वेटरनरी वैक्सीन संस्था ने सुअरों में बुखार की रोकथाम के लिए बनाई दवा, बलबीर सिद्धू ने की लांच
Thursday, November 15, 2018
Breaking News
Home » पंजाब » वेटरनरी वैक्सीन संस्था ने सुअरों में बुखार की रोकथाम के लिए बनाई दवा, बलबीर सिद्धू ने की लांच
वेटरनरी वैक्सीन संस्था ने सुअरों में बुखार की रोकथाम के लिए बनाई दवा, बलबीर सिद्धू ने की लांच

वेटरनरी वैक्सीन संस्था ने सुअरों में बुखार की रोकथाम के लिए बनाई दवा, बलबीर सिद्धू ने की लांच

लुधियाना (नरिंदर कुमार)। पंजाब सरकार के पशु पालन, डेयरी वकास, मछली पालन और श्रम विभागों के कैबिनेट मंत्री स. बलबीर सिंह सिद्धू ने आज स्थानीय पंजाब वैटरनरी वैक्सीन संस्था में तैयार की गई सूअरों के बुख़ार के रोकथाम की दवा को जारी किया और पंजाब के विभिन्न हिस्सों से पहुँचे सूअर पालकों को बाँटा। बताने योग्य है कि इस संस्था द्वारा तैयार यह दवा पशु पालन क्षेत्र में विश्व भर में इजाद की जा रही दवाएँ में से एक है, जो कि बढ़े गौरव वाली बात है।

इस संस्था का विशेष तौर पर दौरा करने पहुँचे स. सिद्धू ने बताया कि यह बढ़े गौरव वाली बात है कि पंजाब सरकार के इस अदारे के मेहनती वैज्ञानिकों दिन-रात एक करके यह रोकथाम वैक्सीन को तैयार किया है। उन्होंने बताया कि इस संसथा द्वारा यह वैक्सीन बनाने के लिए नई सैल्ल कल्चर बढ़ाने के लिए भारत वैटरनरी अनुसंधान संस्था के साथ मेटीरियल ट्रांसफर समझौता किया गया है। पंजाब वैटरनरी वैक्सीन संस्था के दो डाक्टरों को इस नयी विधि संबंधी आई.वी.आर. आई. में प्रशिक्षण भी दिया गया है।

अब यह वैक्सीन इस संस्था में तैयार होनी शुरू हो गई है। जिसका पंजाब सहित उत्तर भारत के सूअर पालकों को बहुत लाभ मिलेगा। स. सिद्धू ने कहा कि पंजाब सरकार की बहुत बड़ी प्राप्ति है कि कर्नाटक के बाद पंजाब देश का दूसरा वह राज्य बन गया है, जहाँ यह दवा तैयार होने लगी है। उन्होंने यह भी बताया कि इस दवा की ख़ासियत यह है कि इस खोज से पहले रोकथाम वाली दवा तैयार करने के लिए 50-60 खरगोशों को मारना पड़ता था, परन्तु अब यह नौबत नहीं आया करेगी। अब सूअरों के गुर्दो के सैल्ल कल्चर लेकर यह दवा तैयार होनी शुरू हो गई है। जिससे अब यह विधि सरल और उपयोगी हो गई है।

सिद्धू ने इस मौके पर संस्था के प्रबंधकों और वैज्ञानिकों को कहा कि वह थनों के रोग संबंधी दवा विकसित करें जिससे गाएँ के थनों के रोगों की रोकथाम की जा सके। इससे पशु पालकों को बहुत लाभ होगा। इस मौके पर उन्होंने पंजाब में से गलघोटू की बीमारी की रोकथाम और अन्य दवाओं की खोज के लिए पंजाब वैटरनरी वैक्सीन संस्था को बधाई दी और इस खोज में काम करने वाले समूह स्टाफ को प्रशंसा पत्र देने का ऐलान किया।

इस मौके पर उन्होंने संस्था के प्रबंधकों से अपील की कि वह पशुओं की बीमारियों के रोकथाम के लिए तैयार की जा रही दवाओं और इनके प्रयोग संबंधी पशु पालकों को अवगत करवाने के लिए जागरूकता मुहिम शुरू करें।
इस मौके पर उनके साथ पशु पालन विभाग के डायरैक्टर डा. अमरजीत सिंह, स. प्रीतपाल सिंह और स. जी. एस. तूर (दोनों डिप्टी डायरैक्टर विभाग), वैज्ञानिक सिमरत कौर गिल, संस्था के अन्य वैज्ञानिक और सूअर पालक बड़ी संख्या में उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share