फोर्टिस बना आर्गेनिक कम्युनिटी कम्पोस्टर्स स्थापित करने वाला ट्राईसिटी का पहला अस्पताल - Arth Parkash
Thursday, October 18, 2018
Breaking News
Home » चंडीगढ़ » फोर्टिस बना आर्गेनिक कम्युनिटी कम्पोस्टर्स स्थापित करने वाला ट्राईसिटी का पहला अस्पताल
फोर्टिस बना आर्गेनिक कम्युनिटी कम्पोस्टर्स स्थापित करने वाला ट्राईसिटी का पहला अस्पताल

फोर्टिस बना आर्गेनिक कम्युनिटी कम्पोस्टर्स स्थापित करने वाला ट्राईसिटी का पहला अस्पताल

मोहाली। फोर्टिस हॉस्पिटल, मोहाली, ट्राईसिटी का पहला ऐसा अस्पताल बन गया हे जिसने अपने गो ग्रीन अभियान को आगे बढ़ाते हुए आर्गेनिक कम्युनिटी कम्पोस्टर्स को स्थापित किया है। इनकी मदद से अस्पताल अपने सभी गीले अवशिष्ट (कूड़ा-कर्कट) को अपने स्तर पर निपटाते हुए उसे कम्पोस्ट में बदलेगा।

फोर्टिस हॉस्पिटल, मोहाली हमेशा सामाजिक चिंताओं और समाज को वापस देने में आम जनता को संवेदनशील बनाने में अग्रणी रही है। इस पहल को आगे बढ़ाने और प्रदूषण की खतरनाक दर के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए, अस्पताल ने अपनी नई ‘गो ग्रीन पहल के शुरू किया है। फोर्टिस हॉस्पिटल ने चंडीगढ़ डेली डंप के सहयोग से परियोजना शुरू की है और एएजीए स्थापित किया है, जो एक पर्यावरण अनुकूल, अभिनव और खूबसूरत उत्पाद है जो आपके सभी गीले कबाड़ को कम्पोस्ट में बदल सकता है।

आशीष भाटिया, आर-सीओओ, एनएंडई, फोर्टिस हेल्थकेयर ने कहा कि ”प्रदूषण के बढ़ते स्तरों को ध्यान में रखते हुए हमें उन उपायों को अपनाना होगा जो इसे नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। फोर्टिस हेल्थकेयर में, हम पर्यावरण के अनुकूल समाधानों को अपनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं ताकि आने वाले पीढिय़ों के लिए पर्यावरण को संरक्षित किया जा सके। चंडीगढ़ डेली डंप के साथ हमारा सहयोग इस दिशा में एक मजबूत कदम है।उन्होंने कहा कि ”कम्पोस्टिंग, मीथेन के उत्सर्जन को कम करके ग्लोबल वार्मिंग को रोकने में मदद करती है, जबकि जब आर्गेनिक कर्कट को जब किसी जगह पर भी भरा जाता है तो उसके डीकम्पोस्ट होने की प्रक्रिया में एक शक्तिशाली ग्रीनहाउस गैस भी उत्पादित हो जाती है।

इसके साथ-साथ, कम्पोस्ट से कई अन्य लाभ भी होते हैं, जिनमें मिट्टी के कटाव को नियंत्रित किया जा सकता है, भोजन में विटामिन और खनिज सामग्री में सुधार करता है, पौधों की पानी की मांग को कम करता है, मिट्टी के पीएच स्तर को संतुलित करता है, यह स्वस्थ पौधों को बढ़ावा देता है; और यह कीटनाशकों, कवक और उर्वरकों के उपयोग को कम करता है, जो पर्यावरण के लिए बेहद हानिकारक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share