Saturday, September 21, 2019
Breaking News
Home » हरियाणा » एक करोड़ के लेन-देन मामले में हैदराबाद पुलिस टीम पहुंची पूंडरी

एक करोड़ के लेन-देन मामले में हैदराबाद पुलिस टीम पहुंची पूंडरी

लेनदार घनश्याम को विधायक के आवास पर बनाया बंधक

पूंडरी आजाद विधायक के कार्यालय प्रतिनिधियों व समर्थकों की दादागिरी

कमरे में कैद कर शिकायतकर्ता को पीटा

कैथल। करीब 1 करोड़ रुपए के लेनदेन मामले में हैदराबाद पुलिस टीम के साथ लेनदार घनश्याम जब पूंडरी विधायक आवास पर पहुंचा तो उसे बंधक बनाए जाने का आरोप लेनदार ने लगाए हैं। सभी वारदात कैमरे में कैद करके शिकायतकर्ता को खूब पीटा गया, वहां पर कवरेज करने पहुंचे पत्रकारों के साथ अभद्र व्यवहार किया गया, मोबाइल छीने गए, जान से मारने की धमकी दी गई। खनन व्यवसाय के लिए विधायक की पत्नी ने सिकंदराबाद निवासी स्टील व्यापारी से करीब एक करोड रुपए की रकम उधारी ली थी, जिसके बाद चेक दिए गए लेकिन चेक बाउंस हुए। चेक बाउंस के बाद एफआईआर दर्ज करवाई गई। उस एफआईआर दर्ज होने के चलते जब हैदराबाद पुलिस मामले में कार्रवाई को लेकर पहुंची तो उनके साथ क्या हुआ यह आज कैथल जिले सहित पूरे हरियाणा में चर्चा का विषय बना रहा। कैथल में पत्रकारों से बातचीत में स्टील व्यापारी घनश्याम ने बताया कि उन्होंने हलका विधायक प्रो. दिनेश कौशिक और उनकी पत्नी के साथ 1 करोड़ रुपए का बैंक लोन दिया था। जिसके बारे में उन्होंने 10 लाख रुपए प्रति महीना देने की बात की गई थी और इसके अलावा अढाई लाख रुपए ब्याज प्रति महीना देने की भी बात उनके द्वारा की गई थी लेकिन इस मामले में उनके द्वारा केवल दो तीन किश्त ही दी गई और ब्याज भी केवल एक या दो बार ही दिया गया। उसके बाद उनके द्वारा किसी भी प्रकार का रुपया नहीं दिया गया। वे जब फोन करते थे तो ना उनके फोन उठाए गए, ना उनके मैसेज का कोई रिप्लाई दिया गया और तो और शिकायतकर्ता ने कहा कि जब वे किसी दूसरे व्यक्ति के माध्यम से उनको मैसेज देते थे तो उन्हें भी विधायक द्वारा धमकी दी जाती थी और उन्हें हैदराबाद में ही ऐसा हाल करवाने की धमकी दी जाती थी कि वो याद रखे।

घनश्याम के आरोप है कि विधायक द्वारा धमकी दी जाती थी कि वो (विधायक) बीजेपी में शामिल हैं, मौके के विधायक हैं, केंद्र से लेकर प्रदेश सहित हर जगह उनकी सरकार है। वह (विधायक) उनको ऐसे मामले में फंसा देंगे कि वह याद रखेंगे। एक करोड़ के लेन-देन में पुंडरी विधायक द्वारा 10-10 लाख रुपए के दो चेक दिए गए थे लेकिन कुछ समय बाद वे चेक बाउंस हो गए थे जिसकी शिकायत उन्होंने सिकंदराबाद (हैदराबाद) में एफआईआर दर्ज कराई। विधायक को एक वकील द्वारा नोटिस दिए गए लेकिन विधायक द्वारा नोटिस लेने से भी इनकार कर दिया गया।

जब वे दिनेश कौशिक से बात करने के लिए खुद पूंडरी पहुंचे तो आज सुबह उनको कार्यालय में बने रूम में बंधक बनाया गया। दिनेश कौशिक और उनकी पत्नी मौके पर नहीं मिले और जब उनसे फोन संपर्क किया तो उन्होंने मुख्यमंत्री के साथ मीटिंग में होने की बात कहकर फोन काट दिया। घनश्याम का आरोप है कि विधायक द्वारा लोकल पुंडरी पुलिस को भी धमकाया गया। घनश्याम ने कहा कि विधायक के कार्यालय प्रतिनिधियों और स्कूल में कार्यरत एक अधिकारी ने उनके साथ बहुत अधिक मारपीट की। जब वे बाथरूम करने के लिए गए तो उन्हें बाथरूम में बंद किया गया और हाथ पैर जोड़कर वे बाहर निकले, उनके बाहर आते ही फिर से मारपीट की गई और मोबाइल छीना गया। जब एक पत्रकार साथी वहां कवरेज कर रहा था तो उसका भी मोबाइल छीना गया और उनके साथ भी मारपीट की गई। उन्होंने प्रदेश के ईमानदार मुख्यमंत्री मनोहर लाल से इस पूरे मामले में कार्रवाई किए जाने की मांग की है। जब घनश्याम से पूछा गया कि उन्होंने विधायक को किस उद्देश्य से पैसे दिए थे तो उन्होंने कहा कि उन्होंने केवल लोन के रूप में पैसे दिए थे और विधायक होने के नाते विश्वास कर लिया था।

घनश्याम का कहना है कि इस मामले की जांच कराई जाए तो बहुत बड़ा खुलासा होने वाला है। स्टील व्यापारी घनश्याम ने कहा कि विधायक द्वारा बार-बार मुख्यमंत्री का नजदीकी होने की व आगामी चुनावों में टिकट पक्की होने की, अगला चुनाव भाजपा के टिकट से लडऩे की भी धमकी दी गई। उन्होंने कहा मेरा मर्डर करने की धमकी भी हलका विधायक कार्यालय प्रतिनिधियों द्वारा दी गई। व्यापारी ने कहा कि बार बार विधायक के समर्थक धमकी दे रहे थे कि उनकी बहुत अधिक पहुंच है। जब लोकल पुलिस से सहयोग की बात घनश्याम से पूछी तो उन्होंने कहा कि पहले तो लोकल पुलिस ने उनका सहयोग नहीं किया लेकिन बाद में उन्होंने हाथ पैर जोड़े और रिक्वेस्ट की, तब जाकर पुलिस वाले ने उनकी सहायता की। उन्होंने कहा कि हलका विधायक द्वारा लोकल पुलिस पर दबाव बनाया जा रहा था कि मेरे खिलाफ घर में घुसने के आरोप में, चोरी का, डकैती का मामला दर्ज किया जाए। उनको बार-बार मीडिया में न जाने की पाबंदी लगाई गई थी। घनश्याम ने कहा कि वे मीडिया के माध्यम से मांग करते हैं कि सरकार इस मामले में न्याय करें और मुझे मेरे पैसे दिलवाए जाएं।

शिकायतकर्ता द्वारा मेरे खिलाफ जो शिकायत दर्ज करवाई गई है, वह पूर्णतया झूठी व आधारहीन है। यह मामला व्यापारिक हिस्सेदारी का है और उसमें से अधिकतर रुपए उसे बैंक के द्वारा आरटीजीएस व नगद वापस किए जा चुके हैं। शिकायतकर्ता के साथ किसी भी प्रकार की कोई धोखाधड़ी नहीं हुई है। मौजूदा चुनावी माहौल में मेरे पति की राजनीतिक छवि को खराब करने के लिए उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों द्वारा मामले में दुष्प्रचार किया जा रहा है। शिकायतकर्ता ने अपने प्रभाव का गलत इस्तेमाल कर के षड्यंत्र रचा है, जिसका कानूनी रूप से जवाब दिया जायेगा।
-संध्या कौशिक

Check Also

किसानों के भरोसे के बीच विकास अहम कड़ी: जैन

गलियों के निर्माण कार्य का शिलान्यास, पार्क-ओपन जिम के हुए लोकार्पण सोनीपत। मुख्यमंत्री के मीडिया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel