आलोक वर्मा की सीबीआई निदेशक पद से छुट्टी - Arth Parkash
Saturday, March 23, 2019
Breaking News
Home » देश » आलोक वर्मा की सीबीआई निदेशक पद से छुट्टी
आलोक वर्मा की सीबीआई निदेशक पद से छुट्टी
CBI निदेशक आलोक वर्मा

आलोक वर्मा की सीबीआई निदेशक पद से छुट्टी

सेलेक्शन कमेटी ने 2-1 के बहुमत से लिया गया हटाने का फैसला

नई दिल्ली। सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को उनके पद से हटा दिया गया है। पीएम के घर हुई सेलेक्शन पैनल की बैठक में यह फैसला लिया गया। बैठक में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खडग़े और न्यायमूर्ति एके सीकरी भी थे। न्यायमूर्ति सीकरी देश के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की तरफ से उपस्थित हुए। इससे पहले पैनल की बुधवार को भी बैठक हुई थी जो कि बेनतीजा रही थी।
चयन समिति ने आलोक वर्मा को 2-1 के बहुमत से हटाने का फैसला किया।

हालांकि उनका कार्यकाल 31 जनवरी तक का है। मल्लिकार्जुन खडग़े ने वर्मा को हटाने के फैसले का विरोध किया जबकि पीएम मोदी और जस्टिस सीकरी वर्मा को हटाने के पक्ष में थे। सीवीसी की रिपोर्ट में वर्मा पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए थे। आलोक वर्मा को एनएचआरसी में पदस्थापित किए जाने की संभावना है। आलोक वर्मा ने बुधवार को पदभार पुन: संभालते हुए एम. नागेश्वर राव द्वारा किए गए ज्यादातर तबादले रद कर दिए।राव वर्मा की अनुपस्थिति में अंतरिम सीबीआई प्रमुख नियुक्त किए गए थे।

सुप्रीम कोर्ट ने किया था बहाल ….

बता दें सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को आलोक वर्मा को उनके पद पर बहाल कर दिया था। उन्हें सरकार ने करीब दो महीने पहले जबरन छुट्टी पर भेज दिया था। आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने एक-दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे जिसके बाद उन्हें जबरन छुट्टी पर भेज दिया गया था। वर्मा ने सीबीआई से उन्हें हटाए जाने के फैसले को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने वर्मा को जबरन छुट्टी पर भेजने के केंद्र के निर्णय को रद कर दिया। हालांकि वर्मा के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों पर सीवीसी की जांच पूरी होने तक उन पर (वर्मा) कोई भी महत्वपूर्ण नीतिगत निर्णय लेने पर रोक लगा दी थी।

खडग़े ने कहा था, वर्मा को मिले पक्ष रखने का मौका …..

उच्चस्तरीय समिति की बैठक से पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खडग़े ने कहा कि उन्होंने मामले में केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) की जांच रिपोर्ट सहित कई दस्तावेज मांगे हैं। उन्होंने वीरवार को पत्रकारों से कहा, ‘मैंने मामले में सीवीसी की जांच रिपोर्ट सहित कुछ दस्तावेज देने के लिए कहा है। उन्होंने कहा था कि आलोक वर्मा को भी समिति के सामने उपस्थित होने का मौका मिलना चाहिए और उन्हें अपना पक्ष रखने का मौका देना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share