Home » धर्म/संस्कृति » रुद्राक्ष के असली और नकली होने की पहचान ऐसे करें
रुद्राक्ष के असली और नकली होने की पहचान ऐसे करें
रुद्राक्ष के असली और नकली होने की पहचान ऐसे करें

रुद्राक्ष के असली और नकली होने की पहचान ऐसे करें

नई दिल्ली: आपने जो रुद्राक्ष पहना है या रुद्राक्ष की माला पहनी है क्या वह असली है|कहीं आप नकली रुद्राक्ष तो नहीं पहन रहे|क्योंकि आजकल असली से ज्यादा नकली रुद्राक्ष बाजार में उपलब्ध हैं|

रुद्राक्ष एक आशीर्वाद……..

रुद्राक्ष भगवान शिव का अंश है|माना जाता है कि रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शंकर भगवान के आंसु से हुई है।रुद्राक्ष मनुष्यों के लिए बड़ा ही हितकारी है|ऐसा माना जाता है कि रुद्राक्ष धारण करते साथ ही व्यक्ति को महादेव का आशीर्वाद प्राप्त हो जाता है।कहा जाता है रुद्राक्ष तीनों लोकों यानि स्वर्ग, नर्क और धरती पर प्रसिद्ध है और इसका स्पर्श करने से एक लाख गुना, पहनने से कोटि गुना और माला जप करने से व्यक्ति को अनंत कोटि गुना पुण्य मिलताहै।साथ ही रुद्राक्ष को धारण करने वाला व्यक्ति पृथ्वी पर कहीं भी निडर होकर घूम सकता है।

आपको पता नहीं होगा कि, आध्यात्मिक शक्तियों के अलावा रुद्राक्ष के आयुर्वैदिक औषधीय गुण भी है और इसका वर्णन हमारे कई ग्रंथों में भी देखने को मिलता है।यह बहुत ज्यादा गुणवान है।सभी जानते हैं मोबाइल, इलेक्ट्रानिक डिवाइटस, टेलीफोन टॉवर आदि से जो रेडिएशन निकलते है वो हमारे शरीर के लिये बेहद हानिकारक होते है और उनसे अनेकों बिमारियां होती है। उन सभी बीमारियों का उपचार रुद्राक्ष धारण करने से हो सकता है।इसके अलावा रुद्राक्ष के चूर्ण या रुद्राक्ष को पानी मे भीगोकर उस पानी का नियमित सेवन करने से बीपी,डायबिटीज, हृदय की बीमारियों का उपचार होता है और इसके सेवन से बुद्धि एवं स्मरण शक्ति का विकास भी होता है।

कैसे करें असली रुद्राक्ष की तुरंत पहचान……..असली-नकली रुद्राक्ष की पहचान कोई बहुत मुश्किल नहीं है|

  • रुद्राक्ष की पहचान के लिए रुद्राक्ष को कुछ देर तक पानी में उबालें यदि रुद्राक्ष का रंग न निकले या उस पर किसी प्रकार का कोई असर न हो, तो वह असली होगा।
  • तांबे का एक टुकड़ा नीचे रखकर उसके ऊपर रूद्राक्ष रखकर फिर दूसरा तांबे का टुकड़ा रूद्राक्ष के ऊपर रख दिया जाये और एक अंगुली से हल्के से दबाया जाये तो असली रूद्राक्ष नाचने लगता है।यह पहचान अभी तक प्रमाणिक हैं।
  • शुद्ध सरसों के तेल में रूद्राक्ष को डालकर 10 मिनट तक गर्म किया जाये तो असली रूद्र्राक्ष होने पर वह अधिक चमकदार हो जायेगा और यदि नकली है तो वह धूमिल हो जायेगा।
  • रूद्राक्ष की पहचान के लिए उसे सुई से कुरेदें। अगर रेशा निकले तो असली और न निकले तो नकली होगा।

Check Also

चंडीगढ़: चोरों ने फिर एयरफोर्स जवान के घर में की चोरी, काफी सामान ले उड़े

चंडीगढ़: चोरों ने फिर एयरफोर्स जवान के घर में की चोरी, काफी सामान ले उड़े

रिपोर्ट- रंजीत शम्मी चंडीगढ़। थाना 31 क्षेत्र एरिया के अंतर्गत चोरों ने एक बार फिर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel