Breaking News
Home » Photo Feature » शर्त: ऐसा रावण आपने कभी नहीं देखा होगा, अपनेआप में विशालता लिए चंडीगढ़ की धरती पर खड़ा है

शर्त: ऐसा रावण आपने कभी नहीं देखा होगा, अपनेआप में विशालता लिए चंडीगढ़ की धरती पर खड़ा है

चंडीगढ़- धनास के 20 एकड़ ग्राउंड पर दो क्रेन, दो जेसीबी और 150 लोगों की मदद से खड़ा किया गया रावण

चंडीगढ़: इन दिनों देश( हो सकता है दुनिया का भी हो) का सबसे बड़ा रावण चंडीगढ़ की धरती पर खड़ा है|अपनेआप में विशालता लिए रावण की लम्बाई 221 फीट है|रावण का वजन दो क्विंटल से ज्यादा है, रावण की मूंछें 25 फीट लंबी हैं और उंचाई 21 फीट है|रावण का जूता 40 फीट लंबा है, रावण का मुकुट 60 फीट का है|रावण की तलवार 55 फीट लंबी है, रावण का हाथ 12 फीट का है|रावण का मुखौटा खासतौर पर फाइबर ग्लास का बनाया गया है और एक बेहद ख़ास बात यह भी है कि यह रावण का पुतला इको फ्रेंडली है मतलब रावण में जितने भी पटाखों का इस्तेमाल हुआ है उनसे प्रदूषण 80 प्रतिशत कम है|

किसने बनाया कितना वक्त लगा…..

पुतले को बनाने वाले कारीगर तजिन्द्र चौहान हैं|तजिन्द्र चौहान 1987 से रावण का पुतला बना रहे हैं| उन्होने रावण का सबसे पहला पुतला 20 फीट का बनाया था, जो कि लोगों को खूब पसंद आया| उनकी काफी तारीफ हुई| यहीं से तजिन्द्र चौहान ने सोच लिया कि अब रावण के पुतले को वो ऐसा ऐसा आकार देंगे को लोग देखते ही खुश हो उठे, रावण के लिए क्रेजी हो जाएं|रावण को बनाने में जो खर्च आता है उसके लिए तजिंदर अब तक अपनी साढ़े 12 एकड़ जमीन बेच चुके हैं।लेकिन इस बार चंडीगढ़ में जो रावण बना है उसे तैयार तो तजिन्द्र चौहान ने ही किया लेकिन इसका पूरा खर्च शिव पार्वती सेवा दल की ओर से उठाया गया है।तजिन्द्र चौहान बताते हैं कि इस बार पैसे ना होने की वजह से उन्होंने मन बना लिया था कि वह रावण नहीं बनाएंगे लेकिन शिव पार्वती सेवा दल ने उनके शिव पार्वती सेवा दल चंडीगढ़ संस्थान ने उनकी इच्छा उनके जज्बे को मरने नहीं दिया और रावण बनाने का खर्च उठाने का वादा किया|

रावण को बनाने में 6 महीने का वक्त लगा…..

  • 6 महीने से चल रही थी तैयारी।
  • 40 लोगों की टीम ने इसे तैयार किया
  • 30 लाख रुपए लागत आई।

बारिश कितनी भी हो रावण का कुछ नहीं बिगाड़ सकती….

रावण को तैयार करने वाले तजिंदर सिंह चौहान ने बताया कि इसे इस तरह तैयार किया गया है कि अगर दशहरे के दिन बारिश आ भी जाए तो भी रावण को शाम को जलाया जा सकेगा। तजिंदर सिंह ने बताया कि इस बनाने में 3 हजार मीटर कपड़ा और ढाई हजार मीटर जूट के मैट का इस्तेमाल किया गया है। बनावट इस तरह की गई है कि बारिश का पानी अंदर न जा पाए।

पिछली बार पंचकूला में तजिंदर सिंह चौहान ने बनाया था 2़़10 फीट का रावण….

चौहान बताते है कि वैसे तो उन्होंने कई रावण बनाए है लेकिन पिछले साल पंचकुला में 2़़10 फिट का रावण बनाया था। उन्होंने बताया कि पंचकुला का शालीमार ग्राउंड 12 एकड़ का था। इसलिए हम 210 फीट से उंचा पुतला नहीं बना पाए। लेकिन इस बार चंडीगढ़ के धनास का ग्राउंड 20 एकड़ से अधिक चौड़ा है इसलिए हमने रावण लोहे और बांस की मदद से आकर्षक लुक के साथ 221 का बनाया है|

रिमोट कंट्रोल से मिटेगी रावण की हस्ती….

रावण को अग्नि भेंट रिमोट कंट्रोल से होगी| सबसे पहले छत्र में धमाका होगा, उसके बाद मुकुट, फिर तलवार, ढाल , जूते और फिर सिर-धड़ को उड़ाया जाएगा।

पुतला बनाने को लेकर लिम्का बुक में नाम दर्ज….

रावण के पुतले बनाने को लेकर तेजिंदर चौहान का नाम अब तक पांच बार लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज हो चुके है। तेजिंदर ने बताया कि 2011 में 175 फुट ऊंचा पुतला बनाकर पहली बार लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करवाया था। उसके बाद 2012 में 180 फीट और 2013 में 185 फीट, 2014 में 190 फीट, 2015 में 200 फीट और 2018 में 210 फीट उंचा रावण बनाया था।

#the countrys largest ravan #dussera celebration #ravana effigy #country longest ravavan effigy #Chandigarh ravavan effigy

Check Also

हरियाणा के साथ-साथ यूपी की राजनीति में अपना दमखम दिखा चुके दिग्‍गज नेता करतार सिंह भड़ाना बीजेपी में शामिल

हरियाणा के साथ-साथ यूपी की राजनीति में अपना दमखम दिखा चुके दिग्‍गज नेता करतार सिंह भड़ाना बीजेपी में शामिल

नई दिल्‍ली: पश्‍चिमी उत्‍तर प्रदेश और हरियाणा के दिग्‍गत नेता करतार सिंह भड़ाना (Kartar Singh …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel