Home » संपादकीय

संपादकीय

इलाज से एहतियात भला

editorial news

चीन में जिस घातक कोरोना वायरस ने 106 लोगों की जान ले ली है, उसका भारत सहित कई देशों में प्रसार समूचे विश्व के लिए चिंताजनक और चुनौती पूर्ण समस्या है। चीन से कुछ वक़्त अरसा पहले यहाँ लौटे कई लोग इस वायरस से पीडि़त मिल रहे हैं। इस असाध्य रोग की आशंका को लेकर मोहाली, जयपुर, पटना इत्यादि शहरों …

Read More »

सदन की समयावधि में वृद्धि स्वागतयोग्य प्रयास

हरियाणा विधानसभा की ओर से विधायकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम वक्त की जरूरत और माननीयों की बदलती भूमिका को और बेहतर बनाने का सराहनीय प्रयास है। इस कार्यक्रम में लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला समेत पक्ष-विपक्ष के नेताओं ने अपने अनुभव सांझा किये। मनोहर सरकार द्वारा अगले 5 वर्ष के दौरान 100 से ज्यादा बैठकों का लक्ष्य तय कर दिया है। …

Read More »

नागरिकता कानून पर याचिकाओं के निहितार्थ

नागरिकता संशोधन कानून पर रोक लगाने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट के इनकार का अभिप्राय संसद की गरिमा को बनाए रखने की कवायद है। देशभर में जब इस कानून को लेकर लोग सडक़ पर हैं और विपक्ष गुस्से में है, तब उम्मीद इसकी थी कि माननीय कोर्ट एकाएक कानून को लागू करने पर रोक लगा देगा। हालांकि 140 से ज्यादा …

Read More »

नड्डा को चुनौतियोंं का ताज

सियासत और राजनीति के नए दौर में पहुंच चुकी भारतीय जनता पार्टी के नए अध्यक्ष जेपी नड्डा को जब अध्यक्ष पद सौंपा जा रहा था, तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- आप पार्टी से जो चाहेंगे, हम वह करेंगे। जाहिर है यह बात कहते हुए मोदी ऐसे सिपाही के रूप में खुद को दर्शा रहे थे जोकि अपने सेनापति के …

Read More »

गारंटी कार्ड बनाम सत्ता में बने रहने की कवायद

दिल्ली विधानसभा के चुनाव इस बार सत्ताधारी आम आदमी पार्टी, भाजपा और कांग्रेस के लिए चुनावी प्रयोगशाला से कम नहीं । देश में तीव्र गति से पांव पसार रही भाजपा के विजय रथ की रफ़्तार झारखंड विधानसभा चुनाव आते आते ठंडी पड़ गयी थी। जहाँ झारखंड उसके हाथ से निकल गया वहीं कांग्रेस ने भी आक्रामक राजनीति शुरू कर दी। …

Read More »

आखिर जल संकट ने झकझोरा पंजाब को

पंजाब विधानसभा में राज्य के समक्ष गंभीरतम रूप ले चुके जल संकट जैसे संवेदनशील मुद्दे पर आखिरकार चर्चा तो शुरू हुई है। राज्य में जमीन का पानी इतना नीचे जा चुका है कि अब खेती के लिए यह दुर्लभ होता जा रहा है। अगर ऐसे ही हालात रहे तो राज्य में न केवल जल संकट और गहरा जाएगा अपितु राज्य …

Read More »

क्या पंच परमेशवर के अभयदान से निर्दोष हो जायेंगे आरोपी

हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान लगभग पूरे प्रदेश में उन तीन-चार दिनों के अंदर जो कुछ हुआ वह मानव सभ्यता पर शर्मनाक धब्बा है। जाट समुदाय ने आरक्षण के लिए आंदोलन चलाया और वह अपना रास्ता ही खो बैठा। आगजनी और लूटपाट के उस मंजर में राज्य के तत्कालीन वित्तमंत्री कैप्टन अभिमन्यु के रोहतक स्थित आवास और अन्य …

Read More »

विदेश और रक्षा मोर्चे पर भारत चाक चौबंद

यह सच है कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद भारत के समक्ष विदेश नीति की चुनौतियां गंभीर हुई हैं, अब दुनिया के देश इसकी पहचान कर रहे हैं कि वे भारत के साथ खड़े होंगे या फिर भारत से दूर। आजादी के बाद से भारत की विदेश नीति इतनी आक्रामक कभी नहीं रही, हालांकि माना यह जाता …

Read More »

अब पछताए होत क्या जब……

निर्भया सामूहिक दुष्कर्म कांड के दोषी जीवन के लिए जो छटपटाहट दिखा रहे हैं, अगर जिंदगी और सम्मान के लिए लड़ती उस युवती की ऐसी ही छटपटाहट समझी होती तो आज यह नौबत आती ही क्यों। चारों दोषियों ने तमाम उपाय अपना लिए हैं। अब लगता है जिंदगी उनसे बहुत दूर होने को है। बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने डेथ …

Read More »

आतंकवाद सरीखे संवेदनशील मुद्दों पर सियासत निंदनीय

जम्मू-कश्मीर बेशक अनुच्छेद 370 की बेडिय़ों से आजाद हो चुका है, लेकिन घाटी में आतंकी गतिविधियों से इसे निजात फिर भी नहीं मिल सकी है। अब तो आलम यह है कि डीएसपी स्तर के पुलिस अधिकारी आतंकियों के साथ मिलीभगत करके देश के साथ गद्दारी करते दिख रहे हैं। एक वीरता पुरस्कार प्राप्त डीएसपी देविंदर सिंह पर जो आरोप हैं, …

Read More »
Share
See our YouTube Channel