Home » पंजाब » पंजाब: जमीन विवाद के चलते बुजुर्ग को धारदार हथियारों से काटा, भतीजे समेत 7 पर केस दर्ज

पंजाब: जमीन विवाद के चलते बुजुर्ग को धारदार हथियारों से काटा, भतीजे समेत 7 पर केस दर्ज

बलाचौर। नवांशहर जिले के गांव पैली में एक बुजुर्ग को उसके भतीजे ने साथियों के साथ मिलकर धारदार हथियारों से काट डाला। घटना शनिवार देर रात की है, जिसके संबंध में पुलिस 7 लोगों पर केस दर्ज करने के बाद आगे की कार्रवाई शुरू कर दी थी। बुजुर्ग के शव को पोस्टमॉर्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया है। वहीं, सोमवार को पता चला है कि इस कत्ल के पांच आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है।

पुलिस को दिए बयान में मृतक बलदेव सिंह के बेटे जोंटी सिंह ने बताया कि शनिवार रात कुछ लोगों ने घर में घुसकर धारदार हथियारों से परिवार पर हमला कर दिया। कई घायल सदस्य घबराकर अंदर कमरे में छिप गए। इस दौरान हमलावरों ने उसके पिता बलदेव सिंह पर भी हमला कर दिया। उन्होंने शोर मचाया तो हमलावर फरार हो गए। कुछ समय बाद घर के कमरों में छिपे सदस्य जब बाहर आए तो पाया कि बलदेव सिंह का खून से लथपथ शव जमीन पर पड़ा था।

घायल परिजनों को आसपास के लोगों ने सिविल अस्पताल पहुंचाया और पुलिस को सूचना दी। जोंटी सिंह के अनुसार, उसके परिवार को उनके चाची के परिवार की ओर से लगातार धमकियां मिल रही थी। पिछले दिनों जब वो शहीदों की समाधि पर दीया जलाने के लिए गए थे तो वहां भी चचेरे भाई रविंदर सिंह ने धमकी दी थी। यह हमला चाची मनजीत कौर और काला ने साजिश के तहत करवाया है, क्योंकि उनके परिवार का जमीन को लेकर इन लोगों से झगड़ा चल रहा था।

इस बयान के आधार पर पुलिस ने मजारा निवासी रविंदर सिंह, रक्कड़ां ढाहां निवासी मनदीप कुमार, मजारा निवाासी कप्तान सिंह, चनियानी खुर्द निवासी कर्णदीप, टप्परियां खुर्द निवासी संदीप कुमार, मजारा निवासी मनजीत कौर, मजारा निवासी काला के खिलाफ आईपीसी की धारा 302, 449, 323, 148, 149 व 120बी के तहत मामला दर्ज किया है। इनमें से 5 को गिरफ्तार भी कर लिया गया है। इस बारे में एसएसपी अलका मीणा का कहना कि पांचों हमलावरों को गिरफ्तार करने के अलावा आगे की जांच-प?ताल जारी है।

Check Also

कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व में मंत्रीमंडल द्वारा ‘मिशन लाल लकीर’ लागू करने के लिए बिल लाने की मंजूरी

कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व में मंत्रीमंडल द्वारा ‘मिशन लाल लकीर’ लागू करने के लिए बिल लाने की मंजूरी

स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभागों के लिए साझे कैडर के विभाजन को भी हरी झंडी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel