अयोध्या मामला: असदुद्दीन ओवैसी ने श्री श्री के मध्‍यस्‍थता पैनल में होने पर जताया एतराज, बोले- याद करें अपना पुराना बयान - Arth Parkash
Thursday, March 21, 2019
Breaking News
Home » उत्तर प्रदेश » अयोध्या मामला: असदुद्दीन ओवैसी ने श्री श्री के मध्‍यस्‍थता पैनल में होने पर जताया एतराज, बोले- याद करें अपना पुराना बयान
अयोध्या मामला: असदुद्दीन ओवैसी ने श्री श्री के मध्‍यस्‍थता पैनल में होने पर जताया एतराज, बोले- याद करें अपना पुराना बयान

अयोध्या मामला: असदुद्दीन ओवैसी ने श्री श्री के मध्‍यस्‍थता पैनल में होने पर जताया एतराज, बोले- याद करें अपना पुराना बयान

नई दिल्ली: अयोध्‍या विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा मध्‍यस्‍थता के लिए पैनल नियुक्‍त किया गया है|इसके साथ ही अब राजनीति भी शुरू हो गई है| इस मामले में एआईएमआईएम के अध्‍यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने पैनल में नियुक्‍त किए गए आध्‍यात्‍मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर को लेकर आपत्‍ति जताई है|

AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने अयोध्या विवाद में मध्यस्थता के लिए श्री श्री रविशंकर के नाम का विरोध किया है। असदुद्दीन ओवैसी ने श्री श्री रविशंकर के नाम पर आपत्ति जताते हुए कहा, ‘सुप्रीम कोर्ट ने श्री श्री रविशंकर को मीडिएटर बनाया है। ओवैसी ने कहा कि श्री श्री रविशंकर ने ऑन रिकॉर्ड ऐसा बयान दिया था जिसमें साफ-साफ हिंसा की धमकी दी गई थी।ओवैसी ने कहा कि श्री श्री रविशंकर जिन्हें मध्यस्थ नियुक्त किया गया है, उन्होंने पहले कहा था कि ‘अगर अयोध्या में मुसलमान अपना दावा नहीं छोड़ते हैं, तो भारत सीरिया बन जाएगा।’ बेहतर होता अगर सुप्रीम कोर्ट ने इनके बदले किसी निष्पक्ष व्यक्ति को मध्यस्थ नियुक्त किया होता। लेकिन मैं उम्मीद करता हूं कि अब वह एक मीडिएटर हैं। औवेसी ने कहा है कि मध्यस्थता के दौरान श्री श्री रविशंकर को निष्पक्ष रहना होगा।

उधर, पैनल के अध्‍यक्ष बनाए गए जस्‍टिस खलीफुल्‍ला ने कहा, मुझे सुप्रीम कोर्ट ने ब ड़ी जिम्‍मेदारी सौंपी है| अभी मुझे आदेश की कॉपी नहीं मिली है| उन्‍होंने कहा- इस बारे में मैं सिर्फ इतना ही कह सकता हूं कि पैनल पूरी जिम्‍मेदारी से अपना काम करेगा|हम विवाद को हल कराने के लिए सभी हरसंभव प्रयास करेंगे|

बता दें कि मध्यस्थता का आदेश देते हुए प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति ए.ए.बोबडे, न्यायमूर्ति डी.वाई.चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण व न्यायमूर्ति एस.अब्दुल नजीर ने प्रिंट व विजुअल मीडिया दोनों को मध्यस्थता की कार्यवाही की रिपोर्टिग करने से वर्जित कर दिया है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share