Home » Photo Feature » टॉन्सिल की तकलीफ से बचना है तो अपनाए ये घरेलु नुस्खे, जानें इसके लक्षण और बचाव!
Tonsil symptoms and prevention!

टॉन्सिल की तकलीफ से बचना है तो अपनाए ये घरेलु नुस्खे, जानें इसके लक्षण और बचाव!

हमारे गले के दोनों तरफ अंग हैं जिन्हें टॉन्सिल्स कहा जाता है। किसी तरह के बैक्टीरिया या इंफेक्शन के संपर्क में आने पर इनमें सूजन आ जाती है, जिससे कुछ भी खाने-पीने के साथ सलाइवा निगलने में भी बेहद दर्द होता है। आमतौर पर इनका रंग हमारी जीभ जैसा यानी गुलाबी रंग का होता है लेकिन इंफेक्शन होने पर यह सुर्ख लाल हो जाते हैं और इन पर सफेद स्पॉट भी दिखाई देने लगते हैं। टॉन्सिलाइटिस होना इस बात का संकेत होता है कि आपका शरीर संक्रमण की चपेट में आ चुका है।

आमतौर पर गले और फिर कानों में होने वाले दर्द को जुखाम से जोड़कर देखा जाता है। गले का दर्द टॉन्सिलाइटिस का शुरुआती लक्षण भी हो सकता है। समय पर इलाज नहीं लेने पर आपको बहुत अधिक दर्द के साथ ही बुखार आदि जैसी अन्य समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है।

ऐसे होते हैं लक्षण

गले में दर्द और खराशगले से लेकर कानों तक दर्द होना

निगलने में दिक्कत होना

बुखार आना

आवाज़ प्रभावित होना

गले में दर्द के साथ सिरदर्द होना

टॉन्सिल्स में दर्द होना और गला सूज जाना

छोटे बच्चों में इसके कारण पेट में दर्द जैसे लक्षण भी होते हैं।

गर्दन में दर्द

टॉन्सिलाइटिस के लक्षणों का प्रभावी रूप से उपचार या कम करने के लिए कई घरेलू उपचार हैं:

Salt water gargling

नमक के पानी से गरारा- गर्म नमक के पानी से गरारे करने और कुल्ला करने से गले में खराश और टॉन्सिलाइटिस से होने वाले दर्द को दूर करने में आराम मिल सकता है।

Warm tea with raw honey.

गर्म चाय के साथ शहद यदि आपको बुखार से लगातार गले में दर्द या गले में खराश जो 24 से 48 घंटों के भीतर दूर नहीं होती है, निगलने में तकलीफ होती है तो आपको अपने डॉक्टर को तुरंत देखने की जरूरत है।

आपको बता दें कि आपकी रोजमर्रा की ऐसी कई सी गलतियां हैं जिनकी वजह से आप टॉन्सिल का शिकार हो सकते हैं…

not wash hands before eating

खाने से पहले हाथ न धोना
अगर खाना खाने से पहले हाथ नहीं धोते हैं तो आपको टॉन्सिल रोग हो सकता है क्योंकि टॉन्सिल का इंफेक्शन हानिकारक बैक्टीरिया के कारण फैलता है। ऐसे में हाथों में लगे बैक्टीरिया खाने के साथ जब आपके गले से गुजरते हैं तो टॉन्सिल के आसपास चिपक जाते हैं और इंफेक्शन का कारण बनते हैं।

जूठे खाने की आदत

जूठा खाने की आदत
कई लोग खाने-पीने में जूठे का फर्क नहीं देखते हैं। हालांकि ऐसा करते समय वे यह भूल जाते हैं कि हर व्यक्ति के सलाइवा में अलग-अलग बैक्टीरिया मौजूद होते हैं और कई बार दूसरे के मुंह के बैक्टीरिया आपके मुंह में जाने से इंफेक्शन हो सकता है। इससे टॉन्सिल की समस्या हो सकती है।

Habit of drinking less water

कम पानी पीने की आदत
कम पानी पीने से भी टॉन्सिलाइटिस होने का खतरा होता है। दरअसल, खाना खाते वक्त भोजन के छोटे-छोटे कण मुंह में चिपके रह जाते हैं। खाना खाने के बाद पानी से कुल्ला करते हैं, तब मुंह के कण तो निकल जाते हैं, लेकिन गले और आहार नली में कण चिपके रह जाते हैं। इसलिए खाना खाने के 15 मिनट बाद पानी जरूर पिएं और रोजाना कम से कम 4-5 लीटर पानी पिएं।

Check Also

इस नौजवान IPS अफसर की बातें आपके अंदर एक जज्बे को जन्म देंगी, यकीन नहीं होता तो पढ़िए

नई दिल्ली: जब आप किसी वजह से अंदर से टूट जाते हैं या टूटने की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel