जिसकी जिंदगी में योग, उसके जीवन में रहता नहीं कोई रोग
Saturday, September 22, 2018
Breaking News
Home » Photo Feature » जिसकी जिंदगी में योग, उसके जीवन में रहता नहीं कोई रोग
  • 'योग भगाए रोग'

    'योग भगाए रोग' किसी योग करने वाले ने क्या खूब लिखा है। कुछ आसान से आसान अगर योग्य परीक्षक के दिशा निर्देश से किए जाएं तो आप अपनी जिंदगी में खुशियों का वह खजाना ला सकते हैं

  • 'योग भगाए रोग'

    'योग भगाए रोग' किसी योग करने वाले ने क्या खूब लिखा है। कुछ आसान से आसान अगर योग्य परीक्षक के दिशा निर्देश से किए जाएं तो आप अपनी जिंदगी में खुशियों का वह खजाना ला सकते हैं

जिसकी जिंदगी में योग, उसके जीवन में रहता नहीं कोई रोग

चंडीगढ़: ‘योग भगाए रोग’ किसी योग करने वाले ने क्या खूब लिखा है। कुछ आसान से आसान अगर योग्य परीक्षक के दिशा निर्देश से किए जाएं तो आप अपनी जिंदगी में खुशियों का वह खजाना ला सकते हैं जिसको ‘निरोगता’ कहा जाता है| योग साधना का हमारे भारत के इतिहास में बहुत महत्व रखता है अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस प्रतिवर्ष 21 जून को मनाया जाता है| जिसकी घोषणा 27 सितंबर 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्रीय अमेरिका में अपने भाषण में की जिसके बाद संयुक्त राष्ट्र की 193 सदस्य टीम ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की हामी भर दी।

21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर विशेष………..

ज्ञात रहे कि पिछले वर्ष इसी दिन प्रधानमंत्री द्वारा सरकारी गैर सरकारी संस्थानों में सभी के लिए योग शिविर लगाकर लोगों को योग के लिए प्रेरित किया आजकल देखा गया है कि इंसान इस भाग दौड़ की जिंदगी में अपने आप को भूल सा गया है लेकिन योग एक ऐसा साधन है जो ना केवल अपने आप को याद दिलाता है बल्कि आप को फिट रखता है खुश रखता है और आपके शरीर में ऊर्जा को बढ़ावा देता है| जो लोग प्रतिदिन योग प्रशिक्षक के दिशा निर्देश में योग कार्य करते हैं |उनका वजन ठीक रहता है चिंता की बजाय उनका मन चिंतन में लगता है सकारात्मक विचारों का प्रभाव प्रवाह होता है मनोबल बड़ा रहता है जिससे वह अपने जीवन में खुशी और पॉजिटिव एनर्जी फील करता है। 21 जून का दिन को मनाने के लिए भारत सरकार द्वारा विशेष तैयारी की गई है और इसे देश में फैलाने के लिए केंद्र सरकार के साथ-साथ संतों महात्माओं का विशेष योगदान रहा है जिसमें प्रमुखता बाबा रामदेव और डेरा सच्चा सौदा के संत गुरमीत राम रहीम सिंह जी इंसा के साथ और भी संतों के साथ हम सब इस योग दिवस को सफल बना पाए हैं|

इस दिन आयुष मंत्रालय ने पिछले वर्ष भारत में खास व्यवस्था की थी बड़ी संख्या में लोगों ने नई दिल्ली के राजपथ पर 35 मिनट में 21 योगासन करवाए और दुनिया भर में लाखों लोगों को योग समर्पित किया और इस वर्ष भी आयुष मंत्रालय द्वारा इन की पूरी तैयारी है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग योग के साथ जुड़ सके। यहां ये याद दिला दें कि एनसीसी द्वारा कई स्थानों पर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर प्रदर्शन करके ‘एकल वर्दीधारी युवा’ संगठन द्वारा सबसे बड़ा योग प्रदर्शन किया जिसको लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड में प्रवेश किया गया। देश में योग तो प्राचीनतम है पर इसके लिए लोगों में इसके प्रति रुझान के लिए बाबा रामदेव ने बहुत बड़ा योगदान दिया उन्हें तो हरियाणा सरकार ने योग का ब्रांड एंबेसडर बना दिया।

योग में सभी आसन एवं प्राणायाम का विशेष महत्व है पर इसे किसी के सानिध्य में करना उचित है गलत तरीके से किए गए आसन आपकी जिंदगी में विकार उत्पन्न कर सकते हैं ।सूर्य नमस्कार ,सुदर्शन क्रिया और अलोम विलोम यह बहुत ही प्रचलित आसन है अगर इन विधाओं को आप अपनी दिनचर्या का विभिन्न अंग बनाते हैं तो आपको इसके अनगिनत लाभ तो होंगे ही होंगे और आप बीमारियों से कोसों दूर रहकर एक निरोग जीवन जी सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share