Home » Photo Feature » ऐसी जगह जहां कौन कब हो जाए गायब, किसको पता, जाने ऐसी रहस्य भरी जगहों के बारे में
most-mysterious-places-around-the-world

ऐसी जगह जहां कौन कब हो जाए गायब, किसको पता, जाने ऐसी रहस्य भरी जगहों के बारे में

By – पूजा यादव

वैसे तो हमारी दुनिया की प्रकृति की सुंदरता का कोई मुकाबला नहीं, परन्तु यहां कई नज़ारे ऐसे है जिन पर विश्वास कर पाना बहुत मुश्किल है कि धरती पर ऐसी अनोखी जगह भी है। वह एक मिस्ट्री कि तरह है जो ना हम आम लोग सुलझा पाए है और ना ही वैज्ञानिक उनका पता लगा पाए है।

देखिए कुछ ऐसी जगहों के बारे में..

एंजिकुनी लेक के पास इनुइट गांव

एंजिकुनी लेक के पास इनुइट गांव –
कनाडा का यह इनुइट गांव जो एक रात में पूरी तरह से गायब हो गया। यहां तक कि इस जगह का कोई नामोनिशान भी नहीं बचा। यहां रहने वाले लोग रातों रात कहां चले गए इसका भी पता नहीं चला। लोगों के समान से लेकर हथियार तक अपनी ही जगह पर मिले और वहां के कुते भी अपनी जगह जमे हुए मिले। कहा जाता है कि वो भूखमरी का शिकार हो गए थे, परंतु वहां खाना भी बिखरा हुआ पड़ा था। कुछ लोगों का कहना है कि एलियंस वहां के लोगों को अगवा करके ले गए।

रेस्ट्रैक प्लाया, डैथ वेली

रेस्ट्रैक प्लाया, डैथ वेली –
अमेरिका के कैलिफोर्निया में एक जगह ऐसी है जहां पत्थर अपने आप खिसकते है। इन पत्थरों को सेलिंग स्टोंस का नाम दिया गया है। इन्हे रेस्ट्रैक एरिया में 320 किलो तक के पत्थरों को जगह बदलते देखा गया है। इसे लेकर कई साइंटिस्ट रिसर्च कर रहे है। इसमें यह बात भी सामने आई है कि सर्द रात में ये बर्फ की पैनल्स की मदद से 224 मीटर तक दूरी तय कर लेते है।

बरमूडा ट्राएंगल

बरमूडा ट्राएंगल –
यह ऐसी जगह है जहां पहुंचते ही बड़े से बड़े समुंद्री और हवाई जहाज गायब हो जाते है। यह जगह अमेरिका के फ्लेरिडा, प्युट्रोरीको और बरमूडा तीनों को जोड़ने वाला एक ट्राएंगल है। इस ट्राएंगल के पास जैसे ही पहुंचते है ना जहाज मिलता है और ना ही कोई यात्री मिलता है। यहां वैज्ञानिक कई सालो से इस रहस्य को सुलझाने में लगे हुए है कि आखिर अंटलाटिका महासागर की गहराई में ऐसा क्या है जो बरमूडा ट्राएंगल पर आए जहाजों को कहा जाता है।

डोर टू हेल

डोर टू हेल, तुर्कमेनिस्तान –
इसे आग का गोला डोर टू हेल यानी कि नरक के दरवाजे के नाम से जाना जाता है। यह कराकुम रेगिस्तान के दर्वेज गांव में मौजूद है। ये गढ्ढा एक गैस केरटर है जो मीथेन गैस के चलते पिछले 45 वर्षों से जल रहा है। इसकी गहराई 65 फीट है और चौड़ाई 229 फीट है।

आइलैंड ऑफ डॉल्स

आइलैंड ऑफ डॉल्स –
आइलैंड ला इस्ला दी ला मुनेकॉस , यह डॉल्स आइलैंड के नाम से बहुत मशहूर है। यह मेक्सिको सिटी से 17 मील साउथ की दूरी पर स्थित है। यहां पर हजारों की संख्या में डरावनी और टूटी फूटी गुड़िया लटकी हुई है। कहा जाता है कि इस आइलैंड पर जाने वाले की मौत हो जाती है और बाद में वो एक डॉल के रूप में किसी भी पेड़ पर टंगा मिलता है, परंतु यह कितना सच है इसके बारे में कहना अत्यंत मुश्किल है।

Check Also

बॉलीवुड के हास्य अभिनेता जगदीप जाफरी का निधन

मुंबई, 09 जुलाई: बीते जमाने की मशहूर फिल्म शोले के ‘सूरमा भोपाली’ बॉलीवुड के हास्य …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel