Home » चंडीगढ़ » मनीमाजरा के नगर निगम वार्ड से कांग्रेस टिकट के लिए एक अनार सौ बीमार की स्थिति

मनीमाजरा के नगर निगम वार्ड से कांग्रेस टिकट के लिए एक अनार सौ बीमार की स्थिति

पूर्व मेयर सुरेंद्र सिंह, गुरचरण दास काला, मलकीत सिंह, सुरजीत सिंह, रामेश्वर गिरी, रमेश गोयल, लवली मनचंदा, चितरंजन चंचल के नाम चर्चा में

चंडीगढ़। अगले साल होने वाले नगर निगम के चुनाव में मनीमाजरा से टिक्ट पाने के लिए कांग्र्रेसियों की कतार दिनों दिन लंबी होती जा रही है। अगर समय रहते कांग्रेस पार्टी की ओर से टिक्ट दिए जाने वाले उ मीदवार को आर्शीवाद न दिया गया तो नगर निगम चुनाव में कांग्रेस के साथ पुराना इतिहास दोहराया जा सकता है। जिसकी चर्चा कस्बे में जोरों पर चल रही है।

प्राप्त जानकारी के मुताबिक गुटबाजी के चलते वर्ष 1996 से लेकर वर्ष 2016 तक हुए नगर निगम के पांच चुनावों में कांग्रेस सिर्फ एक ही चुनाव जीत पायी है। अभी भी कांग्रेस में गुटबाज चर्म सीमा पर है । कांग्रेस लगतार तीन बार चुनाव हार चुकी है। एक बार चुनाव जीत कर मेयर बने सुरेंद्र सिंह की ओर से मनीमाजरा में बनाए गए शिवालिक गार्डन को लोग आज भी याद कर रहे है।

नगर निगम चुनाव को हालांकि एक साल पड़ा है लेकिन मनीमाजरा के वार्ड से कांग्रेस की टिक्ट चाहने वालों की कतार लंबी हो रही है। सूत्रों के मुताबिक मनीमाजरा से कांगे्रेस की टिक्ट चाहने वालो में पूर्व मेयर सुरेंद्र सिंह, पूर्व मेयर व मनीमाजरा से तीन बार पार्षद रहे गुरचरण दास काला, गत चुनाव में आजाद प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ कर अच्छी वोट हासिल करने के बाद कांगे्रेस में शामिल हुए व्यपारी नेता मलकीत सिंह, कांग्रेस के पूर्व प्रत्याशी रहे रमेश गोयल, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता रामेश्वर गिरी, सुरजीत ढिल्लों व लवली मनचंदा के नाम टिक्ट के लिए चर्चा में चल रहे है।

मनीष तिवारी समर्थक चितरंजन चंचल भी लाईन में

मनीष तिवारी के खासमखास चितरंजन चंचल का नाम भी मनीमाजरा की सीट के लिए चर्चा में चल रहा है। मनीष तिवारी पंजाब से सांसद है और चंडीगढ़ में उनके समर्थकों को अनदेखा नहीं किया जा सकता। इस लिए चंचल का नाम भी टिक्ट के लिए मजबूत दावेदार के तौर पर चर्चा में चल रहा है।

मलकीत सिंह वार्ड आरक्षित होने पर भी होंगे फिट

कांग्रेसी नेता मलकीत सिंह एक मात्र ऐसे दावेदार है जोकि जरनल के साथ साथ एससी वार्ड आरक्षित होने पर भी चुनाव लड़ सकते है। इसके अलावा उनकी पत्नी भी राजनीति में सक्रिय है अगर महिला के लिए वार्ड आरक्षित हुआ तो उसका नाम भी टिक्ट के लिए चर्चा में चल रहा है।

महिला वार्ड हुआ तो कई की राजनीति होगी ठप्प

मनीमाजरा में महिला वार्ड आरक्षित होने पर कोई दमदार प्रत्याशी नहीं है। अगर वार्ड महिला के लिए आरक्षित हो गया तो टिक्ट की दौड़ में लगे कई प्रत्याशियों का राजनीतिक भविष्य अंधाकार में हो जायेगा।

Check Also

BREAKING NEWS : अंबाला में 9 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म, आरोपी फरार

अम्बाला: उत्तरप्रदेश के बाद अब हरियाणा में भी बलत्कार के मामले बढ़ने लगे है | …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel