ रहा है, जिनका निदान जनता के चुने हुए प्रतिनिधियों के द्वारा बहुत पहले हो जाना चाहिए था। हर बार चुनाव आते …

Read More »

किसानों का कौन बड़ा हितैषी

केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ किसान तो आंदोलन कर ही रहे हैं, राजनीतिक दलों में किसान हितैषी होने की दौड़ लगी हुई है। पंजाब में इन कानूनों का जिस तरह से विरोध हो रहा है, उसके बाद यह तय ही था कि राज्य की कांग्रेस सरकार ऐसा कोई कदम उठाएगी, जोकि यह दिखाने के लिए होगा कि वह कितनी …

Read More »

राष्ट्रहित में राजनीति क्यों?

आखिर पंजाब सरकार ने कृषि कानूनों के खिलाफ दो दिवसीय विशेष सत्र आयोजित कर ही लिया। राज्य में ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है, जब किसी मसले पर विशेष सत्र बुलाया गया है, इससे पहले एसवाईएल पानी को लेकर दूसरे राज्यों के साथ पंजाब के समझौते खारिज करने के लिए सरकार ने विशेष सत्र बुलाया था। यह राज्य सरकार …

Read More »

चीन-पाक को दो टूक

चीनी राष्ट्रपति के उस बयान के मायने समझे जाने चाहिएं, जिसमें उन्होंने अपने सैनिकों को युद्ध के लिए तैयार रहने को कहा है। भारत समेत दूसरे पड़ोसी देशों के साथ तनावपूर्ण स्थिति पैदा करके रख रहे चीन के लिए यह समय अपनी नाक को बचाए रखने का है। अमेरिका समेत दुनिया के दूसरे प्रमुख देश चीन से रूष्ट हैं और …

Read More »

पंजाब के लिए शुभ नहीं है केंद्र-किसान में संवाद टूटना

कूटनीतिक खेल के पहले दौर में केंद्र की शह को दी किसानों ने मात आशा करें कि दोनों पक्षों में विवेक का कोई बीज सद्भावना की फसल बनकर फूट चंडीगढ़(नरेश कौशल/सलाहकार सम्पादक)। केंद्र और किसान संगठनों के बीच प्रस्ताविक बैठक लगभग खटाई में निपटी या कहें कि कृषि कानूनों को लेकर केंद्र के नियंत्रण पर बुलाई गयी उस बैठक का …

Read More »

चंडीगढ़ को अपराधियों से बचाओ

चंडीगढ़ और उसके आसपास के इलाके में एक समय अगर अपराध घटता तो बहुत चर्चा का विषय होता था। इस दौरान पुलिस विभाग जहां सवालों के घेरे में होता तो अपराधी बच कर नहीं निकल पाता। हालांकि आजकल ट्राईसिटी जिसमें चंडीगढ़, पंचकूला, मोहाली और उससे जुड़े तमाम छोटे-बड़े शहर शामिल हैं, अपराध का गढ़ बन चुके हैं। अब चंडीगढ़ में …

Read More »

कृषि कानूनों पर अब खत्म हो गतिरोध

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब और हरियाणा में किसानों का आंदोलन अब जैसे किसी नतीजे पर पहुंचने को बेचैन है। हरियाणा में किसानों के स्वर मंद पड़ गए हैं, लेकिन विपक्षी राजनीतिक दल पूरा दम लगाकर इस आंदोलन को जिंदा रखे हुए हैं। वहीं पंजाब में किसानों ने हाईवे, ट्रेन रोक कर अपनी पूरी ताकत इन कानूनों का विरोध …

Read More »

जनता को राहत दो, अर्थव्यवस्था दौड़ेगी

त्योहारी सीजन के साथ ही अर्थव्यवस्था में फिर से जीवन नजर आने लगा है। कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन ने पूरे देश को जो आर्थिक बेडिय़ां पहनाई थीं, उनसे अब निजात मिलने की उम्मीद बंध गई है। भारतीय रिजर्व बैंक का अनुमान है कि अगले वर्ष से अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी। हालांकि वित्त वर्ष 2021-22 में अर्थव्यवस्था में 9.5 …

Read More »

बिहार में बनते-टूटते गठबंधन

बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान राजग गठबंधन में टूट राजनीति की ऐसी बिसात की ओर इशारा कर रही है, जिसमें राजनीतिक एक-दूजे की जमीन खिसकाने को तैयार हैं, लेकिन जाहिर भी नहीं होने दे रहे। बिहार में इस बार के विधानसभा चुनाव इसलिए अलग हैं क्योंकि लालू, पासवान की विरासत अब आगे बढ़ गई है। पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव …

Read More »
Share
See our YouTube Channel