Home » धर्म/संस्कृति » इस मृत देह से 550 साल बाद निकला था खून, आज भी बढ़ते हैं नाखून और बाल

इस मृत देह से 550 साल बाद निकला था खून, आज भी बढ़ते हैं नाखून और बाल

चंडीगढ़। चंडीगढ़ से सटे पड़ोसी राज्य हिमाचल में लाहुल स्पिति जिले के गियू गांव में करीब 550 साल पुरानी (मृत देह)  ममी पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है। यह ममी विश्व में एक मात्र है जो बैठी हुई अवस्था में है। इसके बाल और नाखून आज भी बढ़ते हैं। गांव के लोग इस ममी को भगवान मानकर पूजते हैं।

लामा सांगला तेनजिंग की है मृत देह…   

ऐसा माना जाता है कि यहां मिली यह ममी लामा सांगला तेनजिंग की है जो, तिब्बत से गियू गांव में तपस्या करने आए थे। मान्यता है कि कि लामा ने साधना में लीन होते हुए बैठे-बैठे अपने प्राण त्याग दिए थे। उस समय उनकी उम्र मात्र 45 साल के करीब थी।

बिना किसी लेप के सुरक्षित

वैज्ञानिक जांच में इस ममी की उम्र करीब 550 वर्ष पाई गई है। मृत देह को सैकड़ों सालों तक सुरक्षित रखने के लिए उस पर खास किस्म का लेप लगाकर ममी बनाया जाता है। लेकिन इस ममी पर किसी किस्म का लेप नहीं लगाया है। फिर भी इतने वर्षों से यह ममी कैसे सुरक्षित है? यह राज अभी भी बरकरार है। स्थानीय लोगों के अनुसार चौंकाने वाली सबसे बड़ी बात यह है कि इस ममी के बाल और नाखून आज भी बढ़ रहे हैं।

खुदाई के दौरान बह निकला था ममी का खून

1974 में यहां आए भूकम्प में यह ममी जमीन में दफन हो गई थी। 1995 में आईटीबीपी के जवानों को सड़क बनाते समय खुदाई में यह ममी फिर मिल गई।  खुदाई के समय इस ममी के सिर पर कुदाल लगने से खून निकल आया था, जो कि सामान्य तौर पर संभव नहीं है। 2009 तक यह ममी आईटीबीपी के कैम्पस में रखी हुई थी। देखने वालों की भीड़ को देखकर बाद में इस ममी को गांव में स्थापित कर दिया गया। गियू गांव पहुंचने के लिए आप शिमला और मनाली दोनों जगहों से जा सकते हैं।

 

 

Check Also

कड़वे प्रवचन

परिवार एक माला के समान है जिसके सभी मनके परिवार में एक दूसरे से मजबूती …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel