Home » Photo Feature » जेलर रहते 16 हजार लोगों को जेल में यातना देकर मार डाला था इस शख्स ने, अब उम्र कैद की सजा भोगते हुए मर गया

जेलर रहते 16 हजार लोगों को जेल में यातना देकर मार डाला था इस शख्स ने, अब उम्र कैद की सजा भोगते हुए मर गया

नई दिल्ली: कंबोडिया पर 1970 के दशक में खमेर रूज नाम के शासक का शासन हुआ करता था।खमेर रूज बेहद ही क्रूर और तानाशाही प्रवत्ति का था।इसके शासनकाल में इसकी तानाशाही से जनता घुट-घुटकर जी रही थी।खमेर रूज की तानाशाही यहां की जनता पर दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही थी।जहां एक समय ऐसा आया जब खमेर रूज से तंग आकर यहां की जनता में से कुछ लोग उसकी खिलाफत पर उतर आए लेकिन शासक खमेर रूज का रवैया तबभी कतई नहीं बदला बल्कि उसने अपने विद्रोहियों पर अपना रुख और कड़ा अख्तियार कर लिया औऱ वह उनके खिलाफ मौत का पैगाम लिखने लग गया यानि उसके विरोध में खड़े हुए लोगों को उसने मरवाना शुरू कर दिया।वहीं, रुज की इस क्रूरता में जिसने सबसे ज्यादा उसका सहयोग दिया वह था उसके शासनकाल में मुख्य जेलर के पद पर तैनात कियांग गुयेक इआव जिसकी अभी हाल ही में मौत हो गई है।

77 की उम्र में मरा पूर्व जेलर कियांग गुयेक इआव…

पूर्व जेलर कियांग गुयेक इआव की उम्र अब 77 साल थी और वह रुज के जमाने में जेल में 16 हजार लोगों को मौत देने के मामले में आजीवन कारावास की सजा भोग रहा था।हाल ही में कियांग गुयेक इआव को सांस लेने में तकलीफ की स्थिति पैदा हुई और कियांग को जेल से अस्पताल ले जाया गया।यहां कियांग का इलाज शुरू किया गया लेकिन कियांग की मौत हो गई।

जिससे रुज की खिलाफत की बू भी आई,उसे कियांग ने जेल में बन्दकर मार डाला…

कियांग गुयेक इआव तो रुज से भी एक कदम आगे रहा।मतलब, इसने रुज की ऐसी चाटूकारिता की कि यह जिसके मुंह से रुज के विरोध में शब्द सुन लेता था उसे जेल में बन्दकर दमभर यातना देता था और मार डालता था।इसप्रकार इसने 16 हजार लोगों को जेल में बेहद निर्मम तरीके मौत की नींद सुला दिया।

विद्रोह जब बढ़ा तो युद्धक स्थिति हुई पैदा…

कंबोडिया में जब क्रूर शासक खमेर रूज के विद्रोहियों की संख्या बढ़ी तो यहां युद्धक स्थिति पैदा हो गई।जहां खमेर रुज के कहने पर कियांग ने यहां भी क्रूरता की सारी हदें पार कर डाली थीं।कियांग ने इस प्रकार युद्ध का मोर्चा संभाला कि इस युद्ध में 17 लाख लोगों की जान ले ली।जहां यह 17 लाख लोग कंबोडिया की उस समय की कुल आबादी का 25 प्रतिशत हिस्सा थे यानि कंबोडिया की 25% आबादी को मार डाला गया था।

2009 में कियांग गुयेक इआव को मिली उसके अपराधों की सजा…

कियांग को संयुक्त राष्ट्र समर्थित न्यायाधिकरण ने साल 2009 में आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।कियांग को मानवता का दुश्मन माना गया था।वहीं, साल 2009 में आजीवन कारावास की सजा मिलने के बाद साल 2013 में कियांग को कंदाल प्रांतीय जेल में स्थानांतरित किया गया था।कियांग खमेर रूज शासन का पहला ऐसा शीर्ष अधिकारी रहा जिसको सजा सुनाई गई।

Check Also

नाग से शादी करने पर अड़ी लड़की, बोली- सपने में आकर मुझसे कहा है कि मेरी नागिन बनोगी VIDEO

नई दिल्ली: एक लड़की ने जोरोशोरों से यह दावा किया कि उसके सपने में एक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel