Home » हिमाचल » प्रदेश में ऑक्सीजन की नहीं कमी, बिस्तर भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध

प्रदेश में ऑक्सीजन की नहीं कमी, बिस्तर भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध

There is no lack of oxygen in the state, beds are also available in sufficient quantity : स्वास्थ्य विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि प्रदेश के अस्पतालों में ऑक्सीजन और बिस्तरों की कोई कमी नहीं हैं और राज्य सरकार द्वारा दिन-प्रतिदिन ऑक्सीजन व बिस्तरों की संख्या को बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में राज्य के स्वास्थ्य संस्थानों में 3346 बिस्तर उपलब्ध है।

प्रवक्ता ने बताया कि कोविड के मामलों में हो रही अप्रत्याशित वृद्धि के दृष्टिगत राज्य सरकार विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों में अतिरिक्त बिस्तरों की व्यवस्था कर रही है। उन्होंने कहा कि कोविड मामलों में वृद्धि के प्रबंधन के लिए सरकार ने पिछले एक सप्ताह में विभिन्न कोविड समर्पित स्वास्थ्य संस्थानों, अस्पतालों और कोविड केंद्रों में बिस्तरों की क्षमता 1924 तक बढ़ाई है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के विभिन्न डीसीएचसी, डीसीएच और डीसीसी अस्पतालों में 21 अप्रैल, 2021 तक केवल 1422 बिस्तरे उपलब्ध थे जिन्हें अब बढ़ाकर 3346 कर दिया है। प्रदेश में आज कुल 1695 कोविड के मामलों में से 1185 रोगियों को ऑक्सीजन दी जा रही है और 48 लोग वेंटिलेटर पर उपचाराधीन है।

There is no lack of oxygen in the state, beds are also available in sufficient quantity: उन्होंने कहा कि वर्तमान में राज्य के अस्पतालों में प्रतिदिन ऑक्सीजन की उपलब्धता 53 मीट्रिक टन है जबकि खपत 23 मीट्रिक टन है। राज्य में ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाने के लिए चंबा मेडिकल कॉलेज में भी पीसीए प्लांट को स्थापित किया जा रहा है जिसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। यह प्लांट शीघ्र ही कार्य करना आरंभ कर देगा। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन ऑक्सीजन की खपत उपलब्धता और उत्पादन पर निगरानी रखने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा एक प्रभावी प्रणाली विकसित की जा रही है जिसमें ऑक्सीजन से संबंधित हर प्रकार की जानकारी उपलब्ध रहेगी। यदि किसी स्वास्थ्य संस्थान में ऑक्सीजन की कमी पाई जाती है तो इसकी सूचना इस प्रणाली पर प्रदर्शित हो जाएगी, जिस पर त्वरित कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

Check Also

भाजपा नेता ने बीएमओ फतेहपुर से किया दुर्व्‍यवहार, जानिए क्या कहा

धर्मशाला। कोरोना काल में दिन रात लोगों की सेवा कर रहे फ्रंटलाइन वर्कर्स के प्रति …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel