Home » हरियाणा » 11 गांवों के लोगों ने नहरी पानी की मांग को लेकर सरकार के खिलाफ मनाया ब्लैक फ्राईडे

11 गांवों के लोगों ने नहरी पानी की मांग को लेकर सरकार के खिलाफ मनाया ब्लैक फ्राईडे

महिलाओं ने काली चुन्नी तो पुरूषों ने काले परने बांधकर किया प्रदर्शन

नरवाना। शुक्रवार को धरौदी गांव में आयोजित धरने में उपस्थित लोगों ने काले कपड़े बांधकर ब्लैक फ्र ाईडे मनाया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। महिलाएं काली चुन्नी व पुरूष काले रंग के परने बांधकर धरना स्थल पर पहुंचे। गौरतलब है कि धरौदी, बेलरखा, खरल, फरैण क लां, फरैण खुर्द, कर्मगढ़, नैहरा, खानपुर, हमीरगढ़, लोन, कान्हाखेड़ा गांव के लोगों की प्यास बुझाने का एकमात्र सहारा धरौदी माईनर में सरकार भाखड़ा का पानी देने के लिए तैयार नहीं है। ऐसे इन 11 गावों के लोग आसपास की खापों के साथ मिलकर पिछले एक माह से तरह तरह के प्रदर्शन सरकार के खिलाफ कर रहे हैं। लेकिन सरकार पर लोगों के प्रदर्शनों का जरा सा भी असर दिखाई नहीं दे रहा है।

लोगों ने कहा कि माईनर को भाखड़ा से इसलिए जोड़ा गया था कि माईनर से लगते 11 गांव भी फल फूल सके। लेकिन इस माईनर के ऐसा राजनीतिक स्टंट चला कि 30 साल बाद भी लोगों को धरौदी माईनर के माध्यम से भाखड़ा नहर का पानी नसीब नहीं हो सका। जबकि लोगों का कहना कि इन गावों में जमीनी पानी इतना जहरीला है कि उसे पीकर पशु भी बीमार होकर मर रहे हैं। फिर यह जहरीला पानी मनुष्य के लिए कितना खतरनाक होगा। यहां के लोग कैंसर जैसी बीमारियों के शिकार इस पानी को पीकर हो रहे है।

लोगों ने कहा कि कई लोगों की मौत हो चुकी है तो कई जिंदगी व मौत की जंग इस जमीन के जहरीले पानी के कारण लड़ रहे हैं। जबकि माईनर में कभी कबार ही पानी आता है और वह भी टेल तक नहीं पहुंचा पाता। ऐसे में न तो खेती बाड़ी में कोई बरकत है और ना ही लोगों को पीने का पानी प्राप्त हो रहा है।

लेकिन सरकार अपनी हठधर्मिता पर इस तरह अडिग है कि जैसे ये 11 गावों के लोग हरियाणा से बाहर के हों। ग्रामीण कृपाल राठी, जयबीर, रंगीराम, अमित, अजय, संदीप, सरोज, बाला, किताबो, संतरो ने कहा कि जब सरकार उनकी माईनर को भाखड़ा नहर से नहीं जोड़ेगी उनका विरोध प्रदर्शन दिन प्रतिदिन बढ़ता जाएगी। उन्होंने कहा कि अभी तक हजारों में हैं। सरकार नहीं मानी तो सरकार से लडऩे के लिए लाखों लोग यहां खड़ेे होगें।

महिलाओं ने सरकार को रोया

धरौदी गांव में नहरी पानी की मांग को लेकर प्रदर्शन के अनोखे तरीके देखने को मिल रहे हैं। ब्लैक फ्रईडे प्रदर्शन में महिलाएं सरकार के मंत्रियों को रोते हुए धरना स्थल पर पहुंची। महिलाओं का कहना है कि जब कोई व्यक्ति मर जाता है कि इस प्रकार से व्यक्त किया जाता है। सरकार को रोकर हम बता रहें है कि सरकार का कोई मंत्री हमारी आवाज को नहीं उठा रहा है। इसलिए हमारे लिए सारे मंत्री मर चुके हैं। इसलिए इस प्रदर्शन में उन्हे रोया जा रहा है। दूसरे गांवों के लिए ट्रैक्टर-ट्रालियों व कै ंटरों में सवार होकर धरना स्थल पर पहुंच रहे हैं। धरने में आए लोगों की संख्या भी दिन प्रतिदिन बढ़ रही है।

Check Also

सैलून में छेड़छाड़ और वसूली की होगी जांच ,विज ने दिए निर्देश,डीसीपी के खिलाफ भी होगी कार्रवाई|

मोनिका रावत पंचकूला। सैलून में महिला से छेड़छाड़ और वसूली के मामले में जांच होगी। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel