Breaking News
Home » ब्रेकिंग न्यूज़ » बेहतरीन डायलॉग्स के पितामह राजकुमार का जन्मदिन है आज, जानिए उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ खास राज
बेहतरीन डायलॉग्स के पितामह राजकुमार का जन्मदिन है आज, जानिए उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ खास राज
बेहतरीन डायलॉग्स के पितामह राजकुमार का जन्मदिन है आज, जानिए उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ खास राज

बेहतरीन डायलॉग्स के पितामह राजकुमार का जन्मदिन है आज, जानिए उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ खास राज

Raaj Kumar Birth Anniversary- निराले ठाठ, बिरला अंदाज, सख्त मिजाज, बुलंद आवाज, शानदार लाइफस्टाइल और एक बेहद यूनिक पर्सनालिटी के लिए जाना जाते थे राजकुमार

नई दिल्ली: बेहतरीन डायलॉग्स के पितामह राजकुमार(खुद ही अपने डायलॉग्स लिखते थे) का आज जन्मदिन है|राज कुमार का जन्म 8 अक्टूबर, 1926 को पाकिस्तान के बलूचिस्तान में कश्मीरी पंडित परिवार में हुआ था|उनका नाम पहले कुलभूषण पंडित था|राजकुमार को असल जिंदगी में समझ पाना बहुत मुश्किल था|हालांकि वे दिल के बहुत अच्छे थे|लेकिन इनके सख्त मिजाजी रुख के कारण लोग उन्हें समझ नहीं पाते थे|

राज कुमार ने जेनिफर से शादी की थी| इस शादी से उनके तीन बच्चे थे- पुरु राज कुमार, पणिनी राज कुमार और वास्तविकता पंडित| पुरु ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि उनके पिता कभी भी बोरिंग नहीं थे| बस वे थोड़े से अजीब थे| वे बहुत खराब डांस करते थे|

पुरु बताते हैं कि डैड मेरी मॉम से बहुत प्यार करते थे| मेरी मां का नाम जेनिफर था जो शादी के बाद गायित्री हो गया| वे एक एयरहॉस्ट्रेस थीं और डैड उनसे पहली बार फ्लाइट में मिले थे| वे मां के साथ घुड़सवारी पर जाना पसंद करते थे|

राजकुमार मुंबई के एक थाने में किसी बड़े पद पर तैनात थे, किसी ने उनसे कहा कि अब पुलिस की नौकरी के लिए नहीं बने हैं आपको तो फिल्मों में होना चाहिए| बस इसी के बाद उन्होने पुलिस की नौकरी छोड़ दी और फिल्मों का रुख कर दिया|

मूफट थे राजकुमार…..

राजकुमार बहुत मूफट इंसान थे| एक दफा प्रकाश मेहरा की फिल्म जंजीर का उनके पास ऑफर आया| मगर राज कुमार ने ये कह कर फिल्म में काम करने से इंकार कर दिया कि उन्हें डायरेक्टर की शक्ल नहीं पसंद है| एक बार तो एक बड़ा डायरेक्टर राजकुमार के पास एक फिल्म का प्रस्ताव लेकर आया लेकिन राजकुमार फिम करने से मन कर दिया और कहा कि उनकी फिल्म उनके कुत्ते को पसंद नहीं आई इसलिए वह फिल्म नहीं करेंगे|

राजकुमार के चर्चित डायलॉग्स……

  • हम वो कलेक्टर नहीं जिनका फूंक मारकर तबादला किया जा सकता है। कलेक्टरी तो हम शौक़ से करते हैं, रोज़ी-रोटी के लिए नहीं। दिल्ली तक बात मशहूर है कि राजपाल चौहान के हाथ में तंबाकू का पाइप और जेब में इस्तीफा रहता है। जिस रोज़ इस कुर्सी पर बैठकर हम इंसाफ नहीं कर सकेंगे, उस रोज़ हम इस कुर्सी को छोड़ देंगे। समझ गए चौधरी!
  • जब राजेश्वर दोस्ती निभाता है तो अफसाने लिक्खे जाते हैं.. और जब दुश्मनी करता है तो तारीख़ बन जाती है।
  • जानी.. हम तुम्हे मारेंगे, और ज़रूर मारेंगे.. लेकिन वो बंदूक भी हमारी होगी, गोली भी हमारी होगी और वक़्त भी हमारा होगा।
  • जिसके दालान में चंदन का ताड़ होगा वहां तो सांपों का आना-जाना लगा ही रहेगा
  • ना तलवार की धार से न गोलियों की बौछार से..बंदा डरता है तो बस पर्वतदिगार से
  • हमारी जुबान भी हमारी गोली की तरह है। दुश्मन से सीधी बात करती है।
  • हम तुम्हे वो मौत देंगे जो ना तो किसी कानून की किताब में लिखी होगी और ना ही कभी किसी मुजरिम ने सोची होगी।
  • हम आंखों से सुरमा नहीं चुराते, हम आंखें ही चुरा लेते हैं।
  • बिल्ली के दांत गिरे नहीं और चला शेर के मुंह में हाथ डालने। ये बद्तमीज हरकतें अपने बाप के सामने घर के आंगन में करना, सड़कों पर नहीं।”

3 जुलाई 1996 को 69 वर्ष की आयु में गले के कैंसर से राजकुमार की मृत्यु हो गई|Raaj Kumar Birth Anniversary

Check Also

हरियाणा के साथ-साथ यूपी की राजनीति में अपना दमखम दिखा चुके दिग्‍गज नेता करतार सिंह भड़ाना बीजेपी में शामिल

हरियाणा के साथ-साथ यूपी की राजनीति में अपना दमखम दिखा चुके दिग्‍गज नेता करतार सिंह भड़ाना बीजेपी में शामिल

नई दिल्‍ली: पश्‍चिमी उत्‍तर प्रदेश और हरियाणा के दिग्‍गत नेता करतार सिंह भड़ाना (Kartar Singh …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel