Home » संपादकीय

संपादकीय

जब गरीब आदमी मरता है…

साल का अंत इतना दुखद होगा, किसी ने नहीं सोचा होगा। उत्तरी दिल्ली की अनाज मंडी के रिहायशी इलाके में रानी झांसी रोड पर अवैध 4 मंजिल की फैक्टरी आग का घर बन गई और अपने अंदर 43 लोगों को लील लिया। कितना दुखद और तड़प भरा है यह समाचार। यहां 200 गज के कारखाने में 100 से अधिक श्रमिक …

Read More »

न्याय प्रणाली ही नहीं संस्कार भी सुधरें

देश में पिछले कुछ दिनों के अंदर अपराध को लेकर जैसा माहौल बना है, उसके बाद न्यायप्रणाली को लेकर जारी मंथन का दौर किसी नतीजे पर पहुंचना जरूरी है। अब वह वक्त आ गया है, जब सिर्फ बातों से काम नहीं चलेगा, अपितु ठोस कदम उठाने होंगे। हैदराबाद में दुष्कर्म के आरोपियों के एनकाउंटर से छिड़ी बहस निरंतर व्यापक होती …

Read More »

अब नागरिकता संशोधन विधेयक

एनआरसी यानी नेशनल रजिस्टर फॉर सिटीजनशिप का मसला कायम है, वहीं अब सीएबी मतलब सिटीजन एमेंडमेंट बिल अर्थात नागरिक संशोधन विधेयक ने देश में बेचैनी पैदा कर दी है। एनआरसी को केंद्र सरकार पूरे देश में लागू करने की घोषणा कर चुकी है, वहीं अब सीएबी यानी नागरिक संशोधन विधेयक को कैबिनेट की मंजूरी मिल चुकी है। केंद्र सरकार आसाम …

Read More »

हैदराबाद पुलिस को सैल्यूट !

क्या यह किसी बड़े बदलाव की गूंज है? देश की आजादी के बाद अनेक ऐसे कांड हुए हैं, जिन्होंने देश की आत्मा को कचोटा है, फिर रह-रहकर ऐसी आवाज आती रही हैं कि ऐसा नहीं होना चाहिए था। लेकिन लोकतंत्र और न्यायपालिका के स्तंभों पर खड़ा देश हालात को स्वीकार करता गया। बीते 27 और 28 नवंबर की रात को …

Read More »

व्यक्ति विशेष को एसपीजी क्यों

देश में ऐसा पहली बार है, जब इस पर बहस हो रही है कि एसपीजी सुरक्षा किसे दी जानी चाहिए और किसे नहीं। एसपीजी यानी स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप सुरक्षाकर्मियों की ऐसी किलेबंदी है जिसके आवरण में संबंधित व्यक्ति या नेता पूर्ण रूप से सुरक्षित माना जाता है। केंद्र की भाजपा सरकार एसपीजी संशोधन दोनों सदनों से पास करा चुकी है, …

Read More »

देश फिर गुस्से में

हैदराबाद में एक वेटरनरी डॉक्टर के साथ सामूहिक दुष्कर्म की वारदात के बाद देश में फिर गुस्से में है। हालांकि दिल्ली में निर्भया कांड के बाद देश भर में 2.34 लाख दुष्कर्म के मामले रिपोर्ट हो चुके हैं, लेकिन इन वारदातों की कभी-कभार चर्चा के बावजूद ऐसा आक्रोश देखने को नहीं मिला। ऐसे में एक सवाल यह हो जाता है …

Read More »

करतारपुर गलियारा पाक की साजिश

आखिरकार उन आशंकाओं का खुलासा होने लगा है, जोकि करतारपुर गलियारा खोलते वक्त भारत की ओर से जाहिर की गई थी। पाकिस्तान के एक मंत्री की जुबान से यह जाहिर हुआ है कि पाक ने अपने नापाक इरादों को हकीकत में बदलने के लिए इस धार्मिक गलियारे को शुरू कराया। भारत में विदेश और रक्षा मामलों से जुड़े नेताओं और …

Read More »

मोटर वाहन एक्ट सख्त ही सही

केंद्र सरकार ने मोटर वाहन एक्ट को सख्त बनाकर सही किया लेकिन कई राज्य सरकारें हैं, जिन्होंने इस एक्ट को अपने यहां लागू करने से इनकार कर दिया। इसकी वजह राजनीतिक हैं। हालांकि अब विधि मंत्रालय ने साफ कर दिया है कि राज्यों को मोटर जुर्माना घटाने का मनमाना अधिकार नहीं है। इन राज्यों ने जब एक्ट को नहीं लागू …

Read More »

गठबंधन राजनीति का नया दौर

2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को परास्त कर देश की बागडोर संभालने वाली भाजपा ने जब कांग्रेस मुक्त भारत का सपना देखना शुरू किया तो यह अजीब लगा था। भाजपा नेताओं का उत्साह आसमान छू रहा था और वे अपने इस नारे को सफल बनाने के लिए दिन-रात लगे हुए थे। इस बीच 2019 का लोकसभा चुनाव आया और …

Read More »

महाराष्ट्र में लोकतंत्र जीता

देश देख रहा है कि महाराष्ट्र में आखिर क्या हो रहा है? राजनीति के एकमात्र मकसद सत्ता की प्राप्ति होती है, और भाजपा के साथ न चलकर शिवसेना ने इसका बखूबी परिचय दिया और अब भाजपा ने एनसीपी नेता अजित पवार को साथ लाकर रातों-रात सरकार बना कर और बहुमत हासिल करने का नाटक रचकर जो उतावलापन दिखाया, उसने न …

Read More »
Share
See our YouTube Channel