Home » अर्थ प्रकाश विशेष » सरदार सुखबीर सिंह बादल ने राजनीतिक दलों से संयुक्त होकर तीनों खेती कानूनों को निरस्त करने की मांग करने की अपील की

सरदार सुखबीर सिंह बादल ने राजनीतिक दलों से संयुक्त होकर तीनों खेती कानूनों को निरस्त करने की मांग करने की अपील की

एनडीए सरकार से कहा कि पहले काले कानूनों को निरस्त करें और फिर किसानों से विचार-विमर्श करें

प्रेस विज्ञप्ति

चंडीगढ़: शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सरदार सुखबीर सिंह बादल ने आज सभी राजनीतिक दलों से तीनों खेती कानूनों को निरस्त करने की मांग करते हुए कहा कि इस एनडीए सरकार से कहा कि वह किसान आंदोलन से ध्यान भटकाने के लिए राहत देना चाहती है, ऐसा हरगिज नही होगा।

सरदारनी हरसिमरत कौर बादल , सरदार बलविंदर सिंह भूंदड़ तथा श्री नरेश गुजराल सहित शिअद-बसपा के सांसदों ने ‘काले कानून वापिस लो’ और ‘किसानों की मांगे पूरी करो’ के नारे लगाते हुए संसद के बाहर विरोध प्रदर्शन जारी रखा और तीनों काले कानूनों को निरस्त करने की मांग की।

पत्रकारों से बातचीत करते हुए शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष ने कहा कि शिअद-बसपा गठबंधन में संसद सत्र के पहले दिन से ही इस मुददे को उठाया है। ‘ हम पंजाब और देश के किसानों के लिए न्याय सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम अन्य राजनीतिक दलों से भी अपील करते हैं कि वे यह सुनिश्चित करने के लिए एकजुट हों कि अन्नदाता किसी भी तरह से कमजोर न हो’’।

अकाली दल अध्यक्ष ने केंद्र द्वारा किसानों को गलत ढ़ंग से पेश करने के लिए निंदा करते हुए कहा कि वह यह रंगत देने की कोशिश कर रहे हैं कि वे बातचीत के लिए तैयार हैं , लेकिन किसान बातचीत के लिए आगे नही आ रहे हैं। उन्होने कहा कि यह अजीब बात है कि केंद्र सरकार खेती कानूनों पर चर्चा क्यों चाहती है, जबकि देश के किसानों ने एकमुश्त खारिज कर दिया था’’। अगर सरकार वास्तव में किसानों की भलाई के बारे में चिंतित है तो उन्हे यह घोषणा करनी चाहिए कि तीनों खेती कानूनों को रदद किया जा रहा है। इसके बाद किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए आवश्यक कदमों पर किसानों के साथ विचार विमर्श किया जा सकता है। उन्होने कहा कि सरकार हालांकि ऐसा करने को तैयार नही थी ,क्योंकि उसका तीनों काले कानून रदद करने का कोई इरादा नही है।

सरदार बादल ने केंद्र सरकार की निंदा करते हुए कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के साथ होने वाली त्रासदी के बारे अनभिज्ञता जताकर किसानों की पीड़ा के प्रति घोर असंवेदनशीलता दिखाई है। उन्होने कहा कि किसान आंदोलन में 550 से अधिक किसानों की जानें गई हैं

‘‘ किसान आंदोलन के शहीदों द्वारा किए गए बलिदान को पहचानने के बजाय सरकार यह कहते हुए उनके अस्तित्व पर सवाल उठा रही है कि उनके पास किसान आंदोलन में शहीद हुए किसानों की मौतों का कोई रिकाॅर्ड नही है। सिर्फ इतना ही नही राष्ट्रीय राजधानी में अपना विरोध दर्ज काने के लिए आने वाले किसानों को ‘मवाली’ बताया जा रहा है। भारत किसानों के उत्पीड़न को हरगिज बर्दाश्त नही करेगा। एनडीए सरकार को इस बात को समझना चाहिए कि वह सही कदम उठाए यां फिर पूरे समुदाय के क्रोध का सामना करने के लिए तैयार रहे ’’।

Check Also

शिरोमणी अकाली दल

शिरोमणी अकाली दल ने दागी राजा वड़िंग और गुरकीरत कोटली को लेकर कही यह बात

शिरोमणी अकाली दल: दागी राजा वड़िंग और गुरकीरत कोटली को मंत्री बनाने का फैसला साबित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel