मर्यादित जीवन जीने की शिक्षा लेकर जाएं रामायण के पात्रों से

मर्यादित जीवन जीने की शिक्षा लेकर जाएं रामायण के पात्रों से

मर्यादित जीवन जीने की शिक्षा लेकर जाएं रामायण के पात्रों से -------कैलाश चन्द जैन

रामलीला का मंचन हमारी संस्कृति है

चंडीगढ 11 अक्टूबर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता एवं उद्योग व्यापार मंडल के अध्यक्ष कैलाश चंद जैन कल चंडीगढ़ रामलीला कमेटी सेक्टर 22 बी द्वारा मंचित रामलीला में मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा लिया। इस अवसर पर कैलाश चंद जैन ने कहा रामलीला का मंचन हिंदुस्तानी संस्कृति है। रामलीला में भगवान रामचंद्र जी के जीवन से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है  विशेष तौर से जीवन मे मर्यादा का पालन कैसे करना चाहिए यह सीखने को मिलता है।  एक बाप और बेटे की मर्यादा , भाई  भाई की मर्यादा, पति पत्नी की मर्यादा हर प्रकार के जीवन की मर्यादा, यहां तक कि दुश्मनी की भी मर्यादा सीखने को मिलती है। रामायण के हर पात्र से मर्यादा का पाठ पढ़ा जा सकता है। उन्होने कहा कि अगर हम रामलीला देख कर जाने में रामायण से संबंधित एक अंश भी अपने जीवन मे  आत्मसात कर ले तो रामलीला मंचन सरकार हो जाएगा । हमारी संस्कृति की नींव है रामलीला।
कैलाश जैन ने  चंडीगढ़ रामलीला कमेटी के सदस्यों को सुंदर रामलीला के मंचन के लिए शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर उनके साथ   उद्योग व्यपार मण्डल के वरिष्ठ सदस्य नरेश जैन,सुशील जैन, विजय पाल चौधरी, अशोक कपिला भी उपस्थित थे।


Comment As:

Comment (0)