सदी की सबसे भयंकर बाढ़ : सड़कों और पेड़ों पर घूम रहे मगरमच्छ - Arth Parkash
Tuesday, February 19, 2019
Breaking News
Home » Photo Feature » सदी की सबसे भयंकर बाढ़ : सड़कों और पेड़ों पर घूम रहे मगरमच्छ
सदी की सबसे भयंकर बाढ़ : सड़कों और पेड़ों पर घूम रहे मगरमच्छ

सदी की सबसे भयंकर बाढ़ : सड़कों और पेड़ों पर घूम रहे मगरमच्छ

ऑस्ट्रेलिया में सदी की सबसे भयानक बाढ़ के कारण नदियों का पानी सड़कों पर आ गया और जिससे उत्तरपूर्वी हिस्से में हजारों लोगों को अपने घरों से विस्थापित होना पड़ा। यह बाढ़ इतनी भयंकर थी कि लोगों को बचाने के लिए सरकार को सेना लगानी पड़ी। आलम यह है कि ऑस्ट्रेलिया के नॉर्थ क्वीन्सलैंड में बाढ़ के कारण सड़कों और पेड़ों पर मगरमच्छ घूम रहे हैं। वहीं लोगों को छतों पर जाकर जान बचानी पड़ रही है। उत्तरपूर्वी क्वींसलैंड के टाउंसविले शहर में हजारों निवासी बिना बिजली के रह रहे हैं और अगर बारिश जारी रही तो 20,000 से अधिक मकानों के जलमग्न होने का खतरा है। मुंदिन्गबुरा क्षेत्र में मगरमच्छ को लोगों ने पानी से बाहर चलते देखा।

ऑस्ट्रेलिया के उत्तरी हिस्से में मानसून के समय भारी बारिश होती है लेकिन हाल ही में हुई बारिश सामान्य स्तर से अधिक है। मौसम विभाग ने आशंका जताई है कि स्थिति और खराब हो सकती है। निवासियों को ऊंचे स्थानों पर जाने की सलाह दी गई है। बाढ़ से परेशान कई लोग सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखकर राहत पहुंचाने की अपील कर रहे हैं। कई लोग लंबे वक्त से फंसे हुए हैं, लेकिन उनके पास नावें नहीं पहुंच पाई हैं। पिछले करीब 6 दिनों से शहर में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। यहां सैन्य कर्मी लगातार लोगों की मदद कर रहे हैं। क्वींसलैंड की प्रमुख ने कहा कि यह मूल रूप से 20 साल में एक बार नहीं बल्कि 100 साल में एक बार होने वाली घटना है।

लोगों से कहा गया है कि सतर्क रहें। तेज आंधी की वजह से टोर्नाडो भी पैदा हो सकता है। एक अधिकारी ने बताया कि पानी की धार तेज होने की वजह से कई लोगों तक पहुंचने में दिक्कत आ रही है। मौसम विज्ञान ब्यूरो ने बताया कि उत्तरी क्वींसलैंड राज्य के ऊपर धीमी गति से आगे बढ़ रहे मानसून का कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इससे कुछ इलाकों में भारी बारिश होने की आशंका है। टाउंसविले के निवासी क्रिस ब्रूकहाउस ने कहा कि मैंने पहले कभी ऐसा कुछ नहीं देखा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share