Home » धर्म/संस्कृति » गंगा स्नान करने से मनुष्य के धुल जाते हैं सारे पाप

गंगा स्नान करने से मनुष्य के धुल जाते हैं सारे पाप

हमारे देश में शायद ही कोई ऐसा महीना गुजरता होगा, जिसमें कोई बड़ा त्यौहार या धार्मिक आयोजन का प्रावधान नहीं होता हो! वहीं इस साल जून, यानि कि जेष्ठ माह में गंगा दशहरा पड़ रहा है। जून में 20 तारीख को यह महत्वपूर्ण त्यौहार मनाया जायेगा। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, कि गंगा दशहरा का संबंध पतित पावनी ‘मां गंगा’ से है। जैसा कि सभी जानते हैं कि, हमारे देश में गंगा नदी मात्र एक नदी नहीं है, बल्कि इस नदी का धार्मिक रूप से बेहद महत्व है। कहा जाता है कि गंगा में स्नान करने के बाद मनुष्य के सारे पाप धुल जाते हैं, और वह पवित्र हो जाता है।

इतना ही नहीं, गंगा नदी का जल अगर आप किसी पात्र में एकत्रित करते हैं, तो सालों साल इस जल में कीड़े तक नहीं पड़ते हैं। शास्त्रों में गंगा को दैवीय नदी तक बताया गया है। भारत के जिन राज्यों से होकर गंगा नदी गुजरती है, उन राज्यों में गंगा तट पर कोई न कोई भव्य आयोजन जरूर होता है, जिसमें कुंभ और महाकुंभ जैसे आयोजनों के नाम भी शामिल हैं।

हरिद्वार और वाराणसी जैसी धार्मिक नगरी में जहां गंगा प्रवाहित होती हैं, वहां गंगा जी की पवित्र जलधारा में स्नान करने के लिए दूर-दूर से लोग एकत्रित होते हैं, और संध्या के समय भव्य गंगा आरती का आनंद लेते हैं। लेकिन यहां हम बात कर रहे हैं, गंगा दशहरा की, तो आइए जानते हैं कि इसे आखिर क्यों मनाया जाता है।

पौराणिक कथाओं का ज्ञान रखने वाले सभी लोगों को यह पता है कि राजा भगीरथ ने अपने पुरखों की आत्माओं को मुक्ति दिलाने के लिए गंगा नदी को धरती पर लाने का श्रेय प्राप्त किया है। कहा जाता है कि जिस दिन मां गंगा धरती पर अवतरित हुईं, वह दिन जेष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि थी।

वहीं, इस दिन आनंद योग और व्यतिपात योग तथा हस्त नक्षत्र जैसे शुभ संयोग भी बने थे। यही वजह है कि गंगा दशहरा के दिन बनने वाले इस संयोग में जब कोई व्यक्ति गंगा स्नान कर प्रभु को याद करता है, और अपने जीवन काल में किए गए सभी अपराधों की क्षमा – प्रार्थना मांगता है, तो इस दिन मनुष्य के सभी अपराधों से उसे मुक्ति मिल जाती है।

जिस प्रकार गंगा दशहरा के दिन गंगा नदी में स्नान करके अपने पापों से मुक्ति पाने का मार्ग बताया गया है, ठीक उसी प्रकार शास्त्र कहते हैं कि गंगा दशहरा के दिन जान-बूझकर अगर आप किसी गलत कार्य को करते हैं, जैसे कि झूठ बोलते हैं, किसी की चुगली करते हैं, तथा पराई स्त्री पर नजर डालते हैं, और चोरी हिंसा जैसे वर्जित कार्य को करते हैं, तो इसकी कठोर सजा भी आपको प्राप्त होती है।

इसीलिए शास्त्र कहते हैं कि गंगा दशहरे के दिन बेहद संयमित और साधारण जीवन चर्या का पालन करना चाहिए, और जहां तक संभव हो प्रभु का ध्यान करना चाहिए।

Check Also

Big decision of Yogi government, now so many people will be able to attend the wedding ceremony instead of 50

योगी सरकार का बड़ा फैसला, शादी समारोह में अब 50 की जगह शामिल हो सकेंगे इतने लोग

Big decision of Yogi government: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण के बाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel